Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

अब इलाके में ‘हिन्दू’ जुलूस निकालना शांतिप्रिय समुदाय के लिए ‘पाप’!

कलाथुर जिले इलाके में हिन्दू जुलूस पर मुस्लिम समुदाय 2012 से आपत्ति जाता रहा है। साथ ही उन्होंने हिन्दू त्योहारों को 'पाप' घोषित कर दिया है।

(NewsGram Hindi)

मद्रास उच्च-न्यायालय में कुछ मुस्लिम याचिका कर्ताओं ने एक याचिका दायर कर हिन्दुओं के प्रति अपने भाव को स्पष्ट करने का प्रयास किया है। यह याचिका तमिलनाडु के पेरमबलुर जिले के वी कलाथुर(मुस्लिम बहुल इलाका) में मंदिर के जुलूस के आयोजन से संबंधित है। आपको बता दें कि इस इलाके में हिन्दू जुलूस पर मुस्लिम समुदाय 2012 से आपत्ति जाता रहा है। साथ ही उन्होंने हिन्दू त्योहारों को ‘पाप’ घोषित कर दिया है।

इससे पहले भी याचिकर्ताओं ने इसी हिन्दू जुलूस को देखते हुए प्रशासन से सुरक्षा मांगी थी क्योंकि उन्हें लगता है कि इस जुलूस से दंगे भड़क जाएंगे। जिसे प्रवर्तन निदेशालय द्वारा सभी नियमों के साथ प्रदान भी किया गया था। मद्रास उच्च-न्यायालय के दो न्यायाधीश, एन किरुबकर्ण और पी वेलमुरुग न्यायपीठ ने सुनवाई के दौरान कहा कि “मंदिरों के तीन दिनों के उत्सव को वर्ष 2011 तक शांतिपूर्वक संचालित किया गया था और केवल वर्ष 2012 से मुस्लिमों ने कुछ हिंदू त्योहारों पर आपत्ति जताना शुरू कर दिया, उन्हें पाप करार दिया।”


आपको बता दें कि 2012 से 2015 के बीच भी मुस्लिम समुदाय द्वारा इन जुलूसों पर विरोध किया गया था, जिन्हें न्यायालय ने ही अनुमति प्रदान किया था। न्यायालय ने यह भी संज्ञान लिया कि क्यों 2012 से पहले कोई विरोध या समस्या उत्पन्न नहीं हुई? न्यायालय ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए कहा कि “केवल इसलिए कि एक विशेष इलाके में में विशेष समुदाय हावी है, अन्य धार्मिक समूहों के जुलूस को सड़क से प्रतिबंधित करने का कोई आधार नहीं हो सकता है,”

हिन्दू जुलूस पर आपत्ति तमिलनाडु के मुस्लिम बहुल इलाके में नई है।(सांकेतिक चित्र, फाइल फोटो)

“अगर धार्मिक असहिष्णुता की अनुमति दी जा रही है, तो यह एक धर्मनिरपेक्ष देश के लिए अच्छा नहीं है। किसी भी धार्मिक समूह द्वारा किसी भी रूप में असहिष्णुता पर अंकुश लगाया जाना चाहिए।”

“इस मामले में, एक विशेष धार्मिक समूह की असहिष्णुता उन त्यौहारों पर आपत्ति जताते हुए प्रदर्शित हो रही है जो दशकों से एक साथ आयोजित किए जा रहे हैं और गांव की सड़कों के माध्यम से जुलूस को निषिद्ध करने की मांग की जा रही है, यह बताते हुए कि इस क्षेत्र में मुसलमानों का वर्चस्व है। और इसलिए, इलाके के माध्यम से कोई हिंदू त्योहार या जुलूस नहीं हो सकता है,” न्यायाधीश ने सुनवाई के दौरान कहा।

यह भी पढ़ें: ‘हिन्दू टेरर’ यह शब्द क्या कहता है?

अदालत ने कहा कि “भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है और केवल इसलिए कि एक धार्मिक समूह एक विशेष क्षेत्र में बहुमत में रह रहा है, यह उस क्षेत्र के माध्यम से अन्य धार्मिक त्योहारों या जुलूसों की अनुमति नहीं देने का एक कारण नहीं हो सकता है। यदि अदालत में निजी प्रतिवादी के विवाद को स्वीकार किया जाता है, तो यह एक ऐसी स्थिति पैदा करेगा जिसमें “अल्पसंख्यक लोग भारत के अधिकांश क्षेत्रों में किसी भी त्योहार या जुलूस का संचालन नहीं कर सकते हैं।” अगर एक धार्मिक समूह द्वारा प्रतिरोध का प्रदर्शन किया जा रहा है और इसे अन्य धार्मिक समूहों द्वारा प्राप्त किया जाता है, तो अराजकता, दंगे, धार्मिक झगड़े होंगे, जिससे जानमाल की हानि होगी और संपत्ति नष्ट हो जाएगी।”

इन सब के बाद कोर्ट ने याचिका को खारिज कर दिया। साथ ही इस याचिका ने पुनः हमें यह सोचने पर विवश कर दिया कि असहिष्णुता का लांछन जो हिन्दू समुदाय पर लम्बे समय से लग रहा है उसका ठिकाना क्या कहीं और है, साथ ही शांतिप्रिय समुदाय पर लिबरलधारी सोच रखने वालों को अब मौन क्यों हैं?(SHM)

Popular

अल फैज़ान मुस्लिम फंड के मालिक मोहम्मद फैज़ी ने की खाताधारकों के साथ धोखाधड़ी (wikimedia commons)

बिजनौर के नगीना शहर में मोहल्ला लुहारी सराय में स्थित 'अल फैजान मुस्लिम फंड लिमिटेड' का मालिक मोहम्मद फैज़ी खाताधारकों के साथ ठगी(Fraud) कर करोड़ो रुपए की नगदी के साथ सोने-चांदी जेवरात लेकर फरार हो गया है। पुलिस ने कई लोगों के शिकायत के बाद प्रबंधक मोहम्मद फ़ैज़ी और एक अन्य के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। तमाम लोगों के शिकायत के आधार पर पुलिस ने 'अल फैजान म्युचुअल बेनिफिट निधि लिमिटेड' मोहल्ला लाल सराय नगीना के का संचालन के रहे मोहम्मद फैजी पुत्र अहमदुल्ला निवासी शाहजीर नगीना 420 के तहत मुकदमा पंजीकृत कर जाँच शुरू कर दी है। नगीना के मोहल्ला लाल सराय में स्थित 'अल फैज़ान मुस्लिम फंड लिमिटेड' का संचालन मोहम्मद फैज़ी बीते पांच साल से कर रहा था। खाताधारकों को बिना कोई सूचना दिए आरोपी मोहम्मद फैज़ी शाखा बन्द कर फरार हो गया।

Bijnor, bijnor police, Bank fraud अल फैज़ान मुस्लिम फंड लिमिटेड तले मोहम्मद फैज़ी ने खाताधारकों को लगाया चूना। करोड़ो ले कर फरार। ( Pixabay )

बता दें कि 'अल फैज़ान मुस्लिम फंड' की शाखा में लोग प्रतिदिन लाखों रुपये का लेनदेन करते थे। ख़बर है की अल फैजान की शाखा में नगीना व आसपास के लोग के करोड़ों रुपए की नकदी के साथ साथ सोने चांदी के जेवरात भी जमा करते थे। रोज की तरह जब लोग अल फैज़ान फंड लिमिटेड की शाखा में लेन देन के लिए पहुंचे तो उन्हें निर्धारित समय सीमा के बाद भी शाखा बंद मिली। इसके बाद खाताधारकों को शक हुआ तो पता चला कि अल फैजान मुस्लिम फंड शाखा का संचालक मोहम्मद फैज़ी करोड़ों रुपए की नकदी के साथ साथ खाताधारकों के शाखा में जमा सोने-चांदी के जेवरात भी लेकर फरार हो गया। पुलिस की माने तो अब तक 170 से भी अधिक तहरीर दर्ज की जा चुकी हैं और पुलिस खाताधारकों के हुए नुकसान की खोज बीन में जुट गई है ।

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी(Narendra Modi) के राष्ट्रीय स्टार्टअप दिवस(National Startup Day) की पहल की सराहना करते हुए कई भारतीय स्टार्टअप(Indian Startup) ने रविवार को कहा कि यह न केवल देश के नवाचारकर्ताओं और युवा उद्यमियों को प्रोत्साहित करेगा, बल्कि आर्थिक क्षेत्र में वैश्विक निवेशकों के विश्वास को भी बढ़ावा देगा।

मोदी ने शनिवार को 160 से अधिक प्रमुख स्टार्टअप्स के साथ वर्चुअल बैठक में कहा था कि भारत की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माने छोटे व्यवसायों की तरह, स्टार्टअप्स भी एक अहम भूमिका अदा करने जा रहे हैं।

फिनटेक प्लेटफॉर्म रिफाइन के सीईओ और सह-संस्थापक चित्रेश शर्मा ने एक मीडिया एजेंसी को बताया हमने नए जमाने के संस्थापकों को मौजूदा श्रेणियों से परे सोचने और वास्तविक सामाजिक समस्याओं को हल करने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए प्रेरित करने में एक छोटी भूमिका निभाई है। जरूरत पड़ने पर इसके लिए पूरी तरह से एक नई श्रेणी बनाने की आवश्यकता हो सकती है। 'किसी खास कारण के लिए व्यापार भारतीय भारतीय स्टार्टअप की बेहतरीन कहानी लिखने के लिए बहुत ही अहम है।

उन्होंने कहा कि भारतीय स्टार्टअप विकास की राह पर हैं और हम दुनिया भर में निवेशकों का विश्वास हासिल करना जारी रखेंगे। यह बात हाल ही निवेश की संख्या में बढ़ोत्तरी होने से साबित होती है। भारत में 2021 में 1 अरब डॉलर से अधिक कीमत वाली 46 कंपनियां अस्तित्व में आई हैं

Keep Reading Show less

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी SI ने चुनावों में गड़बड़ी के लिए अपनी आतंकी शाखाएं सक्रिय कर दी हैं।

पंजाब(Punjab) में चुनावी प्रक्रिया को पटरी से उतारने और पंजाब में खालिस्तानी पदचिन्हों को बढ़ाने के उद्देश्य से, पाकिस्तान की इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) ने राज्य में और उत्तर के कुछ हिस्सों में और अधिक आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए अपने आतंकी संगठनों को सक्रिय कर दिया है। प्रदेश, खुफिया एजेंसियों ने चेतावनी दी है।

खुफिया जानकारी के हवाले से सुरक्षा व्यवस्था के सूत्रों ने कहा कि आईएसआई प्रायोजित सिख आतंकी संगठन चुनावी रैलियों(Election Rallies) को निशाना बना सकते हैं और पंजाब, यूपी(Uttar Pradesh) और उत्तराखंड(Uttarakhand) के कुछ हिस्सों में चुनावी प्रक्रिया के दौरान कुछ महत्वपूर्ण नेताओं या वीवीआईपी को मारने का प्रयास कर सकते हैं।

Keep reading... Show less