रेल से सफर करनेवाले लोगों के लिए बड़ी खुशखबरी

भारतीय रेलवे ने देशभर में कड़ाके की सर्दी को देखते हुए ये फैसला लिया है कि जनरल टिकट लेने वाले यात्री भी अब स्लीपर डिब्बे में सफर कर पाएंगे।
रेल से सफर करने वालो के लिए बड़ी खुशखबरी (Newsgram)

रेल से सफर करने वालो के लिए बड़ी खुशखबरी (Newsgram)

भारतीय रेलवे

भारतीय रेलवे (Indian Railway) ने अपने यात्रियों को बेहतर सुविधा देने का एक नया तरीका अपनाया है। इसके तहत सर्दी के मौसम में जनरल टिकट (General Ticket) पर यात्री स्लीपर क्लास (Sleeper class) में सफर कर पाएंगे।

भारतीय रेलवे ने देशभर में कड़ाके की सर्दी को देखते हुए ये फैसला लिया है कि जनरल टिकट लेने वाले यात्री भी अब स्लीपर डिब्बे में सफर कर पाएंगे। खासबात ये है कि इसके लिए यात्रियों कोई अतिरिक्त शुल्क की मांग भी नहीं की जाएगी। रेलवे का ये नया फैसला, गरीब और खासकर के बुजुर्ग यात्रियों के लिए बेहद मददगार साबित होगा।

<div class="paragraphs"><p>रेल से सफर करने वालो के लिए बड़ी खुशखबरी (Newsgram)</p></div>
Railway Facts: दुनिया के इन देशों में आज तक नहीं चली एक भी रेल

रेलवे प्रशासन ने तय किया है कि सर्दी के मौसम में खाली चल रहे स्लीपर कोच में जनरल टिकट के यात्रियों को सफर कराया जाए। इसी के मद्देनजर रेलवे बोर्ड ने सभी मंडल रेल प्रशासन से 80 प्रतिशत से कम यात्री के साथ चल रहे स्लीपर कोच की सूचना मांगी है। ताकि उन स्लीपर कोच को जनरल में बदला जाए।

<div class="paragraphs"><p>  एसी और स्लीपर श्रेणी के कोच की संख्या लगभग बराबर&nbsp;(IANS)</p></div>

एसी और स्लीपर श्रेणी के कोच की संख्या लगभग बराबर (IANS)

दरअसल, सर्दी की वजह से ज्यादातर यात्री स्लीपर कोच के बजाए एसी कोच में सफर कर रहे हैं। इस वजह से ट्रेनों में एसी कोच भी बढ़ाए गए हैं। इसके बाद से कई ट्रेनों में तो एसी और स्लीपर श्रेणी के कोच की संख्या लगभग बराबर हो गई है। सर्दी का आलम ये है कि स्लीपर कोच में 80 प्रतिशत तक सीट खाली रह रही हैं। इसके विपरीत जनरल टिकट से यात्रा करने वालों की संख्या बढ़ रही है। इसे देखते हुए रेलवे इस पर विचार कर रहा है कि स्लीपर कोच में यात्री कम रहने वाली ट्रेनों में स्लीपर को जनरल कोच का दर्जा दिया जाएगा। इसी के तहत अब ऐसे कोच के बाहर अनारक्षित लिखा होगा लेकिन जनरल कोच में बदले गए इन कोचों में बीच की बर्थ खोलने की अनुमति नहीं दी जायगी।

आईएएनएस/PT

Related Stories

No stories found.
logo
hindi.newsgram.com