Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
ज़रूर पढ़ें

नेताजी की अस्थियां देश में लाने में बाधा बनी राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी

नेताजी के परिवार और विषय से अनभिज्ञ लोगों ने पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और पी. वी. नरसिम्हा राव को ऐसा करने से रोका, जो कि बोस के अवशेषों को भारत वापस लाना चाहते थे- लेखक आशीष रे।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस ।(Wikimedia Commons)

लंदन में रहने वाले लेखक आशीष रे का कहना है कि यह एक अकथनीय त्रासदी है कि वैसे तो नेताजी सुभाष चंद्र बोस भारत में व्यापक रूप से पूजनीय हैं, मगर उनकी मृत्यु के 75 वर्ष बाद भी उनकी अस्थियां भारत नहीं लाई जा सकी हैं। रे ‘लेड टू रेस्ट : द कंट्रोवर्सी ओवर सुभास चंद्र बोस डेथ’ किताब के लेखक हैं। वह नेताजी के जीवन और उनकी मौत से जुड़े रहस्यों के बारे में जानकारी एकत्र करते रहते हैं। बोस की 75वीं पुण्यतिथि 18 अगस्त को है।

रे ने एक साक्षात्कार में आईएएनएस को बताया कि नेताजी की अस्थियां टोक्यो के रेंकोजी मंदिर में संरक्षित है।


रे ने कहा कि भारत में बोस के परिवार और विषय से अनभिज्ञ लोगों ने पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और पी. वी. नरसिम्हा राव को ऐसा करने से रोका, जो कि बोस के अवशेषों को भारत वापस लाना चाहते थे।

रे ने कहा कि भारतीय खुफिया एजेंसियों द्वारा यह डर दिखाने के बाद कि इससे कोलकाता में दंगे हो सकते हैं, यह भी एक कारण रहा है कि विभिन्न सरकारें उनके अवशेषों को वापस लाने की हिम्मत नहीं कर पाई हैं।

महात्मा गाँधी,राजेंद्र प्रसाद एवं सरदार वल्लभभाई पटेल के साथ ‘नेताजी’। (Wikimedia Commons)

उन्होंने खुलासा किया कि जापानी सरकार ने संकेत दिया है कि अगर भारत सरकार अनुरोध करती है, तो वह बिना किसी संकोच के नेताजी के अंतिम अवशेषों को भारत को सौंप देगी।

रे ने कहा, इसलिए नई दिल्ली को जापान से अनुरोध करने की जरूरत है।

पेश है रे से बातचीत के कुछ प्रमुख अंश :

प्रश्न: ठीक तीन बाद नेताजी की 75वीं पुण्यतिथि है, मगर अभी भी उनकी मृत्यु पर संशय है और भ्रांतिया बनी हुई हैं, ऐसा क्यों?

उत्तर: यह एक अकथनीय त्रासदी है। सुभास चंद्र बोस भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के सितारों में से एक थे। उन्होंने देश की आजादी के लिए अपना बलिदान दिया। वह व्यापक रूप से भारत में पूजनीय है; मगर अभी तक भारत के लोगों को उनकी मृत्यु के 75 साल बाद भी उनकी अस्थियां भारत में वापस लाने का शिष्टाचार नहीं है। क्या इससे भी ज्यादा कुछ अपमानजनक हो सकता है? क्या इससे बड़ा अन्याय हो सकता है?

यह भी पढ़ें- नेताजी की कथित अस्थियों से जुड़े वो 5 तथ्य जो आप नहीं जानते हैं

प्रश्न: उनकी अस्थियां कहां हैं?

उत्तर: उनकी अस्थियां टोक्यो के रेंकोजी मंदिर में संरक्षित है। ताइपे में एक विमान दुर्घटना के बाद नेताजी की मृत्यु हो गई। उनके पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार किया गया और उनके अंतिम अवशेष टोक्यो पहुंचाए गए, जहां सितंबर 1945 से ही उनके अवशेष रेंकोजी मंदिर में रखे हुए हैं।

प्रश्न: उनकी अस्थियां भारत वापस लाने में आखिर क्या समस्या है?

उत्तर: भारत में बोस के विस्तृत परिवार के पथभ्रष्ट (मामले की सही जानकारी नहीं) सदस्य और विषय से अनभिज्ञ लोगों ने दो प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और पी. वी. नरसिम्हा राव को जो ऐसा करने से रोका, जो कि भारत में अवशेष लाना चाहते थे।

प्रश्न: लगातार सरकारों ने उनकी बेटी प्रोफेसर अनीता की याचिका को क्यों नजरअंदाज किया?

उत्तर: कोलकाता में दंगों की चेतावनी देने वाली भारतीय खुफिया एजेंसियों द्वारा डराने का एक कारण है, जिससे विभिन्न सरकारें भारत में अवशेषों को लाने की हिम्मत नहीं कर पाई।

टोक्यो में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मूर्ति । (Wikimedia Commons)

तथ्यों को जानने वाला कोई भी शिक्षित व बुद्धिमान भारतीय कभी भी नेताजी के अवशेषों को भारत में लाए जाने का विरोध करेगा, बल्कि वे तो इस कदम पर खुशी मनाएंगे। प्रोफेसर अनीता की दलील है कि उनके पिता की महत्वाकांक्षा एक आजाद भारत में लौटने की थी। चूंकि ऐसा नहीं हो सका, इसलिए कम से कम उनके अवशेषों को तो भारत की धरती पर लाया जाना चाहिए। दूसरी बात यह है कि उन्हें लगता है कि बंगाली हिंदू परंपरा के अनुसार, उनके पिता के अवशेषों का अंतिम निपटान होना चाहिए या उन्हें गंगा नदी में विसर्जित किया जाना चाहिए।

भारत सरकार कानूनी रूप से और नैतिक रूप से उनकी इच्छाओं को पूरा करने के लिए बाध्य है और वह बोस की एकमात्र बच्ची और वारिस हैं, लेकिन यह दुख की बात है कि उन्होंने अभी तक ऐसा नहीं किया है।

प्रश्न: अवशेषों के हस्तांतरण के लिए भारत सरकार को क्या करने की आवश्यकता है?

उत्तर: जापानी सरकार ने संकेत दिया है कि यदि भारत सरकार अनुरोध करती है, तो वह बिना किसी संकोच के भारत को अवशेष सौंप देगी। इसलिए, नई दिल्ली को जापान से एक अनुरोध करने की आवश्यकता है। प्रधानमंत्री शिंजो आबे बोस के प्रशंसक हैं। मुझे विश्वास है कि वह खुशी से इस बात को मान लेंगे।

प्रश्न: उनके अंतिम अवशेषों का भारत में पहुंचने का क्या महत्व है?

उत्तर: बोस के अवशेषों को उचित सम्मान के साथ भारत लाना राष्ट्र के एक महान पुत्र की स्मृति और आत्मा के लिए भारतीय लोगों के सम्मान का प्रतीक होगा।

प्रश्न: यह प्रक्रिया अभी तक कैसे लटकी रही?

उत्तर: केंद्र और पश्चिम बंगाल की वर्तमान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की ओर से एक राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी रही है।(आईएएनएस)

Popular

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए योगी ने तारीफ की (wikimedia commons )

हमारा देश भारत अनेकता में एकता वाला देश है । हमारे यंहा कई धर्म जाती के लोग एक साथ रहते है , जो इसे दुनिया में सबसे अलग श्रेणी में ला कर खड़ा करता है । योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं । उन्होंने एक बयान में कहा कि नई थ्योरी में पता चला है कि पूरे देश का डीएनए एक है। यहां आर्य-द्रविण का विवाद झूठा और बेबुनियाद रहा है। भारत का डीएनए एक है इसलिए भारत एक है। साथ ही उन्होंने कहा की दुनिया की तमाम जातियां अपने मूल में ही धीरे धीरे समाप्त होती जा रही हैं , जबकि हमारे भारत देश में फलफूल रही हैं। भारत ने ही पूरी दुनिया को वसुधैव कुटुंबकम का भाव दिया है इसलिए हमारा देश श्रेष्ठ है। आप को बता दे कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को युगपुरुष ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ की व राष्ट्रसंत ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की पुण्यतिथि पर आयोजित एक श्रद्धांजलि समारोह का शुरुआत करने गये थे। आयोजन के पहले दिन मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी ऐसा भारतीय नहीं होगा जिसे अपने पवित्र ग्रन्थों वेद, पुराण, उपनिषद, रामायण, महाभारत आदि की जानकारी न हो। हर भारतीय परम्परागत रूप से इन कथाओं ,कहनियोंको सुनते हुए, समझते हए और उनसे प्रेरित होते हुए आगे बढ़ता है।

साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे यंहा के कोई भी वेद पुराण हो या ग्रंथ हो इनमे कही भी नहीं कहा गया की हम बहार से आये थे । हमारे ऐतिहासिक ग्रन्थों में जो आर्य शब्द है वह श्रेष्ठ के लिए और अनार्य शब्द का प्रयोग दुराचारी के लिए कहा गया है। मुख्यमंत्री योगी ने रामायण का उदाहरण भी दिया योगी ने कहा कि रामायण में माता सीता ने प्रभु श्रीराम की आर्यपुत्र कहकर संबोधित किया है। लेकिन , कुटिल अंग्रेजों ने और कई वामपंथी इतिहासकारों के माध्यम से हमारे इतिहास की किताबो में यह लिखवाया गया कि आर्य बाहर से आए थे । ऐसे ज्ञान से नागरिकों को सच केसे मालूम चलेगा और ईसका परिणाम देश लंबे समय से भुगतता रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए योगी ने कहा कि , आज इसी वजह से मोदी जी को एक भारत-श्रेष्ठ भारत का आह्वान करना पड़ा। आज मोदी जी के विरोध के पीछे एक ही बात है। साथ ही वो विपक्ष पर जम के बरसे। उन्होंने मोदी जी के बारे में आगे कहा कि उनके नेतृत्व में अयोध्या में पांच सौ वर्ष पुराने विवाद का समाधान हुआ है। यह विवाद खत्म होने से जिनके खाने-कमाने का जरिया बंद हो गया है तो उन्हें अच्छा कैसे लगेगा।

Keep Reading Show less

हरिद्वार हिंदुओं की धार्मिक नगरी है , जहा हर 12 वर्षो में कुंभ का मेला भी आयोजित होता है (wikimedia commons)

उत्तराखंड देवभूमि के नाम से विख्यात है , यहां हिंदु धर्म के कई तीर्थ स्थल हैं। उत्तराखंड राज्य के नए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कुछ विशेष कदम उठाये हैं। इस माह की शुरुआत में धामी सरकार ने प्रदेश में अप्रत्याशित रूप से बढ़ती मुस्लिम आबादी पर काबू करने के लिए जनसंख्या नियंत्रण नीति लाने पर हामी भरी थी। धामी सरकार से RSS से जुड़े 35 संगठनों ने यह मांग की थी। कई हिन्दूवादी संगठनों का दावा है कि उत्तराखंड के कई शहर देहरादून, हरिद्वार, उधमसिंह नगर और नैनीताल में मुस्लिम आबादी कुछ सालों में लगातार बढ़ रही है ।

हरिद्वार हिंदुओं की धार्मिक नगरी है , जहां हर 12 वर्षो में कुंभ का मेला भी आयोजित होता है यह हिंदुओ के आस्था का केंद्र रहा है। सनातन धर्म के प्रमुख केंद्रों में एक, जहां सभी मठ, अखाड़े और आध्यात्मिक केंद्र स्थित हैं। यह हिंदुओं के सबसे बड़े धार्मिक कार्यो की पवित्र भूमि है। यहां पर हिन्दू अस्थि विसर्जन से लेकर जनेऊ या उपनयन संस्कार और यंहा तक की काँवड़ यात्रा में जाने के लिए भक्त जन यंहा गंगा जल तक लेने आते हैं।

Keep Reading Show less

अल्जाइमर रोग एक मानसिक विकार है। (unsplash)

ऑस्ट्रेलिया के शोधकर्ताओं ने एक अभूतपूर्व अध्ययन में 'ब्लड-टू-ब्रेन पाथवे' की पहचान की है जो अल्जाइमर रोग का कारण बन सकता है। कर्टिन विश्वविद्यालय जो कि ऑस्ट्रेलिया के पर्थ शहर में है, वहाँ माउस मॉडल पर परीक्षण किया गया था, इससे पता चला कि अल्जाइमर रोग का एक संभावित कारण विषाक्त प्रोटीन को ले जाने वाले वसा वाले कणों के रक्त से मस्तिष्क में रिसाव था।

कर्टिन हेल्थ इनोवेशन रिसर्च इंस्टीट्यूट के निदेशक प्रमुख जांचकर्ता प्रोफेसर जॉन मामो ने कहा "जबकि हम पहले जानते थे कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों की पहचान विशेषता बीटा-एमिलॉयड नामक मस्तिष्क के भीतर जहरीले प्रोटीन जमा का प्रगतिशील संचय था, शोधकर्ताओं को यह नहीं पता था कि एमिलॉयड कहां से उत्पन्न हुआ, या यह मस्तिष्क में क्यों जमा हुआ," शोध से पता चलता है कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों के दिमाग में जहरीले प्रोटीन बनते हैं, जो रक्त में वसा ले जाने वाले कणों से मस्तिष्क में रिसाव की संभावना रखते हैं। इसे लिपोप्रोटीन कहा जाता है।

Keep reading... Show less