Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

काशी विश्वनाथ मंदिर पर कोर्ट ने ASI को दिए जांच के आदेश, अब जल्द स्वयंभू को अपना मूल स्थान प्राप्त होगा

काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद पर एक बार फिर कोर्ट का नया फैसला सामने आया है। कोर्ट ने इस मामले में Archaeological survey of India यानी भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण को, पूरे ज्ञानवापी परिसर को जांच करने के आदेश दिए हैं।

भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में एक ज्योतिर्लिंग यहां काशी विश्वनाथ मंदिर में स्तिथ है।

काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद पर एक बार फिर कोर्ट का नया फैसला सामने आया है। जिससे राजनीति में एक बार फिर हिन्दू – मुस्लिम के विवाद ने गरमा – गर्मी का माहौल कायम कर दिया है। कोर्ट ने इस मामले में Archaeological survey of India यानी भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण को, पूरे ज्ञानवापी परिसर को जांच करने के आदेश दिए हैं। यहां यह जान लेना आवश्यक है कि, यह मामला लगभग 350 वर्ष पुराना है। कोर्ट ने ज्ञानवापी परिसर की खुदाई के लिए, भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण (Archaeological survey of India) के पांच सदस्यों की टीम बनाने को कहा है। जिनमें से दो सदस्य मुस्लिम वर्ग से भी शामिल होंगे। कोर्ट ने यह भी कहा कि, अगर जांच में इससे जुड़े साक्ष्य मिलते हैं कि, मस्जिद से पहले वहां मंदिर था। तो टीम को यह भी बताना होगा कि, उस मंदिर की बनावट, उसकी शैली और उसका आकार कैसा था। इस मुकदमे में मूल रूप से, स्वयंभू ज्योतिर्लिंग विश्वेश्वर वकील विजय शंकर रस्तोगी जो भगवान शिव के वाद मित्र के तौर पर मौजूद हैं। अंजुमन इंतजामिया मस्जिद कमेटी और सेंट्रल वक्फ बोर्ड शामिल हैं। 

कोर्ट के इस फैसले के बाद समाज में मौजूद मुस्लिम कट्टरपंथियों की नाराजगी देखने को मिली है। आज अपने मस्जिद को बचाने के लिए ये लोग, अलग – अलग दलीलें पेश करते हैं। हमारे मंदिर को खंडित कर ये मुस्लिम समाज अपना अधिकार स्थापित करने में लगी है। ये लोग तब कहां थे जब हमारे मंदिर को तोड़ कर इन्होंने अपने अल्लाह का घर बना लिया था। 


इतिहास क्या है? 

काशी यानी वाराणसी को भगवान शिव की नगरी माना जाता है। भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक ज्योतिर्लिंग यहां काशी विश्वनाथ मंदिर में स्तिथ है। हमारे पुराणों, वेदों व स्कंद पुराण में इसका उल्लेख है कि, महाराजा विक्रमादित्य ने 200 वर्ष पूर्व, भगवान शिव के काशी विश्वनाथ मंदिर का निर्माण करवाया था। जो आज वाराणसी में गंगा के निकट हिन्दुओं की आस्था का एक महत्वपूर्ण केंद्र है। लेकिन आज जो मंदिर यहां स्थित है, वो मूल ज्योतिर्लिंग मंदिर नहीं है। 

मुगल शासक, औरंगजेब ने वर्ष 1669 में काशी विश्वनाथ मंदिर का विध्वंस कर यहां, ज्ञानवापी मस्जिद का निर्माण करवा दिया था। जिसको पुनः स्थापित 1780 में मालवा की रानी, अहिल्या बाई ने करवाया था। जो ठीक ज्ञानवापी मस्जिद के बगल में स्थित है। 

सच्चाई क्या है?

ऐतिहासिक दस्तावेज मिले हैं को कोलकाता के एशियाटिक लाइब्रेरी में आज भी मौजूद हैं। जो की औरंगजेब के शासन काल से ताल्लुक रखते हैं। जिसमें औरंगजेब ने अपने सूबेदार के नाम एक फरमान जारी किया था। जिसमें उसने मंदिरों को नष्ट करने का आदेश दिया था। 

इसके अतिरिक्त हिन्दू पक्ष का यह भी कहना है कि, मस्जिद की पश्चिमी दीवार हिन्दू कलाकृति का हिस्सा है। मस्जिद में कई ऐसी चीजें हैं, जिनसे मंदिर की झलक दिखाई देती है। मंदिर में नंदी की विशाल मूर्ति है, जिसकी दिशा मस्जिद की ओर है। जो यह संकेत देती है कि, वहां अवश्य ज्योतिर्लिंग था। जहां आज मस्जिद स्थित है। 

मुगल शासक, औरंगजेब ने वर्ष 1669 में काशी विश्वनाथ मंदिर का विध्वंस कर यहां, ज्ञानवापी मस्जिद का निर्माण करवा दिया था। (Wikimedia Commons)

मुद्दा क्या है? 

हिन्दू पक्ष का दावा है कि, इस मस्जिद के स्थान पर, इसके गुंबद के नीचे स्वयंभू विश्वेश्वर का लिंग विराजमान है। लेकिन मुस्लिम पक्ष इस बात की मनाही करता है। 

1809 में भी इस विषय को लेकर हिन्द – मुस्लिम समाज में दंगे – फसाद, मार – काट हो चुका है। मुस्लिम पक्ष का कहना है कि, वहां कोई मूल मंदिर नहीं है। ना कभी था। उस वक्त भी इस विषय पर कोर्ट ने कोई फैसला नहीं दिया था। 

1991 में वाराणसी के स्थायी वकील विजय शंकर रस्तोगी ने सिविल जज की अदालत में इस मुद्दे को लेकर याचिका दायर की थी। जिसमें उन्होंने ज्ञानवापी मस्जिद में पूजा करने की अनुमति मांगी थी। लेकिन तब कोर्ट ने 15 Aug 1991 Places of Worship Act का हवाला देकर इस विवाद को स्थगित कर दिया था। इस कानून के अनुसार देश के धार्मिक स्थलों पर 15 Aug 1947 को जो स्थिति कायम थी, किसी भी पूजा स्थलों पर वही स्थिति रहेगी। 

इसके बाद 2019 में मंदिर पक्ष ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण से सम्पूर्ण मंदिर और मस्जिद परिसर का सर्वेक्षण करने का अनुरोध किया था। जिसका बाद में फिर एक बार 2020 में अंजुमन इंतजामिया मस्जिद कमेटी द्वारा विरोध प्रकट किया गया।

यह भी पढ़ें:- काशी विश्वनाथ मंदिर के विध्वंस की कहानी

इतिहास गवाह है कि, मुस्लिमों ने हमेशा हमारे मंदिरों की भव्यता, लोगों की उससे जुड़ी आस्था को हमेशा विध्वंस कर वहां अपने मस्जिदों का निर्माण करवाया है। काशी विश्वनाथ मंदिर के अलावा इसका एक और उदाहरण अयोध्या का राम मंदिर भी है, जिसे मुस्लिम समाज ने तोड़कर वहां अपने मस्जिद का निर्माण करवाया था। यह विषय मात्र मंदिर या मस्जिद का नहीं है यह विषय हिन्दू धर्म का और इस धर्म से जुड़े लोगों की आस्था का है। जिसका मुस्लिम समाज ने हमेशा मज़ाक बनाया है। 

हालांकि कोर्ट के इस नए फैसले ने हिन्दू पक्षों में एक नई उम्मीद को जन्म दिया है। सदियों से हिन्दू – मुस्लिम संघर्ष का यह केंद्र जिसे मुगल शासक औरंगजेब द्वारा नष्ट कर दिया था, को जल्द ही नया फैसला मिलेगा। अब तक के मिले साक्ष्यों के मुताबिक, यहां भगवान शिव के मंदिर को तोड़ कर 1669 में मस्जिद अवश्य बनाई गई थी। लेकिन मुस्लिम समाज इस मत को मानने के पक्ष में बिल्कुल नहीं है। लेकिन भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण जल्द ही इस पर अपना नया और सही फैसला लेंगे।

Popular

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए योगी ने तारीफ की (wikimedia commons )

हमारा देश भारत अनेकता में एकता वाला देश है । हमारे यंहा कई धर्म जाती के लोग एक साथ रहते है , जो इसे दुनिया में सबसे अलग श्रेणी में ला कर खड़ा करता है । योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं । उन्होंने एक बयान में कहा कि नई थ्योरी में पता चला है कि पूरे देश का डीएनए एक है। यहां आर्य-द्रविण का विवाद झूठा और बेबुनियाद रहा है। भारत का डीएनए एक है इसलिए भारत एक है। साथ ही उन्होंने कहा की दुनिया की तमाम जातियां अपने मूल में ही धीरे धीरे समाप्त होती जा रही हैं , जबकि हमारे भारत देश में फलफूल रही हैं। भारत ने ही पूरी दुनिया को वसुधैव कुटुंबकम का भाव दिया है इसलिए हमारा देश श्रेष्ठ है। आप को बता दे कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को युगपुरुष ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ की व राष्ट्रसंत ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की पुण्यतिथि पर आयोजित एक श्रद्धांजलि समारोह का शुरुआत करने गये थे। आयोजन के पहले दिन मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी ऐसा भारतीय नहीं होगा जिसे अपने पवित्र ग्रन्थों वेद, पुराण, उपनिषद, रामायण, महाभारत आदि की जानकारी न हो। हर भारतीय परम्परागत रूप से इन कथाओं ,कहनियोंको सुनते हुए, समझते हए और उनसे प्रेरित होते हुए आगे बढ़ता है।

साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे यंहा के कोई भी वेद पुराण हो या ग्रंथ हो इनमे कही भी नहीं कहा गया की हम बहार से आये थे । हमारे ऐतिहासिक ग्रन्थों में जो आर्य शब्द है वह श्रेष्ठ के लिए और अनार्य शब्द का प्रयोग दुराचारी के लिए कहा गया है। मुख्यमंत्री योगी ने रामायण का उदाहरण भी दिया योगी ने कहा कि रामायण में माता सीता ने प्रभु श्रीराम की आर्यपुत्र कहकर संबोधित किया है। लेकिन , कुटिल अंग्रेजों ने और कई वामपंथी इतिहासकारों के माध्यम से हमारे इतिहास की किताबो में यह लिखवाया गया कि आर्य बाहर से आए थे । ऐसे ज्ञान से नागरिकों को सच केसे मालूम चलेगा और ईसका परिणाम देश लंबे समय से भुगतता रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए योगी ने कहा कि , आज इसी वजह से मोदी जी को एक भारत-श्रेष्ठ भारत का आह्वान करना पड़ा। आज मोदी जी के विरोध के पीछे एक ही बात है। साथ ही वो विपक्ष पर जम के बरसे। उन्होंने मोदी जी के बारे में आगे कहा कि उनके नेतृत्व में अयोध्या में पांच सौ वर्ष पुराने विवाद का समाधान हुआ है। यह विवाद खत्म होने से जिनके खाने-कमाने का जरिया बंद हो गया है तो उन्हें अच्छा कैसे लगेगा।

Keep Reading Show less

अल्जाइमर रोग एक मानसिक विकार है। (unsplash)

ऑस्ट्रेलिया के शोधकर्ताओं ने एक अभूतपूर्व अध्ययन में 'ब्लड-टू-ब्रेन पाथवे' की पहचान की है जो अल्जाइमर रोग का कारण बन सकता है। कर्टिन विश्वविद्यालय जो कि ऑस्ट्रेलिया के पर्थ शहर में है, वहाँ माउस मॉडल पर परीक्षण किया गया था, इससे पता चला कि अल्जाइमर रोग का एक संभावित कारण विषाक्त प्रोटीन को ले जाने वाले वसा वाले कणों के रक्त से मस्तिष्क में रिसाव था।

कर्टिन हेल्थ इनोवेशन रिसर्च इंस्टीट्यूट के निदेशक प्रमुख जांचकर्ता प्रोफेसर जॉन मामो ने कहा "जबकि हम पहले जानते थे कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों की पहचान विशेषता बीटा-एमिलॉयड नामक मस्तिष्क के भीतर जहरीले प्रोटीन जमा का प्रगतिशील संचय था, शोधकर्ताओं को यह नहीं पता था कि एमिलॉयड कहां से उत्पन्न हुआ, या यह मस्तिष्क में क्यों जमा हुआ," शोध से पता चलता है कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों के दिमाग में जहरीले प्रोटीन बनते हैं, जो रक्त में वसा ले जाने वाले कणों से मस्तिष्क में रिसाव की संभावना रखते हैं। इसे लिपोप्रोटीन कहा जाता है।

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Wikimedia Commons)

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) सम्मेलन को संम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चरमपंथ और कट्टरपंथ की चुनौतियों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए एससीओ द्वारा एक खाका विकसित करने का आह्वान किया। 21वीं बैठक को संम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मध्य एशिया में अमन के लिए सबसे बड़ी चुनौती है विश्वास की कमी।

इसके अलावा, पीएम मोदी ने विश्व के नेताओं से यह सुनिश्चित करने का आह्वान किया कि मानवीय सहायता अफगानिस्तान तक निर्बाध रूप से पहुंचे। मोदी ने कहा, "अगर हम इतिहास में पीछे मुड़कर देखें, तो हम पाएंगे कि मध्य एशिया उदारवादी, प्रगतिशील संस्कृतियों और मूल्यों का केंद्र रहा है।
"भारत इन देशों के साथ अपनी कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है और हम मानते हैं कि भूमि से घिरे मध्य एशियाई देश भारत के विशाल बाजार से जुड़कर अत्यधिक लाभ उठा सकते हैं"

Keep reading... Show less