Sunday, May 9, 2021
Home देश अदालत ने शास्त्री को तौलने के लिए रखा 56.86 किलो सोना सरकार...

अदालत ने शास्त्री को तौलने के लिए रखा 56.86 किलो सोना सरकार को देने के निर्देश दिए

शास्त्री के वजन जितना 56.86 किलो सोना राजस्थान में चित्तौड़गढ़ के जिला कलेक्टर के पास जमा कराया गया था।

By: अर्चना शर्मा

राजस्थान की एक अदालत ने भारत-पाकिस्तान 1965 युद्ध के मद्देनजर, तत्कालीन प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के स्वागत में उनको तोलने के लिए भेंट किया गया 56.86 किलो सोना सरकार को सुपुर्द करने के निर्देश दिए हैं।

शास्त्री के वजन जितना 56.86 किलो सोना राजस्थान में चित्तौड़गढ़ के जिला कलेक्टर के पास जमा कराया गया था।

उस समय इस सोना की कीमत 4.76 लाख रुपये थी, वहीं अब इसकी मौजूदा बाजार के हिसाब से 27.29 करोड़ रुपये आंकी गई है।

चित्तौड़गढ़ में जिला एवं सत्र न्यायालय ने बुधवार को केंद्रीय माल और सेवा कर के सहायक आयुक्त को सोना सौंपने का निर्देश दिया।

1965 के अंत तक सोने के स्वामित्व पर विवाद तब बढ़ा, जब कीमती धातु को तौलने से पहले चित्तौड़गढ़ के जिला कलेक्टर के पास रखा गया था। इस मामले को पांच बार पहले भी विभिन्न अदालतों में सुना जा चुका है और हर बार फैसला सरकार के पक्ष में गया।

वर्तमान में यह सोना उदयपुर जिला कलेक्टर कार्यालय की एक अलमारी में रखा हुआ है।

नौ दिसंबर, 1965 को गुणवंत नामक व्यक्ति ने गणपत और दो अन्य के खिलाफ मामला दर्ज कराया, जिसमें आरोप लगाया गया कि आरोपी ने उसे 56.86 किलो सोना वापस नहीं किया है।

gold shastri ji
सरकार वापस देना होगा शास्त्री जी को तोलने वाला सोना।(सांकेतिक चित्र, फाइल फोटो)

बता दें कि 16 दिसंबर, 1965 को गणपत ने प्रधानमंत्री शास्त्री का वजन करने के लिए सोने को चित्तौड़गढ़ कलेक्टर को सौंप दिया था। शास्त्री की उदयपुर यात्रा निर्धारित थी, इसलिए तब तक सोना कलेक्टर के पास रखा गया था। हालांकि प्रस्तावित यात्रा से ठीक पहले ही प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के जनवरी 1966 में निधन के चलते यह यात्रा नहीं हो पाई। इसके बाद पुलिस ने सोना जब्त कर लिया, लेकिन इसकी कस्टडी चित्तौड़गढ़ कलेक्टर के पास ही रखी गई।

1969 में उदयपुर में सहायक जिला सत्र न्यायालय में एक चालान पेश किया गया और फिर सोना उदयपुर लाया गया।

11 जनवरी, 1975 को अदालत ने गणपत और हीरालाल को दो साल के कारावास की सजा सुनाई और सोने पर अधिकार गोल्ड कंट्रोलर को दे दिए गए।

यह भी पढ़ें: किस तरह गांधी द्वारा समर्थित एक हिंदी अखबार ने मॉरीशस में जगाई थी स्वतंत्रता की अलख

गणपत और हीरालाल ने सत्र न्यायालय में फैसले को चुनौती दी। उन्हें मुक्त कर दिया गया, लेकिन उन्होंने सोने पर कब्जे का अपना दावा नहीं छोड़ा।

गुणवंत की ओर से हाईकोर्ट के उस फैसले के खिलाफ एक याचिका फिर से दायर की गई, जिसने 14 सितंबर, 2007 को बरी करने के आदेश को बरकरार रखा, लेकिन उन्हें सोने पर अधिकार हस्तांतरित करने की अपील को खारिज कर दिया।

2012 में गणपत के वारिस गोवर्धन ने अदालत में एक याचिका दायर की, जिसमें कहा गया था कि सोना उनके पिता का है और पुलिस ने उसे उनसे बरामद किया था। हालांकि, यह याचिका अभी भी लंबित है।(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,640FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी