Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

कौन हैं पद्मश्री तुलसी गौड़ा?

जंगलों की इनसाइक्लोपीडिया नाम से प्रसिद्ध तुलसी गौड़ा को महामहिम राष्ट्रपति ने पर्यावरण में अहम योगदान देने के कारण पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया है।

अपने पारंपरिक परिधान और नंगे पैर पहुंची थीं तुलसी गौड़ा जो उनकी विशेषता को दर्शाता है(Twitter)

एक समय होता था जब केवल उन्हीं लोगों को राष्ट्रीय पुरस्कार जैसे पद्मश्री पद्म भूषण मिलता था जो सत्ताधारी पार्टी के या तो वफादार हो या फिल्मी सेलिब्रिटी। लेकिन कहते हैं ना परिवर्तन प्रकृति का अपरिवर्तनीय नियम है। ठीक इसी प्रकार सत्ता बदली तो राष्ट्रीय पुरस्कार लेने वाले भी परिवर्तित हो गए। आज के समय में जो राष्ट्रीय पुरस्कार के हकदार होता है उसी को यह सम्मान मिलता है। ठीक इसी तरह की उदाहरण हैं कर्नाटक की 72 वर्षीय महिला तुलसी गौड़ा।

तुलसी को पर्यावरण में अहम योगदान देने के लिए राष्ट्रपति ने उन्हें पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया है। तुलसी करीब छह दशक से पर्यावरण संरक्षण गतिविधियों में शामिल हैं। अब तक करीब 30,000 से अधिक पौधे लगा चुकी हैं। राष्ट्रपति से सम्मान लेने वे अपने पारंपरिक परिधान और नंगे पैर पहुंची थीं। जो उनकी विशेषता को दर्शाता है और इसकी तारीफ भी सोशल मीडिया में जमकर हो रही है। इसलिए आज हम आपको भारत की इस महान पर्यावरण संरक्षिका के बारे में बताएंगे -


तुलसी का जन्म कर्नाटक में हलक्की जनजाति में हुआ था। घर में बेहद गरीबी थी, जिसकी वजह से उन्हें औपचारिक शिक्षा तक नसीब नहीं हो सकी। तुलसी के ऊपर यथा नाम तथा गुण की कहावत पूरी तरह फिट बैठती है। यह बात हम लोग इसलिए कह रहे हैं क्योंकि तुलसी ने अपना संपूर्ण जीवन पर्यावरण और पेड़ पौधों के लिए समर्पित कर दिया है। बचपन से ही उन्हें पेड़-पौधों से काफी लगाव था। इसलिए ज्यादातर समय वे जंगलों में ही बिताती थीं। धीरे-धीरे पेड़-पौधों और जड़ी-बूटियों की विविध प्रजातियों की जानकारी हो गई। उसी ज्ञान के कारण आज उन्हें 'जंगलों की इनसाइक्लोपीडिया' के रूप में जाना जाता है।

यह भी पढ़े: इंसानों की तरह बुद्धि रखने वाला कूड़ादान!

इसके अलावा ऐसा कहा जाता है कि तुलसी जब 12 साल की उम्र में थी तब उन्होंने हजारों पेड़ लगाए और उनका ख्याल रखते हुए उन्हें बड़ा किया। वे एक अस्थायी स्वयंसेवक के रूप में भी वन विभाग में शामिल हुईं, जहां उन्हें प्रकृति संरक्षण के प्रति समर्पण के लिए पहचान मिली। हालांकि बाद में उन्हें उन्हें विभाग में स्थायी नौकरी की पेशकश की गई। तुलसी फिलहाल 72 वर्ष की एक वृद्ध महिला हो गई है जिस उम्र में सभी आम नागरिक विश्राम करते हैं उस अवस्था में भी वे पौधों का पालन पोषण करना और युवा पीढ़ी के साथ अपना ज्ञान को साझा करने का काम जारी रखे हुए है

Input : various source ; Edited by Lakshya Gupta

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें

Popular

भारतीय जनता पार्टी ( उत्तर प्रदेश में ) मंत्री एवं विधायक सिद्धार्थ नाथ सिंह।(Wikimedia Commons)

उत्तर प्रदेश में चुनाव नजदीक है, चुनावी माहौल में कई नेता अपने निजी फायदे को देखते हुए दल बदलने लगे हैं। जिनको आभास हो रहा है पार्टी उनका टिकट काट सकती है या उनको अपने मनपसंद विधानसभा सीट से हटा सकती है वह नेता अब दूसरी पार्टी में अपने फायदे को ढूंढने की कोशिश कर रहे हैं।

भारतीय राजनीतिज्ञ एवं भारतीय जनता पार्टी (उत्तर प्रदेश सरकार) में मंत्री, इलाहाबाद पश्चिम (विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र) से विधायक सिद्धार्थ नाथ सिंह ने समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा कि, " मंत्री और विधायकों के पार्टी छोड़ने के कई कारण है ! व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए मंत्री और विधायक दल बदल रहे हैं। पार्टी छोड़ रहे नेताओं को डर है कि उन्हें उनकी मनपसंद विधानसभा सीट से टिकट नहीं दिया जाएगा इन सभी लोगों ने पांच साल तक भारतीय जनता पार्टी में मलाई खाने का काम किया है।"

Keep Reading Show less

15 जनवरी 1949 से हर वर्ष 15 जनवरी को मनाया जाता है सेना दिवस !

15 जनवरी को हर वर्ष सेना दिवस(Indian Army Day) के रूप में मनाया जाता है। आज वो शुभ दिन है, आज भारतीय सेना को उनके जज्बे, त्याग, बलिदान को सलाम करने का दिन है। आज के दिन भारतीय सेना दिवस पर दिल्ली के परेड ग्राउंड पर सेना दिवस परेड का आयोजन होता है। भारतीय सेना के लिए मनाए जाने वाले तमाम कार्यक्रमो में से भारतीय सेना का यह परेड सबसे महत्वपूर्ण एवं सबसे बड़ा कार्यक्रम माना जाता है। जनरल ऑफिसर कमांडिंग, हेडक्वार्टर दिल्ली की अगुवाई में परेड निकाली जाती है। आर्मी चीफ सलामी लेते हुए परेड का निरीक्षण करते हैं!

भारतीय सेना दिवस पर (INDIAN ARMY) ने भी आज ट्विटर के माध्यम से सेना दिवस के अवसर पर बधाई देते हुए कहा कि " विविध सुरक्षा चुनौतियों का सामना करने के लिए भारतीय सेना भविष्य के साथ आगे बढ़ रहा है।"

Keep Reading Show less

जेनेवा स्थित विश्व स्वास्थ्य संगठन का मुख्यालय (Wikimedia Commons)

विश्व स्वास्थ्य संगठन(World Health Organization) ने कोरोनावायरस रोग के लिए दो नए उपचारों को मंजूरी दी है क्योंकि ओमाइक्रोन(Omicron) मामलों ने दुनिया भर में स्वास्थ्य सेवा प्रणाली पर दबाव डाला है। डब्ल्यूएचओ के विशेषज्ञों ने गठिया की दवा बारिसिटिनिब और सिंथेटिक एंटीबॉडी उपचार सोट्रोविमैब की सिफारिश की ताकि गंभीर बीमारी और कोविड -19 से मौत को रोका जा सके।

विशेषज्ञों ने गंभीर या गंभीर कोविड रोगियों के इलाज के लिए कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स के संयोजन में इंटरल्यूकिन -6 (IL-6) रिसेप्टर ब्लॉकर्स के विकल्प के रूप में Baricitinib के उपयोग की जोरदार सिफारिश की। उन्होंने सुझाव दिया कि गंभीर कोविड रोगियों में कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स के साथ बारिसिटिनिब के उपयोग से जीवित रहने की दर बेहतर हुई और वेंटिलेटर की आवश्यकता कम हो गई।

Keep reading... Show less