Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
इतिहास

कारगिल दिवस पर वीर सपूतों की शौर्य गाथा!

कारगिल विजय दिवस की बात हो और कैप्टेन विक्रम बत्रा का नाम न लिया जाए तो वह हमारी भूल होगी। 'ये दिल मांगे मोर' यह कोड आज कारगिल के वीरों की पहचान बन गया है।

(NewsGram Hindi)

देश आज(26 जुलाई) को कारगिल विजय दिवस पर ऑपरेशन विजय की सफलता का जश्न मना रहा है, जिसे भारतीय सेना ने 1999 में जम्मू और कश्मीर के कारगिल-द्रास सेक्टर में पाकिस्तानी घुसपैठियों से भारतीय क्षेत्रों पर कब्जा करने के लिए भीषण युद्ध किया था। कारगिल विजय दिवस हर वर्ष भारत के सशस्त्र बलों के उन बहादुर सैनिकों के प्रति सम्मान के लिए मनाया जाता है, जिन्होंने पाकिस्तानी सेना द्वारा छल से कब्जाए गए इलाके को वापस मुक्त कराने के लिए अपने प्राण न्यौछावर कर दिए।

कारगिल विजय दिवस की बात हो और कैप्टेन विक्रम बत्रा का नाम न लिया जाए तो वह हमारी भूल होगी। 1999 के कारगिल युद्ध के कई नायक थे, जिन्होंने पाकिस्तानी घुसपैठियों से लड़ते हुए भारत के लिए अपने प्राणों की आहुति दी थी। उन्ही नायकों में से एक थे कैप्टेन विक्रम बत्रा जिन्हें इस बलिदान के लिए भारतीय सेना के सबसे उत्कृष्ट सम्मान ‘परम वीर चक्र’ से सम्मानित किया गया था।


9 सितंबर 1974 में जन्मे कैप्टन विक्रम बत्रा ने 6 दिसंबर 1997 को भारतीय सेना की जम्मू-कश्मीर राइफल्स की 13वीं बटालियन के साथ अपने सैन्य जीवन की शुरुआत की थी। जिस समय उन्हें कारगिल युद्ध के लिए बुलावा आया उस समय वह उत्तर-प्रदेश में तैनात थे। कैप्टन बत्रा 6 जून को द्रास पहुंचे और उन्हें राजपुताना राइफल्स की दूसरी बटालियन के लिए रिजर्व में रखा गया। जैसे-जैसे युद्ध आगे बढ़ रहा था, पाकिस्तानी घुसपैठियों से कब्जा किए गए इलाके हथियाने की कार्रवाई तेज की गई। इस बीच राजपुताना राइफल्स की दूसरी बटालियन को तोलोलिंग पर्वत श्रृंखला पर कब्जा करने करने का आदेश दिया गया।

शेरशाह के नेतृत्व भारतीय वीरों ने किया था कारगिल विजय।(Wikimedia Commons)

शेरशाह“(कैप्टेन बत्रा का कोड नाम) के नेतृत्व में पीक 5140 को हासिल करने के लिए चढ़ाई का दिन 20 जून 1999 तय किया गया और तय रणनीति के मुताबिक राजपुताना राइफल्स ने चढ़ाई शुरू की। कैप्टेन बत्रा और उनकी बटालियन ने आमने-सामने की लड़ाई में दुश्मन के ‘छक्के छुड़ा दिए’ और कुछ समय बड़े अधिकारीयों द्वारा कैप्टेन बत्रा का संदेश ट्रेस हुआ कि ‘दिल मांगे मोर’ यानि पीक 5140 पर भारतीय सेना ने अपना पताका लहरा दिया है।

यह भी पढ़ें: आजादी का बलिवेदी पर, मंगल पांडे बलिदान भइल

इसके उपरांत अब समय आया पॉइंट 4875 पर भारतीय परचम लहराने का। विक्रम बत्रा और उनकी बटालियन जोश से सराबोर थी। प्वाइंट 4875 की ऊंचाई लगभग 16,000 फीट थी और इसलिए इस चोटी को पुनः प्राप्त करने की लड़ाई बहुत खतरनाक होती चली गई, क्योंकि पाकिस्तानी घुसपैठियों ने चोटी से कैप्टन बत्रा और उनकी टीम पर मशीनगन से फायरिंग जारी रखा। जब कैप्टन बत्रा अपनी टीम के सदस्य को सुरक्षित निकालने की कोशिश कर रहे थे, तभी पाकिस्तानी घुसपैठियों ने उन पर हमला कर दिया। कैप्टन बत्रा खुद को गोलियों से बचने में सफल रहे, लेकिन एक ग्रेनेड का छर्रा उनके सिर में लगा और वह उसी समय शहीद हो गया।

‘ये दिल मांगे मोर’ यह कोड आज कारगिल के वीरों की पहचान बन गया है। कैप्टेन बत्रा और उनके जैसे कई वीर सिपाही जिन्होंने अपनी मातृभूमि के लिए अपने प्राण न्यौछावर कर दिए, वह आज हमारे बीच न होते हुए भी ऐसी ही वीर गाथाओं में जीवित हैं और पूरा भारत सदा उन्हें स्मरण करता रहेगा।

Popular

प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन (wikimedia commons)

हमारे देश में लव जिहाद के जब मामले आते है , तब इस मुद्दे पर चर्चा जोर पकड़ती है और देश कई नेता और जनता अपनी-अपनी राय को वयक्त करते है । एसे में एक प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन ने सोमवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होनें कहा कि यह मुस्लिम समुदाय नहीं बल्कि ईसाई हैं जो देश में धर्मांतरण और लव जिहाद में सबसे आगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी , जिसमे कहा गया था हिंदू पुरुषों द्वारा ईसाई धर्म महिलाओं को लालच दिया जा रहा है। नतेसन नें पाला बिशप जोसेफ कल्लारंगट की एक टिप्पणी जो कि विवादास्पद "लव जिहाद" और "मादक जिहाद" की भी जमकर आलोचना की और यह कहा कि इस मुद्दे पर "मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाना सही नहीं है"।

Keep Reading Show less

महंत नरेंद्र गिरि (Wikimedia Commons)

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की सोमवार को संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी मठ स्थित उनके आवास पर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि दोषियों को जांच के बाद सजा दी जाएगी। उन्होंने कहा ''यह एक दुखद घटना है और इसी लिए अपने संत समाज की तरफ से, प्रदेश सरकार की ओर से उनके प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त करने के लिए में स्वयं यहाँ उपस्थित हुआ हूँ। अखाड़ा परिषद और संत समाज की उन्होंने सेवा की है। नरेंद्र गिरि प्रयागराज के विकास को लेकर तत्पर रहते थे। साधु समाज, मठ-मंदिर की समस्याओं को लेकर उनका सहयोग प्राप्त होता था। उनके संकल्पों को पूरा करने की शक्ति उनके अनुयायियों को मिले''

योगी आदित्यनाथ ने कहा '' कुंभ के सफल आयोजन में नरेंद्र गिरि का बड़ा योगदान था। एक-एक घटना के पर्दाफाश होगा और दोषी अवश्य सजा पाएगा। मेरी अपील है सभी लोगों से की इस समय अनावश्यक बयानबाजी से बचे। जांच एजेंसी को निष्पक्ष रूप से कार्यक्रम को आगे बढ़ाने दे। और जो भी इसके लिए जिम्मेदार होगा उसको कानून की तहत कड़ी से कड़ी सजा भी दिलवाई जाएगी।

Keep Reading Show less

By: कम्मी ठाकुर, स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तम्भकार, हरियाणा

केजरीवाल सरकार की झूठ, फरेब, धूर्तता और भ्रष्टाचार की पोल खोलता 'बोल रे दिल्ली बोल' गीतरुपी शब्दभेदी बाण एकदम सटीक निशाने पर लगा है। सुभाष, आजाद, भगतसिंह जैसे आजादी के अमर शहीद क्रांतिकारियों के नाम व चेहरों को सामने रखकर जनता को बेवकूफ बना सुशासन ईमानदारी और पारदर्शिता का सब्जबाग दिखाकर सत्ता पर काबिज हुए अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी सरकार आज पूरी तरह से मुस्लिम तुष्टिकरण, भ्रष्टाचार, कुशासन एवं कुव्यवस्था के दल-दल में धंस चुकी है। आज केजरीवाल का चाल, चरित्र और चेहरा पूरी तरह से बेनकाब हो चुका है। दिल्ली में कोविड-19 के दौरान डॉक्टरों सहित सैकड़ों विभिन्न धर्म-संप्रदाय के मेडिकल स्टाफ के लोगों ने बतौर कोरोना योद्धा अपनी जाने गंवाई थी। लेकिन उन सब में केजरीवाल के चश्मे में केवल मुस्लिम डॉक्टर ही नजर आया, जिसके परिजनों को 'आप सरकार' ने एक करोड़ की धनराशि का चेक भेंट किया। किंतु बाकी किसी को नहीं बतौर मुख्यमंत्री यह मुस्लिम तुष्टिकरण, असंगति, पक्षपात आखिर क्यों ?

Keep reading... Show less