Saturday, June 12, 2021
Home देश अब इलाके में 'हिन्दू' जुलूस निकालना शांतिप्रिय समुदाय के लिए 'पाप'!

अब इलाके में ‘हिन्दू’ जुलूस निकालना शांतिप्रिय समुदाय के लिए ‘पाप’!

कलाथुर जिले इलाके में हिन्दू जुलूस पर मुस्लिम समुदाय 2012 से आपत्ति जाता रहा है। साथ ही उन्होंने हिन्दू त्योहारों को 'पाप' घोषित कर दिया है।

मद्रास उच्च-न्यायालय में कुछ मुस्लिम याचिका कर्ताओं ने एक याचिका दायर कर हिन्दुओं के प्रति अपने भाव को स्पष्ट करने का प्रयास किया है। यह याचिका तमिलनाडु के पेरमबलुर जिले के वी कलाथुर(मुस्लिम बहुल इलाका) में मंदिर के जुलूस के आयोजन से संबंधित है। आपको बता दें कि इस इलाके में हिन्दू जुलूस पर मुस्लिम समुदाय 2012 से आपत्ति जाता रहा है। साथ ही उन्होंने हिन्दू त्योहारों को ‘पाप’ घोषित कर दिया है।

इससे पहले भी याचिकर्ताओं ने इसी हिन्दू जुलूस को देखते हुए प्रशासन से सुरक्षा मांगी थी क्योंकि उन्हें लगता है कि इस जुलूस से दंगे भड़क जाएंगे। जिसे प्रवर्तन निदेशालय द्वारा सभी नियमों के साथ प्रदान भी किया गया था। मद्रास उच्च-न्यायालय के दो न्यायाधीश, एन किरुबकर्ण और पी वेलमुरुग न्यायपीठ ने सुनवाई के दौरान कहा कि “मंदिरों के तीन दिनों के उत्सव को वर्ष 2011 तक शांतिपूर्वक संचालित किया गया था और केवल वर्ष 2012 से मुस्लिमों ने कुछ हिंदू त्योहारों पर आपत्ति जताना शुरू कर दिया, उन्हें पाप करार दिया।”

आपको बता दें कि 2012 से 2015 के बीच भी मुस्लिम समुदाय द्वारा इन जुलूसों पर विरोध किया गया था, जिन्हें न्यायालय ने ही अनुमति प्रदान किया था। न्यायालय ने यह भी संज्ञान लिया कि क्यों 2012 से पहले कोई विरोध या समस्या उत्पन्न नहीं हुई? न्यायालय ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए कहा कि “केवल इसलिए कि एक विशेष इलाके में में विशेष समुदाय हावी है, अन्य धार्मिक समूहों के जुलूस को सड़क से प्रतिबंधित करने का कोई आधार नहीं हो सकता है,”

hindu julus hindu procession
हिन्दू जुलूस पर आपत्ति तमिलनाडु के मुस्लिम बहुल इलाके में नई है।(सांकेतिक चित्र, फाइल फोटो)

“अगर धार्मिक असहिष्णुता की अनुमति दी जा रही है, तो यह एक धर्मनिरपेक्ष देश के लिए अच्छा नहीं है। किसी भी धार्मिक समूह द्वारा किसी भी रूप में असहिष्णुता पर अंकुश लगाया जाना चाहिए।”

“इस मामले में, एक विशेष धार्मिक समूह की असहिष्णुता उन त्यौहारों पर आपत्ति जताते हुए प्रदर्शित हो रही है जो दशकों से एक साथ आयोजित किए जा रहे हैं और गांव की सड़कों के माध्यम से जुलूस को निषिद्ध करने की मांग की जा रही है, यह बताते हुए कि इस क्षेत्र में मुसलमानों का वर्चस्व है। और इसलिए, इलाके के माध्यम से कोई हिंदू त्योहार या जुलूस नहीं हो सकता है,” न्यायाधीश ने सुनवाई के दौरान कहा।

यह भी पढ़ें: ‘हिन्दू टेरर’ यह शब्द क्या कहता है?

अदालत ने कहा कि “भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है और केवल इसलिए कि एक धार्मिक समूह एक विशेष क्षेत्र में बहुमत में रह रहा है, यह उस क्षेत्र के माध्यम से अन्य धार्मिक त्योहारों या जुलूसों की अनुमति नहीं देने का एक कारण नहीं हो सकता है। यदि अदालत में निजी प्रतिवादी के विवाद को स्वीकार किया जाता है, तो यह एक ऐसी स्थिति पैदा करेगा जिसमें “अल्पसंख्यक लोग भारत के अधिकांश क्षेत्रों में किसी भी त्योहार या जुलूस का संचालन नहीं कर सकते हैं।” अगर एक धार्मिक समूह द्वारा प्रतिरोध का प्रदर्शन किया जा रहा है और इसे अन्य धार्मिक समूहों द्वारा प्राप्त किया जाता है, तो अराजकता, दंगे, धार्मिक झगड़े होंगे, जिससे जानमाल की हानि होगी और संपत्ति नष्ट हो जाएगी।”

इन सब के बाद कोर्ट ने याचिका को खारिज कर दिया। साथ ही इस याचिका ने पुनः हमें यह सोचने पर विवश कर दिया कि असहिष्णुता का लांछन जो हिन्दू समुदाय पर लम्बे समय से लग रहा है उसका ठिकाना क्या कहीं और है, साथ ही शांतिप्रिय समुदाय पर लिबरलधारी सोच रखने वालों को अब मौन क्यों हैं?(SHM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी