बेहद रोचक इतिहास है तमिलनाडु के भव्य सारंगपानी मंदिर का, प्राचीन मंदिरों में से है एक

यह मंदिर काफी प्राचीन है और इसमें मध्यकालीन चोल, विजयनगर साम्राज्य और मदुरै नायकों ने अलग-अलग समय पर योगदान दिया है। यह मंदिर एक विशाल ग्रेनाइट दीवार के भीतर स्थित है और इसके परिसर में मंदिर के सभी मंदिर और जल निकाय मौजूद हैं।
Sarangapani Temple in Tamilnadu :सारंगपानी मंदिर एक प्राचीन मंदिर है, यहां भगवान विष्णु की पूजा होती है (Wikimedia Commons)
Sarangapani Temple in Tamilnadu :सारंगपानी मंदिर एक प्राचीन मंदिर है, यहां भगवान विष्णु की पूजा होती है (Wikimedia Commons)

Sarangapani Temple in Tamilnadu : सारंगपानी मंदिर एक प्राचीन मंदिर है, यहां भगवान विष्णु की पूजा होती है, यह मंदिर दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु के कुंभकोणम शहर में स्थित है। कावेरी नदी के तट पर बसा ये मंदिर इतना सुंदर है कि यहां दुनिया भर से भगवान विष्णु के भक्त आते हैं। पूजा का एक पवित्र स्थान होने के साथ-साथ, यह मंदिर अपने आप में एक कला का काम है, जिसमें जटिल नक्काशीदार और रंग-बिरंगे सजावटी पौराणिक मूर्तियों और छवियों के कई स्तर हैं। तो आइए जानते हैं इस मंदिर से जुड़ी कुछ रोचक तथ्य।

नाम के पीछे है खास वजह

सारंगपानी मंदिर भारत के तमिलनाडु के कुंभकोणम में स्थित भगवान विष्णु को समर्पित एक हिंदू मंदिर है । यह दिव्य देशम में से एक है, इस मंदिर में त्रिदेवों में से एक भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। इस मंदिर का नाम सारंगपानी होने के पीछे की एक खास वजह है। संस्कृत शब्द सारंग का अर्थ है भगवान विष्णु का धनुष और पाणि का अर्थ है हाथ। सारंगपाणि नाम का अर्थ है “वह जिसके हाथ में धनुष है।” यह मंदिर पंच क्षेत्रम का भी एक हिस्सा है, जिसका अर्थ है 5 मंदिर। ऐसा माना जाता है कि देवी लक्ष्मी का जन्म सारंगपानी मंदिर में महर्षि भृगु की पुत्री भार्गवी के रूप में हुआ था।

सारंगपाणि नाम का अर्थ है “वह जिसके हाथ में धनुष है।” (Wikimedia Commons)
सारंगपाणि नाम का अर्थ है “वह जिसके हाथ में धनुष है।” (Wikimedia Commons)

द्रविड़ वास्तुकला का मिलता है झलक

दक्षिण भारत के मंदिरों का आर्किटेक्चर बेहद ही विशेष होता है। ऐसी मान्यता है कि यह मंदिर लगभग 2000 वर्ष पुराना है। 9वीं शताब्दी में चोल वंश और बाद में विजयनगर साम्राज्य, मदुरै नायक और मध्ययुगीन चोलों द्वारा समय-समय पर इसका पुनर्निर्माण किया गया था। सारंगपानी मंदिर के आर्किटेक्चर में आपको द्रविड़ वास्तुकला की झलक देखने को मिलती है। इस मंदिर में जटिल नक्काशी, भव्य गोपुरम और खूबसूरती से गढ़े गए स्तंभ हैं। मंदिर का मुख्य टॉवर लगभग 150 फीट ऊंचा है। यह दक्षिण भारतीय मंदिरों की भव्य वास्तुकला और शिल्प कौशल को दर्शाता है।

मंदिर में स्थित है पवित्र तालाब

इस मंदिर में पोतरामराय कुलम नामक एक महत्वपूर्ण तालाब है। इस पवित्र तालाब के बारे में कहा जाता है कि इसे ऋषि भृगु ने बनाया था। तालाब और उसके आस-पास के क्षेत्र को बेहद पवित्र माना जाता है और यह मंदिर के विभिन्न अनुष्ठानों और त्योहारों का खास हिस्सा रहता है।

Related Stories

No stories found.
logo
hindi.newsgram.com