Tuesday, December 1, 2020
Home इतिहास काशी विश्वनाथ मंदिर के विध्वंस की कहानी

काशी विश्वनाथ मंदिर के विध्वंस की कहानी

औरंगज़ेब ने अपने शासन में कई मठ एवं मंदिरों को तुड़वा दिया था, कारण क्या यह कोई नहीं जानता। किन्तु कुछ बुद्धिधारियों ने जो कहानी गढ़ी है उसपर आप भी सवाल खड़ा करेंगे।

श्री रामजन्म भूमि विवाद सुलझने के बाद देशभर में अब उन सभी मठ एवं मंदिरों के विषय में चर्चाएं हुईं जिन्हे मुगल शासकों द्वारा तोड़ दिया गया था। उनमे से दो प्रमुख मंदिर हैं श्री कृष्ण जन्मभूमि एवं काशीविश्वनाथ मंदिर जिसे उस औरंगज़ेब ने तुड़वा दिया था जिसपर कई मठ-मंदिरों को तुड़वाने का आरोप लगा है। और कमाल है भारत के बुद्धिधारी इतिहारकारों का जिन्होंने बड़ी चतुराई से इस विषय को इतिहास के पन्नों में तोड़-मरोड़ कर लिखा। इन सभी ने खुबजोर कोशिश की सही इतिहास को मिटाने की।

काशीविश्वनाथ मंदिर के विध्वंस के पीछे एक कहानी ऐसी गढ़ी गई है जो सुनने में ही हास्यास्पद है, वह कहानी यह है कि औरंज़ेब बंगाल जाते समय वाराणसी के निकट से जब गुजर रहा था तब उसके काफिले के साथ चल रहे हिन्दू राजाओं ने उससे यह अनुरोध किया कि अगर यह काफिला एक दिन के लिए यहीं पड़ाव डाल दे तो उनकी रानियां गंगा स्नान के उपरांत काशी विश्वनाथ के दर्शन कर लेंगी। और इस अनुरोध को औरंगज़ेब ने सहर्ष स्वीकार कर लिया। वाराणसी के पांच मील के रास्ते में सेना को तैनात कर दिया गया और सभी रानियों को पालकी से विश्वनाथ मंदिर लाया गया। उन्होंने गंगा स्नान के बाद पूजा-अर्चना की और वापस आ गईं, किन्तु एक रानी (कच्छ की महारानी) नहीं लौंटी। जिसके उपरांत उनकी खोज में सभी जुट गए। जब औरंगज़ेब को यह पता चला तब वह क्रोधित हुआ और उसने वरिष्ठ सैनिकों को रानी की खोज में लगाया। छानबीन के बाद यह सामने आया कि मंदिर में स्थापित गणेश की मूर्ति को हिलाया जा सकता है। और जब उन्होंने गणेश की मूर्ति को हटाया तब उनके नीचे एक तहखाना मिला जिसमे रानी बिना किसी आभूषण के थीं और रो रही थीं। जिसके बाद औरंगज़ेब ने गुस्से में इस मंदिर किसी अन्य जगह स्थानांतरित करने का आदेश दिया।

यह भी पढ़ें: कट्टरता को कब तक अपनी जागीर समझोगे?

तो दोस्तों कैसी लगी यह कहानी? इस कहानी के रचयिता हैं बी एन पांडेय, कांग्रेस पार्टी के पूर्व नेता एवं ओड़िशा के पूर्व गवर्नर। किन्तु सवाल यह है कि क्या यह कहानी सत्य के थोड़ा भी निकट है। क्योंकि सैनिक का लापता होना माना जा सकता है लेकिन महारानी का अचानक गायब हो जाना संदेह पैदा करता है। यदि यह घटना हुई थी उसका कोई तारिख या वर्ष क्यों नहीं उपस्थित है? कहा गया कि एक महंत ने रानी को अगवा किया और वह सैनिकों और अन्य रानियों के बीच में, वह कैसे? सवाल कई उत्पन्न हो रहे हैं किन्तु जवाब एक का भी उपस्थित नहीं है। ठीक यही कहानी कांग्रेस पार्टी के ही पूर्व नेता पट्टाभि सीतारमैया किन्तु थोड़ा और मिर्च मसाला लगा कर। उन्होंने अपने किताब ‘प्रिसन डायरी’ में यहाँ तक लिख दिया था कि कच्छ की महारानी को खुश करने के लिए औरंगज़ेब ने काशी विश्वनाथ मंदिर को तोड़ मस्जिद बनाने का आदेश दिया था। यह कहाँ तक सत्य है वह इतिहासकार ही बता सकते हैं किन्तु काशी विश्वनाथ मंदिर और मथुरा के श्री कृष्णजन्मभूमि पर मस्जिद बनाने वालों को बचाना बंद करें।

आज भारत के इतिहास को पुनर्जीवित करने का समय आन पड़ा है क्योंकि ऐसी एक कहानी नहीं हैं अनेकों कहानियां हैं जिनमे औरंगज़ेब को बचाया जाता रहा है।

POST AUTHOR

Shantanoo Mishra
Poet, Writer, Hindi Sahitya Lover, Story Teller

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
174FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

हाल की टिप्पणी