Monday, January 25, 2021
Home दुनिया चीन में बुजुर्गों का जीवन और बच्चों की परवरिश का हाल

चीन में बुजुर्गों का जीवन और बच्चों की परवरिश का हाल

भारत की तरह ही चीनी बुजुर्ग भी अपने नाती-पोतों को पालने में अहम भूमिका निभाते हैं। चीनी बच्चों की परवरिश हम भारतीयों से किसी भी तरह जुदा नहीं है।

हमें बचपन से ही सिखाया जाता है कि बड़ों का आदर करो, बुजुर्गों का सम्मान करो। चीन में भी बिल्कुल यही सीख बचपन से दी जाती है। चीनी बच्चों की परवरिश हम भारतीयों से किसी भी तरह जुदा नहीं है। और हां, चीनी बुजुर्ग काफी सेहतमंद, चुस्त-दुरूस्त होते हैं। अगर चीनी बुजुर्गों की जीवनशैली या आदतों की बात करें तो फैशन के मामले में वे किसी भी पश्चिमी देश के बुजुर्ग को पीछे छोड़ दें। चीनी लोग फैशन के मामले में पूरी तरह से अपडेट रहते हैं। हमने अक्सर अपनी दादी-नानी को यह कहते सुना है- अब मेरी ये सब पहनने-ओढ़ने की उम्र कहां रही। पर चीनी दादी-नानी इसके विपरीत खुद को एकदम चुस्त-दुरूस्त रखतीं और बनठन कर रहती हैं।

हालांकि भारत की तरह ही चीनी बुजुर्ग भी अपने नाती-पोतों को पालने में अहम भूमिका निभाते हैं, परंतु फैशन में किसी तरह की कोताही नहीं बरतते। कई बुजुर्ग महिलाएं छीपाओ (चीनी गाउन) भी पहनती हैं, जो आमतौर पर युवा महिलाएं और लड़कियों की पसंद है। इसके अलावा, चीनी बुजुर्ग अपने बालों पर बड़ा ध्यान देते हैं, समय-समय पर अपने बालों का स्टाइल बदलवाते हैं, कुछ तो अपने बालों को काले या भूरे भी रंगवाते हैं, उनका मानना है कि हमेशा जवान दिखना चाहिए।

यह भी पढ़ें – शांति अभियानों के लिए अधिक सैनिकों की तैनाती के साथ क्या है चीन की मंशा ?

अपनी नौकरी से रिटायर होने के बाद ज्यादातर बूढ़े लोग अपने नाती-पोतों को पालने में व्यस्त हो जाते हैं। पर कुछ बुजुर्ग स्वयंसेवी बन जाते हैं और समाज की सेवा करने में अपना योगदान देते हैं। जैसे कि लालबत्ती पर लोगों से सड़क नियमों का पालन करवाना, बस स्टॉप पर भीड़ को काबू करना, लोगों को सीधी लाइन में खड़े होने का निर्देश देना, साफ-सफाई करना आदि। चीन में बूढ़े लोग इन सभी कामों में बढ़चढ़ कर हिस्सा लेते हैं, देश व समाज की सेवा करने में खुद को गौरवान्वित महसूस करते हैं।

Life of the elderly in china
चीन में बूढ़े लोग देश व समाज की सेवा करने में बढ़ चढ़ कर भाग लेते हैं। (Unsplash)

चीनी बुजुर्गों की सबसे अच्छी बात यह लगती है कि वे अपने आपको व्यस्त रखते हैं। उनमें अनुशासित होने की अच्छी आदत है और बच्चों की तरह वे भी टाइम टेबल के अनुरूप चलते हैं। खैर, समय का पाबंद होना तो यहां बचपन से ही सिखाया जाता है। युवा लोगों की तरह बूढ़े लोग भी तय समय पर अपना काम करते हैं। भोजन करना, सोना-जागना, बाहर सैर पर जाना आदि सब काम तय समय पर करते हैं। बच्चों का लालन-पोषण करने के अलावा चीनी बुजुर्ग अपना जीवन अपने हिसाब से जीते हैं। खाली समय में अपना पसंदीदा काम करना उन्हें बहुत अच्छा लगता है।

यह भी पढ़ें – चीन से बदला लेंगे हमारे भारतीय व्यापारी

सुबह-शाम पार्क में कई चीनी बुजुर्गों का समूह देखा जा सकता है जहां वे गाने का शौक रखने वाले माइक लेकर गाना गाते हैं, संगीत प्रेमी संगीत बजाकर जुगलबंदी करते हैं, तो कुछ सिर्फ बैठकर उस संगीत का आनंद लेते हैं। सुबह-शाम कसरत करना या एकसाथ मिलकर डांस करना, ये सभी खुद को व्यस्त रखने के साथ-साथ चीनी बुजुर्गों का स्वस्थ रहने का फॉमूर्ला भी है। चीनी बूढ़े लोग अपने खान-पान और सेहत का ध्यान बहुत अच्छे से रखते हैं। शायद तभी आज चीन में जीवन प्रत्याशा दर कहीं ज्यादा है। सर्दियों में जहां व्यायाम या दौड़ लगाते हुए नजर आएंगे, वहीं गर्मियों में संगीत पर थिरकते हुए दिखाई देते हैं।

चीन में महिला या पुरूष में असमानता नहीं रखी जाती है, शायद इसलिए यहां बुजुर्ग अपना जीवन आजादी और खुशी से बिता पाते हैं। वे किसी पर भी निर्भर नहीं रहते। वे अपने ज्यादातर काम खुद ही करते हैं। बाजार जाना, रोजमर्रा का सामान खरीदना, बैंक या अस्पताल के काम आदि सब कुछ अपने आप करते हैं। शायद इसलिए वे अन्य किसी भी देश के बुजुर्गों की तुलना में काफी फुतीर्ले होते हैं। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

हाल की टिप्पणी