चीन लॉकडाउन में विश्वविद्यालय छात्र समूह कर रहे रेंगने जैसी अजीब हरकतें

इसने दर्शकों को यह अनुमान लगाने के लिए प्रेरित किया कि यह कैंपस में महीनों तक लॉकडाउन चलने की प्रतिक्रिया थी।
छात्र समूह कर रहें रेंगने जैसी अजीब हरकतें
छात्र समूह कर रहें रेंगने जैसी अजीब हरकतेंIANS

चीन (China) की शून्य-कोविड नीति (Zero Covid Policy) के तहत परिसर में बंद विश्वविद्यालय के छात्र समूह खुद में रेंगने और कार्डबोर्ड से पालतू जानवर बनाने जैसे अजीब शौक विकसित कर रहे हैं। टिप्पणीकारों और समाचार रिपोर्टों के अनुसार, छात्र समूह की हरकतें देखकर उनके मानसिक स्वास्थ्य (Mental Health) को लेकर चिंता जताई जा रही है। एक मीडिया रिपोर्ट में यह जानाकरी दी गई। आरएफए ने बताया कि हाल के दिनों में सोशल मीडिया साइटों पर अपलोड किए गए वीडियो क्लिप में युवाओं के एक समूह को कॉलेज के खेल मैदान पर एक सर्कल में एक-दूसरे के बाद रेंगते हुए देखा गया है। इसने दर्शकों को यह अनुमान लगाने के लिए प्रेरित किया कि यह कैंपस में महीनों तक लॉकडाउन चलने की प्रतिक्रिया थी।

चीन की कम्युनिकेशंस यूनिवर्सिटी (Communications University) के अधिकारियों ने कहा कि वे इस गतिविधि को देख रहे है।

आरएफए के मुताबिक, सोशल मीडिया यूजर्स ने बीजिंग स्थित सिंघुआ यूनिवर्सिटी और यूनिवर्सिटी ऑफ इंटरनेशनल बिजनेस एंड इकोनॉमिक्स सहित अन्य विश्वविद्यालयों में चल रही इसी तरह की गतिविधियों के वीडियो क्लिप शूट किए।

छात्र समूह कर रहें रेंगने जैसी अजीब हरकतें
Sanskrit Universities में पैरामेडिकल और आयुर्वेद आधारित चिकित्सा जैसे पाठ्यक्रम

सोशल मीडिया पर अपुष्ट खबरें भी प्रसारित हो रही थीं, जिनमें कहा गया था कि ईस्ट चाइना नॉर्मल यूनिवर्सिटी के अधिकारियों ने परिसर में अकेले रेंगते हुए एक छात्र की तस्वीरें लीं और उन्हें ऐसा करने से रोकने के लिए कुछ सुरक्षा गार्डो को खेल मैदान में भेजा।

एक अन्य पोस्ट में कहा गया है कि बीजिंग यूनिवर्सिटी ऑफ पोस्ट्स एंड टेलीकम्युनिकेशंस में रेंगने वाली गतिविधियों का आयोजन करने वाले छात्रों के बारे में अधिकारियों को कम्युनिस्ट पार्टी यूथ लीग ने बताया था।

चीन की कम्युनिकेशन यूनिवर्सिटी ने सितंबर में एक वीडियो पोस्ट को हटा दिया था, जिसमें छात्रों द्वारा प्रसव के लिए उपयोग किए जाने वाले बक्से से औजार निकालकर कार्डबोर्ड को काटकर उसे 'पालतू जानवर' की शक्ल देते दिखाया गया था। अधिकारियों ने हालांकि इस अभ्यास के प्रचार पर प्रतिबंध लगा दिया था।

छात्र
छात्रWikimedia

द पेपर की एक हालिया वीबो पोस्ट में कहा गया है, "छोड़े गए कार्डबोर्ड बॉक्स से बनीं बिल्लियां और कुत्ते देशभर के कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में लोकप्रिय हो गए हैं जेनरेशन कॉलेज के छात्र अपने 'कार्टन डॉग्स' को डॉर्म के दरवाजों के बाहर बांधते हैं या एथलेटिक्स फील्ड पर टहलाते है।"

आरएफए ने विशेषज्ञों के हवाले से कहा कि अजीब शौक ने कॉलेज के छात्रों की मानसिक स्थिति के बारे में अधिकारियों की चिंता बढ़ा दी है।

आईएएनएस/PT

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com