Saturday, September 26, 2020
Home खेल कुंबले, राहुल 4 भाषाओं की मदद से कर रहे पंजाब की रणनीति...

कुंबले, राहुल 4 भाषाओं की मदद से कर रहे पंजाब की रणनीति तैयार

कुंबले और राहुल जब दोनों साथ होते हैं तो दोनों कन्नड़ बोलते हैं और जब बाकी लोग होते हैं तो इंग्लिश और हिंदी बोलते हैं। कुंबले अब थोड़ी बहुत पंजाबी भी सीख रहे हैं।

By: कैसर मोहम्मद अली

बेंगलुरू के दो अनुभवी खिलाड़ी चार भाषाओं की मदद से किंग्स इलेवन पंजाब को आईपीएल का खिताब दिलाने की राणनीति बना रहे हैं। टीम के मुख्य कोच अनिल कुंबले और कप्तान लोकेश राहुल दोनों बेंगलुरू से हैं और न दोनों की मातृभाषा कन्नड़ है।

कुंबले और राहुल जब दोनों साथ होते हैं तो दोनों कन्नड़ बोलते हैं और जब बाकी लोग होते हैं तो इंग्लिश और हिंदी बोलते हैं। कुंबले अब थोड़ी बहुत पंजाबी भी सीख रहे हैं।

कुंबले ने मंगलवार को भारत के कुछ चुनिंदा पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि राहुल को पहले से जानना उनके लिए फायदेमंद होगा।

यह भी पढ़ें: मानसिक, शारीरिक तौर पर स्वस्थ रहना जरूरी : बैकहम

उन्होंने कहा, “जान-पहचान होना मदद करता है। लेकिन जानने वाली भाषा बात करने का माध्यम है। मैं कुछ पंजाबी लड़कों के साथ पंजाबी भाषा में बात करने की कोशिश करता हूं और जितनी पंजाबी मुझे आती है तो उससे उनका मनोरंजन करने की कोशिश करता हूं। जाहिर सी बात है कि जब हम कुछ लोग होते हैं तो हम कन्नड़ बोलते हैं, लेकिन एक समूह में एक समान भाषा बोली जाती है जो हिंदी या इंग्लिश होती है।”

कुंबले ने कहा, “भाषा तो बातचीत करने का माध्यम है, खिलाड़ियों को अच्छे से जानना, सिर्फ राहुल नहीं, बल्कि अन्य लोगों को भी, उससे मदद मिलती है।”

कुंबले ने कहा कि राहुल का बीते कुछ सीजनों में पंजाब के साथ रहना टीम के लिए अच्छा साबित होगा।

लोकेश राहुल, किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान (KL Rahul, Twitter)

कोच ने कहा, “वह मुझसे बेहतर खिलाड़ियों को जानते हैं, क्योंकि वह फ्रेंचाइजी के साथ बीते दो साल से हैं। वह अधिकतर खिलाड़ियों के साथ अच्छे से खेले हुए हैं। वह काफी शांत हैं। वह एक कप्तान होने पर सभी छोटे-मोटी चीजों को समझते हैं।”

भारत के पूर्व कप्तान ने कहा है कि वह चाहते हैं कि वेस्टइंडीज के क्रिस गेल लीडरशिप ग्रुप में ज्यादा सक्रिय रहें।

उन्होंने कहा, “क्रिस का एक खिलाड़ी के तौर पर बड़ा रोल होगा। साथ ही लीडरशिप ग्रुप में भी उनका युवा खिलाड़ियों को बनाने में रोल रहेगा। वह करते हैं, लेकिन मैं उन्हें और ज्यादा सक्रिय होते देखना चाहता हूं। हर कोई उनकी तरफ देखता है।”

यह भी पढ़ें: जम्मू एवं कश्मीर में क्रिकेट को बढ़ावा देना चाहते हैं सुरेश रैना

कुंबले ने कहा कि टीम के अनुभवी सपोर्ट स्टाफ से भी टीम को मदद मिलेगी।

उन्होंने कहा, “हमारे पास अच्छी सपोर्ट स्टाफ की टीम है। सपोर्ट स्टाफ के पास काफी अनुभव है और जानकारी भी, आईपीएल की भी है और अंतर्राष्ट्रीय स्तर का भी।”(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,023FansLike
0FollowersFollow
164FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया..” के सदाबहार गायक जसपाल सिंह की कहानी

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया” इस गाने को किसने नहीं सुना होगा। अगर आप 80’ के दशक से हैं...

हाल की टिप्पणी