Sunday, May 16, 2021
Home दुनिया जानिए! अब क्या डॉक्टर्स को शरीर पर COVID-19 के प्रभाव के बारे...

जानिए! अब क्या डॉक्टर्स को शरीर पर COVID-19 के प्रभाव के बारे में पता है।

वॉशिंगटन कि एक रिपोर्ट से पता चला है कि , कोरोना महामारी के इतने महीने गुज़र जाने के बाद , अब डॉक्टर्स को शरीर पर कोविड-19 के वास्तविक प्रभाव के बारे में पता चला है।

हाल ही में वॉशिंगटन (Washington) कि एक रिपोर्ट के अनुसार, कोरोना महामारी (Corona pandemic) के इतने महीने गुज़र जाने के बाद, अब डॉक्टर्स को शरीर पर कोविड-19 के वास्तविक प्रभाव के बारे में पता चला है।

रिपोर्ट में बताया गया है कि, पिछले मार्च में विश्व स्वास्थ्य संगठन (World health organization) ने कोविड-19 को एक महामारी के तौर पर घोषित किया था। यह तो पहले ही साबित हो चुका था कि , यह एक घातक और अत्यधिक संक्रामक बीमारी है। यह एक ऐसा वायरस था, जिससे उस समय सभी अज्ञात थे। किसी भी वैज्ञानिक को इस वायरस की कोई खबर नहीं थी और तब से अब तक वैज्ञानिकों ने अपने रिसर्च के दौरान बहुत कुछ सीखा है। उन्हें पता चला है कि, यह शरीर के महत्वपूर्ण अंगों  को प्रभावित करता है तथा इसके प्रभाव भी दीर्घकालिक हैं। 

डॉक्टर्स ने यह भी जाना की कोविड-19 एक श्वासन रोग है। जो वाइरस (Virus) के प्रभाव में आने के कारण होता है। जिसे आधिकारिक तौर पर SARS-COV2 के रूप में जाना जाता है। यह विश्व भर में दूसरी बार है , जब एक वायरस ने लोगों को बीमार किया और बड़े स्तर पर लोगों की मृत्यु का कारण भी बना। रिपोर्ट के अनुसार , SARS पहली बार नवंबर 2002 में चीन (China) में देखा गया था। वायरस का जो वर्तमान संक्रमण है वो भी चीन (China) में 2019 में उभरा और यही वजह है कि, इसे कोविड-19 कहा जाता है।

डॉक्टर्स ने अनुसार यह वायरस सबसे पहले फेफडों (Lungs) पर हमला करते हैं। शुरू में यह अणुओं को काफी बढ़ा देता है और फिर बेअसर कर देता है। जो हमें संक्रमण से लड़ने में काफी मदद करता है। अधिकांशतः लोग ठीक हो जाते हैं , लेकिन वायरस का प्रभाव पूरी तरह ठीक नहीं हो पाता है और को काफी नुकसान पहुंचता है , जिससे रोगियों को सांस लेने में बेहद मुश्किल होती है। वाशिंगटन(Washington) के हि एक रोगी “थॉमस स्टील (Thomas Steel) ने बताया कि , कोविड-19 की वजह से उन्हें डबल लंग ट्रांसप्लांट (Lung Transplant) की जरूरत पड़ गई थी। उन्होंने बताया कि यह हॉस्पिटल में बैठ कर सांस और हवा के लिए हांफने जैसा कुछ भी नहीं है और मैंने ये 58 दिनों तक महसूस किया है। ये वायरस फेफड़ों (Lungs) को नुक्सान पहुंचाते हैं। जिससे ऑक्सीजन (Oxygen) का स्तर गिर जाता है और लोगों को सांस लेने में मदद के लिए, वेंटिलेटर पर रखने की आवश्यकता होती है।

डॉक्टर्स के अनुसार कोविड-19 के कारण रक्तप्रवाह( Blood Stream) में खतरनाक थक्का (Blood Clot) बन सकता है। जिन लोगों की रक्तवाहिकाएं (Blood Stream) पहले से ही उच्च रक्त चाप (High blood pressure) और स्ट्रीस के कारण पीड़ित है जिन लोगों को हृदय रोग है , उन लोगों में इस गंभीर बीमारी का खतरा काफी अधिक है। ये थक्के पूरे शरीर में बन सकते हैं जिनमें हृदय और फेफड़े दोनों शामिल हैं। थक्के (Blood Clot) के कारण ज्यादातर लोगों को दिल का दौरा या स्ट्रीस भी हो सकता है।

कोरोना वायरस के लक्षणों में थकान , सिरदर्द , सांस की तकलीफ या सीने में दर्द जैसी समस्याएं शामिल हैं। (Pexel)

सैन एंटोनियो में टेक्सास स्वास्थ्य विज्ञान केन्द्र के विश्वविद्यालय में “डॉ एलन एंडरसन” (Dr. Allen Anderson) एक बेहतरीन कार्डियोलॉजिस्ट (Cardiologist) में से एक हैं। इन्होंने पाया कि , स्वस्थ दिल वाले लोगों में हृदय की क्षति ज्यादा पाई जाती है।
एंडरसन ने कहा कि , उनके पास रक्त एंजाइम मार्करों की ऊंचाई थी। जो दिल के दौरे के अनुरूप था। हालांकि उनकी कोरोनरी धमनियों में कोई रुकावट नहीं थी लेकिन उनके हृदय के लय में गड़बड़ी थी। वायरस और इसके साथ होने वाले सूजन हृदय के ऊतकों को काफी नुकसान पहुंचाते हैं। कुछ नुकसान इसके उलटे भी होते हैं।

डॉक्टर ने यह भी सीखा है कि , वायरस एक और महत्वपूर्ण अंग गुर्दे (Kidney) को भी नुकसान पहुंचा सकता है। न्यूयॉर्क (Newyork) की एक बड़ी चिकित्सा प्रणाली ने पिछले साल 5000 से भी अधिक कोविड रोगियों को देखा है।

हॉफस्ट्र में एक “डॉ झावेरी” / नॉर्थवेल ग्रेट नेक में एक प्रमुख लेखक हैं , जिनके निष्कर्ष , किडनी इंटरनेशनल जर्नल में यह प्रकाशित हुआ है कि, 5,449 रोगियों में से , 36.6 प्रतिशत में तीव्र गुर्दे की विफलता या गुर्दे कि चोट का पता चला है। उन्होंने बताया कि , जिन लोगों को गुर्दे में चोट लगी उनमें से 14 प्रतिशत को डायलिसिस कि जरूरत पड़ गई थी।

वैज्ञानिक अभी भी शरीर पर कोविड के प्रभाव का अध्ययन कर रहें हैं लेकिन सबसे गंभीर प्रभाव फेफड़ों से शुरु होता है क्षतिग्रस्त फेफड़ों में रक्त प्रवाह के लिए ऑक्सीजन प्राप्त करने में काफी वक्त लगता है और अंगों को कार्य करने के लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है और यदि ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाता तो फेफड़े , गुर्दे , हृदय और यकृत के विफल होने की संभावना बढ़ जाती है।

कोरोना वायरस के लक्षणों में थकान , सिरदर्द , सांस की तकलीफ या सीने में दर्द जैसी समस्याएं शामिल हैं। कुछ लोगों में मस्तिष्क से जुड़ी दिक्कतें भी देखने को मिल सकती हैं और अभी भी लोगों में चिंता और अवसान कि भावनाएं देखने को मिलती हैं। कोरोना के लक्षण दीर्घकालीन भी हो सकते हैं लेकिन यह बताना अभी मुश्किल है क्योंकि इसका कोई तरीका अभी नहीं है।

यह भी पढ़े :- दक्षिण अफ़्रीका इंटरपोल ने कहा कि , अब तक सैकड़ों नकली कोविड-19 टीके ज़ब्त किए जा चुके हैं।

क्लीवलैंड क्लीनिक के एक संक्रामक रोग विशेषज्ञ “डॉ क्रिस्टीन एंगलंड” (Kristin Englund) ने बताया कि हमें अभी नहीं पता कि कितने मरीज़ इस कोविड के लक्षण से प्रभावित रहेगें। कुछ चिकित्सा केन्द्रों ने लंबे – पतले लोगों का इलाज करने तथा जिनमें कोविड से ठीक होने के बाद भी लक्षण बने रहते हैं , उनके लिए विशेष क्लीनिक शुरू किया है।

लोगों की जीवन अवधि इस कोविड-19 के कारण बहुत काम हो चुकी है। इसने बड़े स्तर पर लोगों को प्रभावित किया है। स्टीन (Stin) ने कहा कि , कोविड महामारी के बाद , में अपने जीवन में कभी भी एक सा व्यक्ति नहीं रह पाऊंगा। (VOA-SM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी