Tuesday, December 1, 2020
Home ओपिनियन समझना तुम्हें है कि समझाने वाले खोते जा रहे हैं

समझना तुम्हें है कि समझाने वाले खोते जा रहे हैं

2 अक्टूबर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्मदिवस के रूप में जाना जाता है, किन्तु गांधी जी और उनके विचारों को आज के ही दिन याद करके वापस भुल जाना चाहिए ?

“वैष्णव जन तो तेने कहिये जे पीड़ पराई जाणे रे।” यह बोल आध्यात्मिक कवि नरसिंह मेहता के लिखे गए भजन का एक छोटा सा हिस्सा है, लेकिन इस एक वाक्य में बहुत बड़ी सीख छुपी हुई है। यह वही भजन है जो राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को प्यारा था और वह इस भजन को अक्सर सुना करते थे। आज भी जब महात्मा गांधी को याद किया जाता है तब इसी भजन को बार-बार दोहराया जाता है।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी कुछ इसी प्रकार के स्वाभाव को बढ़ावा देते थे, न किसी से बैर रखो और न ही दूसरे के अंदर अपने प्रति कड़वाहट पैदा होने दो। गांधी फकीरों की भांति रहते हुए भी न केवल अपने कर्तव्यों का निर्वाहन किया बल्कि पूरे विश्व के लिए आदर्श के रूप में उभर कर सामने आए। उनके अहिंसक विरोध प्रदर्शनों ने अंग्रेज़ों को इस देश को छोड़ने पर मजबूर कर दिया।

यह भी पढ़ें: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का प्रेरणा से भरपूर सफर

किन्तु, क्या आज गांधी जी के 151वें जयंती पर उनके विचारों और उन विचारों का पालन करने वालों का कोई मोल है? या सिर्फ गांधी जयंती पर ही उन विचारों को दोहराया जाना चाहिए, यह विषय विचार-विमर्श का विषय है जिसका ना तो बंद कमरों में निष्कर्ष निकल पाएगा और ना ही मोमबत्तियों को कतारों में लगा कर निकल पाएगा।

हम एक ऐसे युद्ध के मुहाने पर खड़े हैं जिस में गांधी जी की सीख तो दूर, अपने मौलिक कर्तव्यों को भी भुला दिया गया है, दुश्मन पराया नहीं पड़ोसी या खुद का भाई है, जिसे मतलब है तो सिर्फ खुद से और केवल खुद की ख़ुशी से। धर्म, सम्प्रदाय में फूट डालकर अपना वोट बैंक चमकाने वाले इसी देश के राजनेता और बुद्धिजीवी हैं।

हे राम! यही आखिरी शब्द थे जिन्हे महात्मा गांधी ने दुनिया को छोड़कर जाने से पहले कहा था मगर आज उसी राम पर यह देश कई खेमों में बटा हुआ है, कोई राम के होने का प्रमाण मांग रहा है तो कोई उनको काल्पनिक बता कर करोड़ों भक्तों की आस्था को ठेस पहुँचाने का अपराध कर रहा है, केवल और केवल वोटों के लिए और नोटों के लिए।

एक समय था जब गांधी जी ने अग्रेजों के अत्याचार का मुँह तोड़ जवाब देने के लिए दांडी तक पैदल यात्रा को प्रारम्भ किया था और देखते ही देखते कई देशभक्तों ने उनके साथ कदम से कदम मिलाया था, किन्तु आज एक अफवाह से ही एक बेगुनाह की हत्या कर दी जाती है और उन्ही अफवाहों से देश में दंगों को जन्म दिया जाता है।

यह भी पढ़ें: भगत सिंह के बसंती चोले की वेदना को समझने की कोशिश

आज गांधी जी और उनकी बातें केवल किताबों और भाषणों में सिमट कर रह गई हैं। गांधी जी सही थे या गलत इस विषय पर भी यह देश दो खेमों में बट रहा है। आज को बचाना भी हमारे हाथ में है, और कल का विनाश भी हमारे हाथ में है, ज़रूरत केवल मानसिकता को बदलने की और गांधी के विचारों को समझने की है।

POST AUTHOR

Shantanoo Mishra
Poet, Writer, Hindi Sahitya Lover, Story Teller

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
174FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

हाल की टिप्पणी