Tuesday, June 15, 2021
Home व्यक्ति विशेष महात्मा गांधी की वह पांच केरल यात्राएं

महात्मा गांधी की वह पांच केरल यात्राएं

पहली यात्रा 

अपनी पहली केरल यात्रा में, गांधी (Mahatma gandhi) ट्रेन से त्रिची से कोझिकोड पहुंचे थे और फिर 18 अगस्त, 1920 को तटीय शहर मालाबार गए। उन्होंने हिंदू और मुस्लिम नेताओं के साथ कई बैठकें की थीं और अंग्रेजों से लड़ने के लिए खिलाफत आंदोलन के महत्व पर चर्चा की थी। गांधी ने उसी दिन शाम कोझिकोड के वेल्लयिल समुद्र तट पर 20,000 लोगों की एक बड़ी रैली को संबोधित किया था। के. माधवन नायर जो बाद में केपीसीसी के पहले अध्यक्ष बने, उन्होंने महात्मा के भाषण का अनुवाद किया था।

Mahatma Gandhi's Kerala Trips महात्मा गांधी की पांच केरल यात्राएं 
गांधी जी ने पहली यात्रा के दौरान हिंदू और मुस्लिम नेताओं के साथ कई बैठकें की थीं। (Wikimedia Commons)

दूसरी यात्रा 

सन् 1925 में गांधीजी (Mahatma gandhi) की दूसरी केरल यात्रा 8 मार्च को थी, और वह 19 मार्च तक राज्य में रहे। उन्होंने यात्रा के दौरान कई प्रमुख हस्तियों से मुलाकात की। उनकी यात्रा का मुख्य फोकस वैकोम सत्याग्रह था जो कि वैक्कॉम के महादेव मंदिर में निचली जातियों के प्रवेश के लिए था। महात्मा शिवगिरि गए और आध्यात्मिक नेता श्री नारायण गुरु से मिले और वर्कला में भी रहे।

यह भी पढ़ें – गांधी के स्वरोजगार के सपने को आकार दे रहा है ‘श्रमदान’

Mahatma Gandhi's Kerala Trips महात्मा गांधी की वह पांच केरल यात्राएं 
अपनी तीसरी यात्रा के दौरान गाँधी जी ने त्रिशूर के छात्रों को खादी पहनने के लिए प्रेरित किया था। (Wikimedia Commons)

तीसरी यात्रा 

राज्य की अपनी तीसरी यात्रा के दौरान, वह 14 अक्टूबर, 1927 को त्रिशूर पहुंचे और सर्वोदय स्कूल, त्रिशूर के छात्रों से मिले और उन्हें राष्ट्रवादी आंदोलन के हिस्से के रूप में खादी पहनने के लिए प्रेरित किया। इस यात्रा के दौरान एक लड़की, कौमुदी मंच पर साहसपूर्वक चली गई, जहां से महात्मा छात्रों को संबोधित कर रहे थे और अपने सारे सोने के गहने निकालकर उन्हें दान कर दिए। उसने सोना नहीं पहनने का भी वादा किया। गांधीजी ने बाद में ‘कौमुदी का त्याग’ शीर्षक से हरिजन में एक लेख लिखा था।

यह भी पढ़ें – क्या हामिद अंसारी के दिल में थी राष्ट्रपति बनने की गुप्त इच्छा? इस किताब में हुआ खुलासा

Mahatma Gandhi's Kerala Trips महात्मा गांधी की पांच केरल यात्राएं 
महात्मा गांधी ने चौथी यात्रा में दलितों के लिए कायाधाम अयप्पा मंदिर खोला। (Wikimedia Commons)

चौथी और पांचवी यात्रा 

केरल की अपनी चौथी यात्रा पर महात्मा (Mahatma gandhi) 10 जनवरी, 1934 को अपनी पत्नी कस्तूरबा गांधी के साथ शोरनूर, पलक्कड़ पहुंचे। उन्होंने दलितों के लिए कायाधाम अयप्पा मंदिर खोला। भारत में दलित समुदाय के लिए खोला गया यह पहला मंदिर था। महात्मा गांधी पांचवीं बार 12 जनवरी को केरल पहुंचे थे। इस दौरे में वह 21 जनवरी तक रहे। उनकी इस यात्रा का मुख्य उद्देश्य त्रावणकोर महाराजा चिथिरा तिरुनल बलरामवर्मा द्वारा 12 नवंबर, 1936 को घोषित मंदिर प्रवेश घोषणा में भाग लेना था।
(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी