Sunday, May 16, 2021
Home व्यक्ति विशेष काश यूँ हुआ होता : कहानी जयनाथ मिसरा की (भाग-1)

काश यूँ हुआ होता : कहानी जयनाथ मिसरा की (भाग-1)

By: अभिषेक कुमार 

“लड़का हुआ है”

शादी का माहौल था, 10 जून-1939, हर तरफ शोर, लोगों की भागदौड़। जयपुर की बड़ी कोठी थी। अब जितना बड़ा वैभव, उतना ही बड़ा जम घट, उतनी ही साध, उतनी ही आतिशबाजियां। 

कोठी के मालिक थे डॉ. राय बहादुर शम्भुनाथ मिसरा। पेशे से सर्जन थे। लाहौर मेडिकल कॉलेज से पढ़ाई पूरी की थी। ना तो यह अंग्रेज़ों के हितैषी थे और ना ही इन्हें उनसे कोई मुख़ालिफ़त थी। गोरों ने ही इन्हें राय बहादुर के उप-नाम से नवाज़ा था। आगरा और उरई में भी इनके दो तीन बड़े घर थे। लेकिन मुख्य रूप से इनका निवास उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में था। उधर इनके पास दो घोड़े  और एक मोटर कार भी थी। राय साहब बुलंदशहर के एक लौते डॉक्टर थे। किसी को सर्दी जुकाम हो या कोई बड़ी बीमारी, इलाज करने का ज़िम्मा इन्हीं के सिर था। और देखा जाए तो उस दिन  सुशीला के लिए भी राय साहब ही वरदान बने।

कोठी के शोरगुल में सुशीला के पास गोलाकार भीड़ लगी हुई थी। हरी साड़ी वाली औरत ने कहा – “लड़का हुआ है।” पर किसी को उसके रोने की आवाज़ नहीं आई। कोठी का सारा शोर शून्य में आ गिरा। राय साहब ने वहां खड़े नाटे कद के आदमी को कुछ इशारा किया। इशारे में किए आदेश का पालन हुआ। पैर पटकते हुए नाटे आदमी ने दो अलगअलग तसलों में ठंडा और गर्म पानी हाज़िर कर दिया। राय साहब की गोद में बच्चा था। उन्होंने कपड़े से मुट्ठी बनाई। लड़के के कूल्हों पर कभी ठंडे पानी की सेक करते तो कभी गर्म पानी की। ठंडा-गर्म, ठंडा-गर्म, ठंडा-गर्म। कुछ मिनट पहले ही पैदा हुए उस नन्ही जान से यह दर्द सहा ना गया कि आख़िरश वह रो पड़ा। और यही हुए डॉ. राय बहादुर शम्भुनाथ मिसरा के सबसे छोटे पोते- जयनाथ मिसरा।

जयनाथ मिसरा jainath Misra काश यूँ हुआ होता आम आदमी पार्टी
जयनाथ मिसरा (उम्र 8 साल)

मातृत्व के उन क्षणों में सुशीला का चेहरा भावहीन था। उस भारतीय नारी का यह सातवां बच्चा था। दो की मौत हो चुकी थी। बाकी दो लड़के स्कूल में थे। दोनों लड़कियाँ उसके बगल में बैठी अपने भाई को दो टूक देख रहीं थीं। सुशीला भी कभी बच्चे को देखती, कभी कैलाश को ढूंढने लगती। कैलाश नाथ मिसरा घर में आये नए मेहमान के पिता हैं। भीड़ कटती गयी पर कैलाश शायद उस भीड़ का हिस्सा नहीं था। या मुमकिन है कि वो भी उसी भीड़ के साथ कमरे से निकल गया हो। ऐसा सुशीला ने जयनाथ के माथे पर हाथ फेरते हुए सोचा।

शादी का सारा तामझाम खत्म होने पर सुशीला अपने बच्चों के साथ कलकत्ता लौट आई। कैलाश कुछ दिनों बाद लौटा। मिसरा खानदान का यह हिस्सा कलकत्ता में ही रहता था। कैलाश स्टॉक एक्सचेंज का काम करता था। उसके लिए धंधा रिश्तों से कुछ मीटर ऊपर था। अंग्रेज़ी ठाठ में रहने वाले कैलाश ने अपने दोनों बेटों मनमोहन और निरंजन का दाख़िला दार्जिलिंग के किसी प्राइवेट स्कूल में करा रखा था। दोनों वहीं हॉस्टल में रहते थे। इसी कारण से घर के शादी-ब्याह में उनकी हाज़िरी ना के बराबर रहती। कैलाश की जुड़वा  बेटियां दया और मंजू घर में ही पड़ी रहती थीं। मंजू, दया से पांच मिनट बड़ी थी। इन दोनों पर घर के कामों का बोझ ना था। यह सब सुशीला अकेले ही संभाल लिया करती। घर में एक और सदस्य के आ जाने के बाद भी सुशीला ने काम का टोकरा अपनी बेटियों के सिर नहीं पटका।

 

यह भी पढ़ें – ” दलित वर्ग के प्रति सदा ही संवेदनशील रहा हूँ ” – अनिल गाँधी

जयनाथ अब दस महीने का हो चुका था। उसी दौरान कैलाश ने एक दिन सुशीला से कहा – “परसों मैं तुम लोगों को पापा के पास छोड़ आऊंगा”, सुशीला ने कुछ सोचते हुए चेहरे से अपने पति की ओर देखा। कैलाश ने अपनी बात जारी रखी।

“बस इतना समझ लो कि हम लोग कलकत्ता में रह सकें, ऐसी हालत रही नहीं। इसलिए तुम लोग बुलंदशहर चले जाओ, दार्जिलिंग भी पत्र भिजवा ही दिया है। अगले हफ्ते वो दोनों भी सीधा वहीं आ जायेंगे। मुमकिन है कि अगले कुछ दिनों में मैं भी विदेश चला जाऊँ…बात जम गई उधर तो तुम लोगों को भी बुला लूँगा।”

यह बात सुशीला को अचानक ही पता चली। यानी कैलाश ने विदेश जाने का मन बहुत पहले ही बना लिया था। शायद इसलिए जयपुर से लौटते वक़्त वो हमारे साथ नहीं था। अपने पिता जी के साथ बुलंदशहर गया होगा। सुशीला के दिमाग में यह सारी बातें चल रहीं थीं मगर उसने सवाल खड़े नहीं किए। उसकी आदत में ही ज़्यादा पूछताछ करने वाला वायरस नहीं था। उसे मालूम था कि कैलाश का शेयर बाज़ार में काफी घाटा हुआ है। यही घाटा उसे अपने परिवार से दूर कर रहा था। 

लिहाज़ा सुशीला अपने बच्चों के साथ बुलंदशहर में रहने लगी। कैलाश भी अब इंग्लैंड की मिट्टी पर था। पराए आसमान के नीचे भूरे रंग के लम्बे कोट से ढके हुए कैलाश की नसों में क्षितिज से आ रही किरणों का बहाव हो रहा था। आख़िर यह बहाव उसे किस दिशा में ले जाने वाले था?

जीवनी का अगला पाठ आपको उसी दिशा में ले जायेगा…जहाँ एक बेटे की कुंठा, एक पत्नी का अकेलापन और एक माँ की लाचारी ख़ुद-बख़ुद मुखरित है।   

 

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी