Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
ओपिनियन

चीन की चिंता व्यर्थ है! भारत को बर्बाद करने के लिए हमारे अपने ही काफी हैं

"भारत-चीन के बीच हुए खूनी संघर्ष में 20 भारतीय जवानों के शहादत के आंकड़ों को सही मान कर इन्होने सरकार को घेरना शुरू कर दिया था, लेकिन वहीं जब चीनी खेमे में हुए मौत के आंकड़ें सामने आयें तो ये सबूत मांगने लग गए"

चीन की चिंता व्यर्थ है! भारत को बर्बाद करने के लिए हमारे अपने ही काफी हैं

भारत और चीन के बीच चल रहे विवाद के कारण हमारे ही देश के बुद्धिजीवियों ने सरकार और सेना पर सवाल उठाने शुरू कर दिये है। जानकारी के मुताबिक गलवान घाटी स्थित एलएसी(लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल) पर एक खूनी संघर्ष में भारत के 20 जवान शहीद हो गए, तो वहीं चीनी सेना को भी भारी नुकसान सहना पड़ा है। सूत्रों के अनुसार चीनी सेना के 43 जवानों के घायल/मारे जाने की बात सामने आई है। 

इस घटना के बाद भारत के विपक्षी पार्टियों ने मुखर रूप से प्रधानमंत्री और सरकार का विरोध शुरू कर दिया है। सरकार के नाम पर ये लोग लगातार सेना के फ़ैसलों पर सवाल उठा रहे हैं। एक बड़ी तादाद, उन लोगों की भी है जो इस घटना के बाद, सेना और देश के साथ मजबूती से खड़े होने की जगह भारतीय जवानों की मौत का भद्दा मज़ाक उड़ा रहा है। इन लोगों में से सबसे बड़ा गुट, वामपंथियों और काँग्रेस पार्टी के नेता और समर्थकों का है।


कोई इतनी दर्दनाक घटना का मज़ाक कैसे बना सकता है? करण तलवार नाम के एक कॉमेडियन ने जाहिलीयत की सारी हदें पार कर दी है। अभी हाल ही में अमरीका में, श्वेत पुलिसकर्मी द्वारा अश्वेत नागरिक का गला घोंट कर मार दिये जाने का एक वीडियो वायरल हुआ था। उसी वीडियो में से एक तस्वीर निकाल कर एडिट कर दिया गया है,और उसे ऐसा दिखाने का प्रयास किया गया है जैसे मारने वाला व्यक्ति चीन का राष्ट्रपति है तो वहीं मार खाने वाले व्यक्ति को प्रधानमंत्री मोदी के रूप में दर्शाया गया है। इन्स्टाग्राम पर करण तलवार द्वारा डाले गए पोस्ट का स्क्रीनशॉट मैंने ट्वीटर पर साझा किया है। आप देख सकते हैं। 

एक्टर, कॉमेडियन, बॉलीवुड के डायरेक्टर, पत्रकार, और कई बुद्धिजीवी, ओछी भाषा का प्रयोग कर, देश और सेना का मनोबल कमजोर करने की लगातार कोशिश कर रहे हैं। प्रधानमंत्री को डरपोक बताना, सेना को सर्जिकल स्ट्राइक के लिए उकसाना, और कई अन्य तरीकों से ये लोग चाइना का पक्ष मजबूत करने की जी-जान से कोशिश कर रहे हैं।

अनुराग कश्यप, बॉलीवुड के जाने माने डायरेक्टर में से एक हैं। आप इनके ट्वीट को पढ़िये और समझने की कोशिश करिए की आखिर वो कहना क्या चाह रहे हैं। आखिर वो किसे और क्यूँ कह रहे हैं?

6 जून को भारत और चीन के बीच करार होता है की, दोनों देश अपनी सेना को सीमा से पीछे हटाएँगे। भारत इस करार को मान कर अपनी सेना पीछे कर लेता है, लेकिन चीन धोखेबाज़ी कर वहीं जमा रहता है। जब इसकी खबर भारतीय सेना के कर्नल संतोष बाबू को लगती है तो इस बात का जायजा लेने वो अपनी छोटी टुकड़ी के साथ वहाँ पहुँचते हैं लेकिन पहले से ही तैयार बैठी चीनी सेना उन पर हमला कर देती है, जो बाद में भयानक खूनी संघर्ष का रूप ले लेता है। कम संख्या में होने के बावजूद भी हमारे वीर जवान, चीनी सेना को करारा जवाब देने में सफल साबित होते हैं। इस संघर्ष में भारत के 20 जवान शहीद हो जाते है, तो वही चीन के 43 जवानों के मारे जाने की भी खबर आती है। 

चीन की इस धोखेबाज़ी और कायराना हरकत पर आप मोदी को गाली देते हैं, सेना को गाली देते हैं? आप अपने ही देश की सरकार और देश की सेना को डरपोक बताते हैं। सेना के जवान अपनी जान पर खेल कर दुश्मनों पर हमला करते हैं, उनसे लड़ते हैं, उनमें से कइयों को जान की बलिदानी तक देनी पड़ती है। और आप इन्हे डरपोक कह रहे हैं? क्या आपने चीनी सेना की हरकत पर कुछ बोला? क्या चीन की हरकत कायराना नहीं थी? पूछने पर ये लोग झट से कह देंगे की, “हम तो सरकार से सवाल कर रहे हैं”। ये कैसा सवाल है? क्या आपको सारी गलती अपने देश की सेना और सरकार में ही नज़र आती है?

इतना ही नहीं, आप सेना द्वारा किए जाने वाले सर्जिकल स्ट्राइक तक का मज़ाक उड़ते हो, आप उनके समर्थन में खड़े होने की जगह उन्हे उक्सा रहे हो?

यशवंत सिन्हा ने भी इस घटना पर सर्जिकल स्ट्राइक की मांग कर उकसाने की कोशिश की है। इस पर ऑपइंडिया के मालिक राहुल रौशन लिखते हैं की “जब पाकिस्तान की बात आती है तो ये लोग ‘अमन की आशा’ जैसी बातें करते हैं क्यूंकी इन्हे पता है की युद्ध अगर पाकिस्तान से होती है तो भारत ही जीतेगा। लेकिन चाइना से विवाद की स्थिति में यही लोग जंग लड़ने को लेकर उकसाने लगते हैं, क्यूंकी इन्हे लगता है और ये मनाते भी हैं की चाइना भारत को बर्बाद कर देगा”।

अक्सर देखा जाता है की ऐसे संघर्ष में ये लोग भारत के जवानों की शहदत के आंकड़ें बढ़ा चढ़ा कर चलाते हैं, लेकिन दुश्मन के खेमे में हुई मौत के आंकड़ें पर ये संदेह जताने लगते हैं, और उसे मानने से इंकार कर देते हैं। सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक के वक़्त भी सेना द्वारा साझा किए गए आतंकवादियों के मौत के आंकड़ों पर इन लोगों ने बार बार सवाल उठाए थे। ठीक उसी प्रकार, भारत-चीन के बीच हुए खूनी संघर्ष में 20 भारतीय जवानों के शहादत के आंकड़ों को सही मान कर इन्होने सरकार को घेरना शुरू कर दिया था, लेकिन वहीं जब चीनी खेमे में हुए मौत के आंकड़ें सामने आयें तो ये सबूत मांगने लग गए। मकसद साफ है-

‘दुनिया के सामने देश को कमजोर साबित करना’

आप इस इनकी भाषा को भी देखिये, ऐसों की संख्या लाखों में है –


भारत चीन सीमा विवाद और खूनी संघर्ष को देखते हुए पूरे भारत में चाइना के उत्पादों पर रोक लगाने की मांग की जा रही है। ट्वीटर पर चीन और चीनी सामानों के खिलाफ ट्रेंड भी चलाए जा रहे हैं। हमारे 20 जवानों के शहीद होने के बाद देश में चाइना के खिलाफ जन्मा गुस्सा स्वाभाविक है। लेकिन वहीं एक गुट ऐसा भी है जो इसके भी खिलाफ अपनी आवाज़ उठाने लगा है। ट्वीटर पर मुझे एक महिला का ट्वीट दिखा जिसमे वो सरकार को कोसते हुए कह रही है की, वो चीनी उत्पादों का बहिष्कार नहीं करेंगी।  

ऐसे लोगों का देश के प्रति योगदान शून्य के बराबर होता है। ये लोग हर समस्या का समाधान प्रधानमंत्री से मांगते हैं। हर मुसीबत, हर तकलीफ़, हर घटना का जिम्मेदार प्रधानमंत्री को ही बताते हैं। और जब प्रधानमंत्री या सरकार किसी मुसीबत से निकलने का समाधान ले कर आती है तो इनकी पूरी लॉबी इसका विरोध करने में जुट जाती है। मतलब साफ है, “खुद कुछ करना नहीं है, और जो कर रहे हैं, उन्हे कुछ करने नहीं देना है। 

आज काँग्रेस पार्टी के नेता राहुल गांधी ने भी ट्वीटर पर सवाल कर दिया की, हमारी सेना आखिर बिना हथियार के क्यूँ गयी। ये राहुल गांधी की अज्ञानता कह लीजिए या उनकी सरकार और सेना विरोधी मानसिकता, जिसके कारण वो हर संभव हालत में सरकार या सेना का विरोध करने को आतुर रहते हैं। 

सेना द्वारा हथियार ना रखने के पीछे की वजह 1996 में हुई सीमा संधि है जिसके तहत एलएसी के 2 किलोमीटर के रेंज में सैनिकों द्वारा हथियार रखे जाने या उसके इस्तेमाल पर प्रतिबंध है। ये भारतीय और चीनी सेना, दोनों के लिए लागू होता है।

ये बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है की ऐसे कठिन समय में भी ऐसी ओछी राजनीति की जा रही है। भारत के भीतर ही ऐसे लोग भरे पड़े हैं जो हमारे सैनिकों को मरता हुआ देखना चाहते हैं, ताकि उन्हे सरकार के खिलाफ विरोध का मौका मिल सके। शर्मनाक।

 

Popular

डब्ल्यूएचओ यानीं विश्व स्वास्थ्य संगठन का मुख्यालय (wikimedia commons)

पूरी दुनिया एक बार फिर कोरोना वायरस अपना पांव पसार रहा है । डब्ल्यूएचओ यानीं विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि कोरोना वायरस का जो डेल्टा कोविड वैरिएंट संक्रामक वायरस का वर्तमान में प्रमुख प्रकार है, अब यह दुनिया भर में इसका फैलाव हो चूका है । इसकी मौजूदगी 185 देशों में दर्ज की गई है। मंगलवार को अपने साप्ताहिक महामारी विज्ञान अपडेट में वैश्विक स्वास्थ्य एजेंसी ने कहा, डेल्टा वैरिएंट में अब सेम्पल इकट्ठा करने की डेट जो कि 15 जून -15 सितंबर, 2021 के बीच रहेंगीं । जीआईएसएआईडी, जो एवियन इन्फ्लुएंजा डेटा साझा करने पर वैश्विक पहल के लिए है, एक ओपन-एक्सेस डेटाबेस है।

मारिया वान केरखोव जो विश्व स्वास्थ्य संगठन में कोविड-19 पर तकनीकी के नेतृत्व प्रभारी हैं , उन्होंने डब्ल्यूएचओ सोशल मीडिया लाइव से बातचीत करते हुए कहा कि , वर्तमान में कोरोना के अलग अलग टाइप अल्फा, बीटा और गामा का प्रतिशत एक से भी कम चल रहा है। इसका मतलब यह है कि वास्तव में अब दुनिया भर में कोरोना का डेल्टा वैरिएंट ही चल रहा है।

\u0915\u094b\u0930\u094b\u0928\u093e \u0935\u093e\u092f\u0930\u0938 कोरोना का डेल्टा वैरिएंट हाल के दिनों में दुनियाभर में कहर बरपाया है (pixabay)

Keep Reading Show less

ऑस्ट्रेलिया का नक्शा (Wikimedia Commons)

ऑस्ट्रेलिया की शार्क प्रजातियों पर एक खतरा आ गया है। वहाँ 10 प्रतिशत से अधिक शार्क प्रजाति विलुप्त होने ही वाली है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, राष्ट्रीय पर्यावरण विज्ञान कार्यक्रम (एनईएसपी) समुद्री जैव विविधता हब ने सभी ऑस्ट्रेलियाई शार्क, किरणों और घोस्ट शार्क (चिमेरा) के विलुप्त होने का मूल्यांकन प्रकाशित किया है।


ऑस्ट्रेलिया दुनिया की कार्टिलाजिनस मछली प्रजातियों के एक चौथाई से अधिक का घर है, इसमें 182 शार्क, 132 किरणें और 14 चिमेरे ऑस्ट्रेलियाई जलमार्ग में हैं। पीटर काइन जो चार्ल्स डार्विन विश्वविद्यालय (सीडीयू) के एक वरिष्ठ शोधकर्ता है और रिपोर्ट के प्रमुख लेखक है उन्होंने कहा कि तुरंत कार्रवाई की जरूरत है। पीटर काइन कहा, "ऑस्ट्रेलिया का जोखिम 37 प्रतिशत के वैश्विक स्तर से काफी कम है। यह उन 39 ऑस्ट्रेलियाई प्रजातियों के लिए चिंता का विषय है, जिनके विलुप्त होने का खतरा बढ़ गया है।"

Keep Reading Show less

ब्रिटेन में पढ़ने के लिए राज्य छात्रवृत्ति मिली 6 आदिवासी छात्रों को।(Unsplash)

भारत के झारखंड राज्य में कुछ छात्रों का भविष्य उज्व्वल होने जा रहा है । क्योंकि झारखंड राज्य में छह छात्रों को राज्य के छात्रवृत्ति कार्यक्रम के तहत विदेश में मुफ्त उच्च शिक्षा मिलने जा रही है। राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और कल्याण मंत्री चंपई सोरेन राजधानी रांची में गुरुवार कोआयोजित होने वाले एक कार्यक्रम में छात्रवृत्ति योजना मारंग गोमके जयपाल सिंह मुंडा के तहत लाभार्थियों छात्रोंऔर उनके अभिभावकों को सम्मानित करने जा रहे है।

आप को बता दे की यह योजना राज्य सरकार द्वारा यूके और आयरलैंड में उच्च अध्ययन करने हेतु अनुसूचित जनजातियों के छात्रों के लिए शुरू की गई है। छात्रवृत्ति के पुरस्कार प्राप्त करने वाले छात्रों को विविध खर्चो के साथ-साथ ट्यूशन फीस भी पूरी तरह मिलेगी । इस योजना के अनुसार झारखंड राज्य में हर साल अनुसूचित जनजाति से 10 छात्रों का चयन किया जाएगा।

सितंबर में ब्रिटेन के 5 विभिन्न विश्वविद्यालयों में अपना अध्ययन कार्यक्रम शुरू करंगे 6 छात्र जिनको को चुना गया हैं।

अगर बात करे चयनित छात्रों की सूचि के बारे में तो इसमें से हरक्यूलिस सिंह मुंडा जो कि "यूनिवर्सिटी ऑफ लंदन " के "स्कूल ऑफ ओरिएंटल एंड अफ्रीकन स्टडीज" से एमए करने जा रहे हैं। "मुर्मू यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ लंदन" से छात्र अजितेश आर्किटेक्चर में एमए करने जा रहे हैं। और वंहीआकांक्षा मेरी "लॉफबोरो विश्वविद्यालय" में जलवायु परिवर्तन, विज्ञान और प्रबंधन में एमएससी करेंगी, जबकि दिनेश भगत ससेक्स विश्वविद्यालय में जलवायु परिवर्तन, विकास और नीति में एमएससी करेंगे।

\u0938\u094d\u091f\u0942\u0921\u0947\u0902\u091f विश्वविद्यालय में पढ़ते हुए छात्र (pixabay)

Keep reading... Show less