कोलकाता: ट्रांसजेंडर समुदाय कर रहा 'अर्धनारीश्वर' के रूप में मां दुर्गा की पूजा

मूर्ति को विसर्जित नहीं किया जाता है, बल्कि पूरे वर्ष गरिमा गृह के एक कोने में रखा जाता है, जिसे वार्षिक शुभ अवसर के दौरान सजाया जाता है और पूजा की जाती है।
ट्रांसजेंडर समुदाय कर रहा 'अर्धनारीश्वर' के रूप में मां दुर्गा की पूजा
ट्रांसजेंडर समुदाय कर रहा 'अर्धनारीश्वर' के रूप में मां दुर्गा की पूजा IANS

कोलकाता में ट्रांसजेंडर (Transgender) समुदाय के बेघरों के लिए एक आश्रय स्थल 'गरिमा गृहो' (Garima Griho) (गौरव का घर) इस साल अपने वार्षिक दुर्गा पूजा कार्यक्रम के पांचवें संस्करण का जश्न मना रहा है। पूजा दो तरह से अनूठी है - यहां देवी दुर्गा की पूजा 'अर्धनारीश्वर' के रूप में की जाती है, जो आयोजकों के अनुसार देवी दुर्गा और भगवान शिव की शक्तियों का संयोजन है।

इस पूजा का दूसरा अनूठा बिंदु यह है कि मूर्ति को विसर्जित नहीं किया जाता है, बल्कि पूरे वर्ष गरिमा गृह के एक कोने में रखा जाता है, जिसे वार्षिक शुभ अवसर के दौरान सजाया जाता है और पूजा की जाती है।

ट्रांसजेंडर समुदाय कर रहा 'अर्धनारीश्वर' के रूप में मां दुर्गा की पूजा
प्रवासी श्रमिक के रूप में मां दुर्गा की मूर्ति की फिल्म जगत में तारीफ



इस आयोजन की प्रमुख आयोजक और पश्चिम बंगाल ट्रांसजेंडर डेवलपमेंट बोर्ड (Transgender Development Board) की पूर्व सदस्य रंजीता सिन्हा ने बताया कि वे विसर्जन के लिए क्यों नहीं जाना पसंद करते हैं। उन्होंने कहा, विसर्जन की अवधारणा में देवी दुर्गा और उनके परिवार से पूरे एक साल के लिए अलग होने का दर्द शामिल है। हम काफी हद तक समाज से अलग-थलग हैं। इसलिए, हम विसर्जन के माध्यम से अतिरिक्त दर्द सहन नहीं करना चाहते।

उन्होंने कहा कि इस साल की दुर्गा पूजा उनके लिए बहुत खास है क्योंकि इस समुदाय के दो लोग इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए कोलकाता पहुंचे हैं।

सिन्हा ने कहा, समुदाय के लोगों के अलावा, बच्चों के साथ-साथ एसिड हमलों के शिकार भी चार दिनों के उत्सव का जश्न मनाने के लिए हमारे साथ शामिल हुए हैं। इस साल हमारे लिए पूजा सभी सामाजिक बाधाओं और अस्पृश्यता को तोड़ने वाली घटना थी।

दुर्गा पूजा
दुर्गा पूजाIANS



आयोजन के एक अन्य सहयोगी देबांग्शी विश्वास ने कहा कि इस आयोजन की अच्छी बात यह है कि यह पितृसत्ता की परंपराओं से ऊपर है, जहां पुजारी को ब्राह्मण पुरुष होना चाहिए।

एक अन्य सहयोगी ट्रेसी शिवांगी सरदार ने कहा कि यह पूजा समुदाय के लोगों का अपना एक वार्षिक कार्यक्रम है। उन्होंने कहा, पिछले वर्षों में, हम पंडाल घूमने जाते थे, लेकिन हमें मौज-मस्ती करने वालों की टिप्पणियों का सामना करना पड़ता था। यह हमारी अपनी पूजा है, लेकिन भागीदारी केवल समुदाय के लोगों तक ही सीमित नहीं है। कोई भी यहां पूजा में शामिल होने के लिए स्वतंत्र है।

(आईएएनएस/HS)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com