Tuesday, October 20, 2020
Home खेल मुंबई के खिलाफ अपने अभियान की शुरुआत करेगा केकेआर

मुंबई के खिलाफ अपने अभियान की शुरुआत करेगा केकेआर

2019 संस्करण खराब रहने के बाद कोलकाता ने अपने तेज गेंदबाजी आक्रमण को मजबूत किया है। इस बार टीम ने पैट कमिंस को शामिल किया है।

अपने पहले मैच में चेन्नई सपुर किंग्स के खिलाफ पांच विकेट से मात खाने वाली मौजूदा विजेता मुंबई इंडियंस आईपीएल के 13वें सीजन के अपने दूसरे मैच में बुधवार को कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ शेख जायेद स्टेडियम में उतरेगी। दिनेश कार्तिक की कप्तानी वाली केकेआर का यह इस सीजन का पहला मैच है।

मुंबई को चेन्नई से हार मिली थी। सलामी बल्लेबाज क्विंटन डी कॉक ने टीम को अच्छी शुरुआत दी थी लेकिन सौरव तिवारी को छोड़कर मुंबई का मध्य क्रम अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में तब्दील नहीं कर पाया था। तिवारी ने 31 गेंदों पर 42 रनों की पारी खेली थी।

यह भी पढ़ें: धोनी को किस तरह के खिलाड़ी पसंद हैं? जानते हैं दीपक चाहर से

परिणामस्वरूप मुंबई की टीम 20 ओवरों में नौ विकेट खोकर 162 रन ही बना सकी थी। इसके बाद उसके गेंदबाज चेन्नई के बल्लेबाजों से इन रनों का बचाव नहीं कर पाए थे। फाफ डु प्लेसिस और अंबाती रायडू ने मिलकर टीम की जीत की कहानी गढ़ी थी।

मध्य क्रम में हार्दिक पांड्या, केरन पोलार्ड जैसे आक्रामक बल्लेबाजों के होने के बाद भी मुबंई का मध्य क्रम आसानी से ढेर हो गया था। टीम प्रबंधन निश्चित तौर पर चाहेगा कि केकेआर के खिलाफ टीम इस गलती को सुधारे।

मुंबई के गेंदबाजों ने शुरुआत में अच्छा किया था और छह रनों पर ही चेन्नई के दो विकेट गिरा दिए थे। बल्लेबाजों की तरह गेंदबाज भी अच्छी शुरुआत का फायदा नहीं उठा पाए थे। स्लोग ओवरों में उन्हें रन रेट को कम करने की जरूरत थी लेकिन यहां उन्होंने आसानी से रन लुटाए। इस बार अगर गेंदबाज सफल होते हैं तो विपक्षी टीम पर दबाव होगा।

एक बार फिर कप्तान रोहित शर्मा और डी कॉक पारी की शुरुआत करते दिखाई देंगे। जहां तक लगता है, टीम प्रबंधन प्लेइंग-11 में बदलाव नहीं करेगा।

Mumbai Indians
मुंबई इंडियंस की टीम पिछले मैच में। (Mumbai Indians, Twitter)

मुंबई के गेंदबाजों ने ज्यादा रन खर्च तो नहीं किए थे लेकिन जसप्रीत बुमराह एक ऐसे गेंदबाज थे जिन्हें मार पड़ी थी। अगर मुंबई को वापसी करनी है बुमराह को अच्छा करना होगा।

कोलकाता को देखा जाए तो आखिरी बार जब यूएई में आईपीएल हुआ था (भारत के साथ सह-मेजबानी) तब कोलकाता ने खिताब अपने नाम किया था। उसने पंजाब को आखिरी ओवर में मात दे ट्रॉफी उठाई थी।

इस बार कोलकाता ने अपने अनुभवी खिलाड़ियों क्रिस लिन, रोबिन उथप्पा, पीयूष चावला को रिलीज कर दिया है और पैट कमिंस, इयोन मोर्गन, टॉम बेंटन को अपनी टीम में लाए हैं।

कोलकाता के बल्लेबाजी आक्रमण में नीतीश राणा और शुभमन गिल जैसे प्रतिभाशाली युवा खिलाड़ी हैं। अपनी बल्लेबाजी को मजबूत करने के लिए फ्रेंचाइजी ने टॉम बेंटन को भी टीम में शामिल किया है। बेंटन क्या कर सकते हैं यह उन्होंने बिग बैश लीग में बताया है।

KKR
केकेआर कप्तान दिनेश कार्तिक। (KKR, Twitter)

वहीं आंद्रे रसेल के रहते केकेआर का मध्य क्रम खतरनाक लग रहा है। इंग्लैंड के मोर्गन के आने से इसे मजूबती मिली है।

सुनील नरेन, टॉम बेंटन या गिल के साथ पारी की शुरुआत कर सकते हैं। यह तीनों टीम को तेज शुरुआत देने में समर्थ हैं।

पिछले संस्करणों में देखा गया है कि केकेआर की सफलता काफी हद तक स्पिनरों पर निर्भर करती है और टीम के स्पिन अटैक में नरेन, कुलदीप यादव, वरुण चक्रव्रर्ती के नाम हैं।

वरुण ने अभी तक आईपीएल में एक भी मैच नहीं खेला है। इसलिए स्पिन की ज्यादा जिम्मेदारी कुलदीप और नरेन पर रहेगी।

यह भी पढ़ें: स्वदेशी खेलों को अंतर्राष्ट्रीय पटल पर पहुंचाना लक्ष्य : सुधांशु मित्तल

क्रिस ग्रीन के रूप में कोलकाता के पास एक और विकल्प है, लेकिन कम अनुभव के कारण उन्हें शायद ही मौका मिले।

2019 संस्करण खराब रहने के बाद कोलकाता ने अपने तेज गेंदबाजी आक्रमण को मजबूत किया है। इस बार टीम ने पैट कमिंस को शामिल किया है। लॉकी फर्ग्यूसन, कमलेश नागरकोटी और शिवम मावी उनके पास तेज गेंदबाजी में विकल्प हैं। कोलकाता इस बार अमेरिका से अली खान को लेकर आई है। उन्होंने कैरिबियन प्रीमियर लीग (सीपीएल) में अच्छा किया था।

कागजों पर देखा जाए तो मुंबई की टीम कार्तिक की टीम पर हावी दिख रही है। दोनों टीमों ने अभी तक कुल 25 मैच खेले हैं जिसमें से मुंबई ने 19 मैच जीते हैं।

परिस्थिति और बदले हुए मैदान में कोलकाता कुछ भी करने में समर्थ है।

टीमें (सम्भावित) :

मुंबई इंडियंस : रोहित शर्मा (कप्तान), शेरफाने रदरफोर्ड, सूर्यकुमार यादव, अनमोलप्रित सिंह, क्रिस लिन, सौरव तिवारी, ईशान किशन, क्विंटन डी कॉक, आदित्य तारे, हार्दिक पांड्या, कीरन पोलार्ड, क्रूणाल पांड्या, अनुकूल रॉय, धवल कुलकर्णी, जसप्रीत बुमराह, राहुल चहर, ट्रेंट बोल्ट, मोहसीन खान, प्रिंस बलवंत, दिग्विजय देशमुख, जयंत यादव, नाथन कल्टर नाइल, जेम्स पैटिनसन।

केकेआर : दिनेश कार्तिक (कप्तान), आंदे्र रसेल, सुनील नरेन, कुलदीप यादव, शुभमन गिल, लॉकी फर्ग्यूसन, नीतीश राणा, रिंकू सिंह, प्रसिद्ध कृष्णा, संदीप वॉरियर, अली खान, कमलेश नागरकोटी, शिवम मावी, सिद्देश लाड, पैट कमिंस, इयोन मोर्गन, टॉम बेंटन, राहुल त्रिपाठी, वरुण चक्रवर्ती, एम. सिद्धार्थ, निखिल नाइक, क्रिस ग्रीन।(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
167FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया..” के सदाबहार गायक जसपाल सिंह की कहानी

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया” इस गाने को किसने नहीं सुना होगा। अगर आप 80’ के दशक से हैं...

हाल की टिप्पणी