Tuesday, June 15, 2021
Home खेल दिल्ली की गलियों से निकली कराटे किड 'अमृतपाल कौर'

दिल्ली की गलियों से निकली कराटे किड ‘अमृतपाल कौर’

अमृतपाल कौर पिछले तीन वर्षों से लगातार दक्षिण एशियाई चैंपियनशिप में शीर्ष स्थान पर चल रही हैं। उनकी कहानी को सुजय जयराज द्वारा एक फिल्म के लिए चुना गया है।

By – सुकांत दीपक

इसका श्रेय बैडमिंटन को देना चाहिए कि आज अमृतपाल कौर भारत में कराटे के मामले में जाना-पहचाना युवा चेहरा हैं और इसका श्रेय दिल्ली की सड़कों-गलियों को भी जाता है जिसने उन्हें मार्शल-आर्ट की क्लास लेने के लिए प्रेरित किया।

यहां तक कि उनकी कहानी को सुजय जयराज द्वारा एक फिल्म के लिए चुना गया है, जिन्होंने पूर्व विश्व नंबर एक बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल पर एक फिल्म बनाने का अधिकार भी हासिल किया है, और केटो पर कराटे खिलाड़ी के लिए एक फंडिंग कैम्पेन शुरू किया है।

कौर, याद करते हुए बताती हैं कि 13 साल की उम्र में, दिल्ली के तिलक नगर से बैडमिंटन कोर्ट जाना उनके लिए कई कारणों से किसी बुरे सपने जैसा था। 23 वर्षीय कराटे की खिलाड़ी ने कहा, “आत्मरक्षा एकमात्र कारण था जिस वजह से मैं कराटे सीखना चाहती थी। हालांकि, खेल के बारे में कुछ ऐसा था जिससे मुझे तुरंत ही इससे प्यार हो गया।”

पहले दो वर्षों के लिए एक पार्क में प्रशिक्षण लेने और अधिकांश मैच हारने के बाद, युवा खिलाड़ी को जल्द ही समझ में आ गया कि कुछ गड़बड़ है। तब उन्होंने अपनी जेब से पैसे बचाने का फैसला किया और साइबर कैफे पहुंचकर अजरबैजान के कराटे चैंपियन राफेल अगायेव के वीडियो देखने लगीं।

यह भी पढ़ें – अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस : हर पाँच में से एक लड़की ने किया यौन हिंसा का अनुभव

Amritpal Kaur
अमृतपाल कौर। (twitter)

कौर ने कहा, “तब मैंने महसूस किया कि मुझे जो सिखाया जा रहा था वह कुछ बहुत ही बुनियादी था। इसका मतलब यह भी था कि मुझे अपने आप पर कड़ी मेहनत करनी थी और अधिक समय आत्म-प्रशिक्षण के लिए समर्पित करना था।”

बेशक, अधिकांश भारतीय माता-पिता बच्चों की पढ़ाई को लेकर ज्यादा चिंतित रहते हैं, प्रशिक्षण के लंबे घंटों को लेकर वास्तव में उनके माता-पिता चिंतित थे, लेकिन अपने स्कूल के वर्षों के दौरान टॉपर रही और स्कॉलरशिप पा चुकीं कौर अपनी मां को भरोसे में लेने में कामयाब रहीं।

जब तक उन्होंने राजधानी के जानकी देवी मेमोरियल कॉलेज में इंग्लिश ऑनर्स कोर्स में दाखिला लिया, तब तक युवा खिलाड़ी राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर अपनी योग्यता साबित कर चुकी थी, जिसकी बदौलत दिल्ली सरकार ने उसे छात्रवृत्ति दी।

लेकिन प्रशिक्षण मामले में सरकार की ओर से बिना किसी समर्थन के और क्वालिफाइंग मैचों के लिए अंतर्राष्ट्रीय गंतव्यों के लिए उड़ान भरना उनके लिए मुश्किल हो गया।

यह भी पढ़ें – मेरा मानसिक स्वास्थ्य, हाय तौबा ज़िंदाबाद !

कौर ने कहा, “एक बार एक सिख संगठन ने मुझे तुर्की में प्रशिक्षिण प्राप्त करने के लिए वित्तीय मदद की थी। क्वालीफाइंग मैचों के लिए जाने का मतलब है फ्लाइट टिकट, रहने का इंतजाम, गियर, प्रशिक्षण और भोजन .. यह कभी भी आसान नहीं है।”

कौर के लिए जिनका दिन सुबह 5 बजे शुरू होता है – ध्यान, तीन घंटे का प्रशिक्षण, ब्रेक और पांच घंटे का प्रशिक्षण फिर से, उनके लिए कराटे उनका जुननू है।

सभी बाधाओं को पार करने के बावजूद, यह तथ्य कि वह टोक्यो ओलंपिक में जगह नहीं बना सकी, जिससे उन्हें बहुत दुख हुआ। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा, “दो साल पहले शुरू होने वाले सभी क्वालीफाइंग मैच यूरोप में आयोजित किए गए, मैं इसे कैसे अफोर्ड कर सकती थी?”

लेकिन जिस समय उसके एक दोस्त ने इस बारे में ट्वीट किया, अभिनेता सोनू सूद की टीम पंद्रह मिनट में बाहर पहुंची और सर्जरी का खर्च उठाने का फैसला किया।

अमृतपाल कौर, अभी भी ज्यादा से ज्यादा प्रतियोगिताओं में भाग लेने की ख्वाहिश रखती हैं और आगे प्रशिक्षण के लिए तुर्की जाना चाहती हैं। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी