Monday, June 14, 2021
Home राजनीति कनाडाई रिपोर्ट ने बताया खालिस्तान को पाकिस्तानी प्रोजेक्ट, कहा राष्ट्रीय सुरक्षा के...

कनाडाई रिपोर्ट ने बताया खालिस्तान को पाकिस्तानी प्रोजेक्ट, कहा राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा

कनाडा के पत्रकार टेरी मिलेवस्की ने चेतावनी दी है कि खालिस्तान प्रोजेक्ट पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित है और यह न केवल भारत बल्कि कनाडा की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए भी खतरा है।

एक आंख खोलने वाली रिपोर्ट में, कनाडा के दिग्गज पत्रकारों में से एक टेरी मिलेवस्की ने चेतावनी दी है कि खालिस्तान प्रोजेक्ट पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित है और यह न केवल भारत बल्कि कनाडा की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए भी खतरा है। कनाडा के सबसे ज्यादा देखे जाने वाले सीबीसी टीवी न्यूज के संवाददाता के रूप में चार दशकों के दौरान पुरस्कार विजेता मिलेवस्की 52 देशों से रिपोर्टिग कर चुके हैं।

1985 में, उन्होंने एयर इंडिया पर बमबारी को कवर किया, जिसमें मॉन्ट्रियल से हीथ्रो जा रहे विमान में सवार 329 लोग मारे गए थे। उन्होंने पिछले 35 वर्षो से उस कहानी का पीछा किया, मामले की पूरी जांच को कवर किया। मिलेवस्की 2016 में सीबीसी के वरिष्ठ संवाददाता के रूप में सेवानिवृत्त हुए, जो कभी-कभी नेटवर्क के गेस्ट होस्ट के रूप में लौटते हैं।

पाकिस्तान ले रहा है 1971 युद्ध का बदला

ओटावा स्थित एक प्रतिष्ठित थिंक टैंक मैकडोनाल्ड लॉयर इंस्टीट्यूट द्वारा प्रकाशित मिलेवस्की की रिपोर्ट में खुलासा किया गया है कि कैसे पाकिस्तान ने भारत-पाक 1971 के युद्ध में अपनी हार का बदला लेने के लिए भारत के पंजाब में भारतीय सिखों का इस्तेमाल करते हुए खालिस्तान विद्रोह की शुरुआत की।

khalistan is pakistans project according to Canadian Report
पाकिस्तान ने 1971 के भारत-पाक युद्ध में आत्मसमर्पण कर दिया था। (Wikimedia Commons)

पाकिस्तानी सेना द्वारा किए गए नरसंहार को रोकने के लिए भारत ने पूर्वी पाकिस्तान (बांग्लादेश) में हस्तक्षेप किया था और इसके परिणामस्वरूप उसे पश्चिम पाकिस्तान से मुक्त करने में मदद की थी।

यह भी पढ़ें – विजय दिवस : आखिर ऐसा क्या हुआ जिसने 1971 के भारत-पाक युद्ध की नींव रखी

दिलचस्प बात यह है कि रिपोर्ट बताती है कि पाकिस्तान ने खालिस्तान परियोजना को एक रणनीतिक बफर के रूप में देखा और कैसे एक स्वतंत्र खालिस्तान भारत की कश्मीर तक उत्तर में पहुंच को समाप्त कर देगा, जो कि 1947 के बाद से पाकिस्तान सेना का एक और महत्वपूर्ण इंट्रेस्ट है।

खालिस्तान जनमत संग्रह पर संदेह

खालिस्तान परियोजना पर प्रकाश डालते हुए, मिलेवस्की ने बताया कि अलगाववादी सिखों ने 1984 में हिंदुओं द्वारा कई हजार सिखों के नरसंहार के बारे में जोर से और ठीक से शिकायत की, लेकिन 1947 में भारत के विभाजन के दौरान इस्लाम के नाम पर लाखों सिखों के मुसलमानों द्वारा नरसंहार करने के लिए न्याय मांगने के लिए रैलियों का आयोजन नहीं किया।

मिलेवस्की की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि कनाडा, ब्रिटेन और अमेरिका जैसे बड़े देश जहां बड़े पैमाने पर सिख समुदाय हैं, वे इस बात से वाकिफ हैं और इसलिए, खालिस्तान जनमत संग्रह पर संदेह जताया। कनाडा की सरकार पहले ही कह चुकी है कि वह इसे मान्यता नहीं देगी।

khalistan is pakistans project according to Canadian Report
रिपोर्ट के अनुसार अधिकांश सिख भारत में खुश हैं।

खालिस्तान जनमत संग्रह पर सवाल उठाते हुए, अनुभवी पत्रकार ने अपनी रिपोर्ट में पूछा है कि अलगाववादी सिख भारतीय पंजाब पर ‘कब्जे’ की जुगत में क्यों हैं, लेकिन कभी भी पाकिस्तान से पाकिस्तानी पंजाब पर अपना कब्जा खत्म करने के लिए नहीं कहते हैं।

यह भी पढ़ें – जिन्नाह की मूंछ और खालिस्तान की पूँछ कैसे जुड़े हैं एक साथ?

रिपोर्ट के अनुसार, अधिकांश सिख, भारत से खुश हैं और जो लोग भारतीय पंजाब में रहते हैं, वे यहां तक कि कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व वाली अपनी क्षेत्रीय सरकार के लिए भी खुश हैं। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी