Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
खेल

दिल्ली की गलियों से निकली कराटे किड ‘अमृतपाल कौर’

अमृतपाल कौर पिछले तीन वर्षों से लगातार दक्षिण एशियाई चैंपियनशिप में शीर्ष स्थान पर चल रही हैं। उनकी कहानी को सुजय जयराज द्वारा एक फिल्म के लिए चुना गया है।

अमृतपाल कौर ने कॉमनवेल्थ कराटे चैम्पियनशिप (2015) में स्वर्ण पदक जीता था। (सांकेतिक चित्र , Pixabay)

By – सुकांत दीपक

इसका श्रेय बैडमिंटन को देना चाहिए कि आज अमृतपाल कौर भारत में कराटे के मामले में जाना-पहचाना युवा चेहरा हैं और इसका श्रेय दिल्ली की सड़कों-गलियों को भी जाता है जिसने उन्हें मार्शल-आर्ट की क्लास लेने के लिए प्रेरित किया।


यहां तक कि उनकी कहानी को सुजय जयराज द्वारा एक फिल्म के लिए चुना गया है, जिन्होंने पूर्व विश्व नंबर एक बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल पर एक फिल्म बनाने का अधिकार भी हासिल किया है, और केटो पर कराटे खिलाड़ी के लिए एक फंडिंग कैम्पेन शुरू किया है।

कौर, याद करते हुए बताती हैं कि 13 साल की उम्र में, दिल्ली के तिलक नगर से बैडमिंटन कोर्ट जाना उनके लिए कई कारणों से किसी बुरे सपने जैसा था। 23 वर्षीय कराटे की खिलाड़ी ने कहा, “आत्मरक्षा एकमात्र कारण था जिस वजह से मैं कराटे सीखना चाहती थी। हालांकि, खेल के बारे में कुछ ऐसा था जिससे मुझे तुरंत ही इससे प्यार हो गया।”

पहले दो वर्षों के लिए एक पार्क में प्रशिक्षण लेने और अधिकांश मैच हारने के बाद, युवा खिलाड़ी को जल्द ही समझ में आ गया कि कुछ गड़बड़ है। तब उन्होंने अपनी जेब से पैसे बचाने का फैसला किया और साइबर कैफे पहुंचकर अजरबैजान के कराटे चैंपियन राफेल अगायेव के वीडियो देखने लगीं।

यह भी पढ़ें – अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस : हर पाँच में से एक लड़की ने किया यौन हिंसा का अनुभव

अमृतपाल कौर। (twitter)

कौर ने कहा, “तब मैंने महसूस किया कि मुझे जो सिखाया जा रहा था वह कुछ बहुत ही बुनियादी था। इसका मतलब यह भी था कि मुझे अपने आप पर कड़ी मेहनत करनी थी और अधिक समय आत्म-प्रशिक्षण के लिए समर्पित करना था।”

बेशक, अधिकांश भारतीय माता-पिता बच्चों की पढ़ाई को लेकर ज्यादा चिंतित रहते हैं, प्रशिक्षण के लंबे घंटों को लेकर वास्तव में उनके माता-पिता चिंतित थे, लेकिन अपने स्कूल के वर्षों के दौरान टॉपर रही और स्कॉलरशिप पा चुकीं कौर अपनी मां को भरोसे में लेने में कामयाब रहीं।

जब तक उन्होंने राजधानी के जानकी देवी मेमोरियल कॉलेज में इंग्लिश ऑनर्स कोर्स में दाखिला लिया, तब तक युवा खिलाड़ी राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर अपनी योग्यता साबित कर चुकी थी, जिसकी बदौलत दिल्ली सरकार ने उसे छात्रवृत्ति दी।

लेकिन प्रशिक्षण मामले में सरकार की ओर से बिना किसी समर्थन के और क्वालिफाइंग मैचों के लिए अंतर्राष्ट्रीय गंतव्यों के लिए उड़ान भरना उनके लिए मुश्किल हो गया।

यह भी पढ़ें – मेरा मानसिक स्वास्थ्य, हाय तौबा ज़िंदाबाद !

कौर ने कहा, “एक बार एक सिख संगठन ने मुझे तुर्की में प्रशिक्षिण प्राप्त करने के लिए वित्तीय मदद की थी। क्वालीफाइंग मैचों के लिए जाने का मतलब है फ्लाइट टिकट, रहने का इंतजाम, गियर, प्रशिक्षण और भोजन .. यह कभी भी आसान नहीं है।”

कौर के लिए जिनका दिन सुबह 5 बजे शुरू होता है – ध्यान, तीन घंटे का प्रशिक्षण, ब्रेक और पांच घंटे का प्रशिक्षण फिर से, उनके लिए कराटे उनका जुननू है।

सभी बाधाओं को पार करने के बावजूद, यह तथ्य कि वह टोक्यो ओलंपिक में जगह नहीं बना सकी, जिससे उन्हें बहुत दुख हुआ। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा, “दो साल पहले शुरू होने वाले सभी क्वालीफाइंग मैच यूरोप में आयोजित किए गए, मैं इसे कैसे अफोर्ड कर सकती थी?”

लेकिन जिस समय उसके एक दोस्त ने इस बारे में ट्वीट किया, अभिनेता सोनू सूद की टीम पंद्रह मिनट में बाहर पहुंची और सर्जरी का खर्च उठाने का फैसला किया।

अमृतपाल कौर, अभी भी ज्यादा से ज्यादा प्रतियोगिताओं में भाग लेने की ख्वाहिश रखती हैं और आगे प्रशिक्षण के लिए तुर्की जाना चाहती हैं। (आईएएनएस)

Popular

आज के समय में लाल टोपी का मतलब सिर्फ लाल बत्ती है-नरेंद्र मोदी। (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) मंगलवार को गोरखपुर पहुंचे। मौका था 10 हजार करोड़ की परियोजनाओं का उद्घाटन करने का, लेकिन प्रधानमंत्री ने मंच का इस्तेमाल विरोधियों पर तंज कसने के लिए किया। समाजवादी पार्टी(Samaajvadi Party) का नाम लिए बिना मोदी ने कहा, 'आज पूरा यूपी अच्छी तरह जानता है कि लाल टोपी(Red Cap) का मतलब लाल बत्ती है। उन्हें आपके कष्टों से कोई लेना-देना नहीं है।'

प्रधानमंत्री ने कहा, 'लाल टोपी वाले लोगों को घोटालों के लिए, अपना खजाना भरने के लिए, अवैध कब्जे के लिए, माफिया को खुली लगाम देने के लिए सत्ता की जरूरत है। लाल टोपी वालों को सरकार बनानी है, आतंकवादियों पर दया करनी है, आतंकवादियों को जेल से छुड़ाना है। याद रहे, यूपी के लिए रेड कैप यानी खतरे की घंटी वाला रेड अलर्ट है.'

Keep Reading Show less

भारत के पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री (File Photo)

भारत के पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री(Ravi Shastri) ने सोमवार को राष्ट्रीय टीम और कप्तान विराट कोहली(Virat Kohli) की टेस्ट क्रिकेट को अपनाने और 'पिछले पांच वर्षो में फॉर्मेट के राजदूत' होने के लिए प्रशंसा की। मुंबई(Mumbai) में सीरीज के फाइनल में विश्व टेस्ट चैंपियंस(WTC) पर 372 रन की जीत के बाद न्यूजीलैंड को हराकर टीम इंडिया ने आईसीसी रैंकिंग में शीर्ष स्थान हासिल किया।


Keep Reading Show less

विशाल गर्ग (Twitter)

बेटर डॉट कॉम(Better.com) के भारतीय मूल(Indian Origin) के सीईओ विशाल गर्ग(Vishal Garg) तब से सुर्खियां बटोर रहे हैं, जब उन्होंने जूम कॉल पर 900 से अधिक कर्मचारियों, लगभग 9 प्रतिशत कर्मचारियों को अचानक निकाल दिया।

कथित तौर पर कर्मचारियों में से एक द्वारा रिकॉर्ड किए गए अब वायरल वीडियो में, गर्ग को पिछले बुधवार को यूएस-आधारित कंपनी के कर्मचारियों को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि उन्हें बाजार की दक्षता, प्रदर्शन और उत्पादकता पर निकाल दिया जा रहा है।

Keep reading... Show less