पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों ने किया फुटबॉल खेलो, स्वस्थ रहो खेल का आयोजन

संदेश फैलाने के लिए 'फुटबॉल खेलो, स्वस्थ रहो (Football Khelo, Swasth Raho)।' पश्चिम बंगाल के हुगली जिले के उत्तरपाड़ा स्थित खेल मैदान में रविवार दोपहर फुटबॉल के अनोखे मुकाबले का आयोजन किया गया।
फुटबॉल खेलो, स्वस्थ रहो
फुटबॉल खेलो, स्वस्थ रहोIANS

दुनिया भर में इस साल कतर (Qatar) में फीफा विश्व कप (Fifa World Cup) का जश्न शुरू हो गया है, ऐसे में पश्चिम बंगाल (West Bengal) के हुगली (Hugli) जिले में एक निजी जिला अस्पताल और उससे संबद्ध स्वास्थ्य केंद्र से जुड़े डॉक्टरों और चिकित्सा कर्मचारियों ने एक अनोखे फुटबॉल (Football) मैच का आयोजन किया है। संदेश फैलाने के लिए 'फुटबॉल खेलो, स्वस्थ रहो (Football Khelo, Swasth Raho)।' पश्चिम बंगाल के हुगली जिले के उत्तरपाड़ा स्थित खेल मैदान में रविवार दोपहर फुटबॉल के अनोखे मुकाबले का आयोजन किया गया। एक टीम में मां शारदा अस्पताल प्राइवेट लिमिटेड और उसी जिले के कोननगर में स्थित इसके संबद्ध मां शारदा पी4 हेल्थकेयर से जुड़े डॉक्टर शामिल थे। जबकि दूसरी टीम में इन दोनों संस्थाओं के चिकित्सा और गैर-चिकित्सा कर्मचारी शामिल थे।

मैच में डॉक्टरों की टीम को विरोधी टीम ने तीन-शून्य के अंतर से हरा दिया। मां शारदा हॉस्पिटल प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक डॉ. सोवन चट्टोपाध्याय के मुताबिक, यह चौथा साल है जब इस तरह के फुटबॉल मैच का आयोजन किया जा रहा है और इस साल आयोजकों ने इसे उसी दिन आयोजित करने का फैसला किया, जिस दिन कतर में फीफा विश्व कप शुरू हुआ था।

फुटबॉल खेलो, स्वस्थ रहो
World Cup 2022 में दर्शकों से भरे रहेंगे स्टेडियम : FIFA अध्यक्ष इन्फेंटिनो

उन्होंने कहा, स्वास्थ्य सर्वोपरि है और अच्छे स्वास्थ्य के लिए खेलों में भागीदारी जरूरी है। इसलिए, इस मैच में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से चिकित्सा पेशे से जुड़े लोगों ने इस संदेश को जनता तक पहुंचाने के लिए आयोजित किया है।

उन्होंने बताया कि डॉक्टरों और स्टाफ ने अपने व्यस्त कार्यक्रम से समय निकालकर मैच में हिस्सा लिया। उन्होंने कहा, मैच के परिणाम प्रासंगिक नहीं हैं। हमारा मकसद संदेश फैलाना था- फुटबॉल खेलो और स्वस्थ रहो।

फुटबॉल (Football) मैच
फुटबॉल (Football) मैचIANS

भारतीय टीम के पूर्व फुटबॉलर सुब्रत भट्टाचार्य ने आईएएनएस से बात करते हुए इस पहल की तारीफ की। उन्होंने कहा, "स्वामी विवेकानंद ने एक बार कहा था कि भगवत गीता पढ़ने की अपेक्षा फुटबॉल खेलना स्वर्ग के अधिक निकट होगा। खुद एक फुटबॉल खिलाड़ी होने के नाते मेरा मानना है कि फुटबॉल या कोई भी खेल खेलकर आप खुद को शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से स्वस्थ रख सकते हैं इसलिए मैं इस मैच के आयोजकों को तहे दिल से बधाई देता हूं।"

आईएएनएस/PT

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com