Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

प्रधानमंत्री मोदी ने ‘मन की बात’ में उठाए 6 अहम मुद्दे, पढ़ें

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, हम बहुत बारीकी से अगर देखेंगे, तो एक बात अवश्य ध्यान में आएगी - हमारे पर्व और पर्यावरण, इन दोनों के बीच एक बहुत गहरा नाता रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(फ़ाइल फोटो, PIB)

By: नवनीत मिश्र

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को ‘मन की बात’ रेडियो कार्यक्रम के दौरान छह अहम मुद्दे उठाए। उन्होंने देश में खिलौना इंडस्ट्री को बढ़ाने की वकालत की तो पर्यावरण संरक्षण पर भी जोर दिया। आजादी के गुमनाम नायकों को याद करने की बात कही तो कोरोना काल में शिक्षकों के महत्व को भी बताया।


जानिए, पीएम मोदी के मन की छह प्रमुख बातें-

भारतीय नस्ल का कुत्ता पालें

प्रधानमंत्री मोदी ने भारतीय नस्ल के कुत्तों को पालने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि इंडियन काउंसिल ऑफ एग्रीकल्चर रिसर्च भारतीय नस्ल के डॉग्स पर रिसर्च कर रही है। आप इनकी खूबसूरती, इनकी क्वालिटी देखकर हैरान हो जाएंगे। अगली बार जब भी आप, डॉग पालने की सोचें, तो किसी इंडियन ब्रीड के डॉग को घर लाएं।

पर्व और पर्यावरण में गहरा नाता

प्रधानमंत्री मोदी ने पर्व और पर्यावरण में गहरा संबंध बताया। उन्होंने कहा, हम, बहुत बारीकी से अगर देखेंगे, तो एक बात अवश्य ध्यान में आएगी – हमारे पर्व और पर्यावरण, इन दोनों के बीच एक बहुत गहरा नाता रहा है। जहां एक ओर हमारे पर्वों में पर्यावरण और प्रकृति के साथ सह जीवन का संदेश छिपा होता है, वहीं दूसरी ओर कई सारे पर्व प्रकृति की रक्षा के लिए ही मनाए जाते हैं।

लोकल खिलौने बनाएं

प्रधानमंत्री मोदी ने देश में खिलौना कारोबार बढ़ाने की जरूरत पर जोर देते हुए कहा कि ग्लोबल टॉय इंडस्ट्री सात लाख करोड़ रुपये से भी अधिक की है। सात लाख करोड़ रुपये का इतना बड़ा कारोबार, लेकिन भारत का हिस्सा उसमें बहुत कम है। ऐसे में देश के स्टार्टअप मित्रों और नए उद्यमियों को लोकल खिलौने बनाने की दिशा में काम करने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें: भारत में टीवी पर छाए रहे मोदी, राम मंदिर भूमिपूजन सर्वाधिक देखे जाने वाला कार्यक्रम बना

पोषण को बनाएं जनांदोलन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में पोषण को जनांदोलन बनाने की अपील की है। उन्होंने न्यूट्रिशन (पोषण) पर जोर देते हुए कहा कि सितंबर को पोषण माह के रूप में मनाया जाएगा। जिस तरह से स्कूलों की क्लास में रिपोर्ट कार्ड बनता है, उसी तरह से न्यूट्रिशियन कार्ड की भी शुरूआत की जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने न्यूट्रिशन को जनांदोलन बनाने की अपील की।

शिक्षकों का महत्व

प्रधानमंत्री मोदी ने 5 सितंबर को शिक्षक दिवस पर चर्चा करते हुए पढ़ाई में तकनीक के उपयोग पर जोर दिया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जिस तरह से देश में राष्ट्रीय शिक्षा नीति के जरिए एक बड़ा बदलाव होने जा रहा है, हमारे शिक्षक इसका भी लाभ छात्रों तक पहुंचाएं।

यह भी पढ़ें: मानसून सत्र में विपक्ष रहेगा आक्रामक, भाजपा तैयार

गुमनाम नायकों को करें याद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ के दौरान विद्यार्थियों को जंगे आजादी के गुमनाम नायकों को याद करने का टास्क दिया। उन्होंने कहा कि वर्ष 2022 में हमारा देश स्वतंत्रता के 75 वर्ष का पर्व मनाएगा। किसी स्कूल के विद्यार्थी ठान सकते हैं कि वो आजादी के 75 वर्ष में अपने क्षेत्र के आजादी के 75 नायकों पर कविताएं लिखेंगे, नाट्य कथाएं लिखेंगे। आजादी के 75 वर्ष में उन्हें याद करना ही सच्ची श्रद्धांजलि होगी।(आईएएनएस)

Popular

हरिद्वार हिंदुओं की धार्मिक नगरी है , जहा हर 12 वर्षो में कुंभ का मेला भी आयोजित होता है (wikimedia commons)

उत्तराखंड देवभूमि के नाम से विख्यात है , यहां हिंदु धर्म के कई तीर्थ स्थल हैं। उत्तराखंड राज्य के नए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कुछ विशेष कदम उठाये हैं। इस माह की शुरुआत में धामी सरकार ने प्रदेश में अप्रत्याशित रूप से बढ़ती मुस्लिम आबादी पर काबू करने के लिए जनसंख्या नियंत्रण नीति लाने पर हामी भरी थी। धामी सरकार से RSS से जुड़े 35 संगठनों ने यह मांग की थी। कई हिन्दूवादी संगठनों का दावा है कि उत्तराखंड के कई शहर देहरादून, हरिद्वार, उधमसिंह नगर और नैनीताल में मुस्लिम आबादी कुछ सालों में लगातार बढ़ रही है ।

हरिद्वार हिंदुओं की धार्मिक नगरी है , जहां हर 12 वर्षो में कुंभ का मेला भी आयोजित होता है यह हिंदुओ के आस्था का केंद्र रहा है। सनातन धर्म के प्रमुख केंद्रों में एक, जहां सभी मठ, अखाड़े और आध्यात्मिक केंद्र स्थित हैं। यह हिंदुओं के सबसे बड़े धार्मिक कार्यो की पवित्र भूमि है। यहां पर हिन्दू अस्थि विसर्जन से लेकर जनेऊ या उपनयन संस्कार और यंहा तक की काँवड़ यात्रा में जाने के लिए भक्त जन यंहा गंगा जल तक लेने आते हैं।

Keep Reading Show less

अल्जाइमर रोग एक मानसिक विकार है। (unsplash)

ऑस्ट्रेलिया के शोधकर्ताओं ने एक अभूतपूर्व अध्ययन में 'ब्लड-टू-ब्रेन पाथवे' की पहचान की है जो अल्जाइमर रोग का कारण बन सकता है। कर्टिन विश्वविद्यालय जो कि ऑस्ट्रेलिया के पर्थ शहर में है, वहाँ माउस मॉडल पर परीक्षण किया गया था, इससे पता चला कि अल्जाइमर रोग का एक संभावित कारण विषाक्त प्रोटीन को ले जाने वाले वसा वाले कणों के रक्त से मस्तिष्क में रिसाव था।

कर्टिन हेल्थ इनोवेशन रिसर्च इंस्टीट्यूट के निदेशक प्रमुख जांचकर्ता प्रोफेसर जॉन मामो ने कहा "जबकि हम पहले जानते थे कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों की पहचान विशेषता बीटा-एमिलॉयड नामक मस्तिष्क के भीतर जहरीले प्रोटीन जमा का प्रगतिशील संचय था, शोधकर्ताओं को यह नहीं पता था कि एमिलॉयड कहां से उत्पन्न हुआ, या यह मस्तिष्क में क्यों जमा हुआ," शोध से पता चलता है कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों के दिमाग में जहरीले प्रोटीन बनते हैं, जो रक्त में वसा ले जाने वाले कणों से मस्तिष्क में रिसाव की संभावना रखते हैं। इसे लिपोप्रोटीन कहा जाता है।

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Wikimedia Commons)

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) सम्मेलन को संम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चरमपंथ और कट्टरपंथ की चुनौतियों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए एससीओ द्वारा एक खाका विकसित करने का आह्वान किया। 21वीं बैठक को संम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मध्य एशिया में अमन के लिए सबसे बड़ी चुनौती है विश्वास की कमी।

इसके अलावा, पीएम मोदी ने विश्व के नेताओं से यह सुनिश्चित करने का आह्वान किया कि मानवीय सहायता अफगानिस्तान तक निर्बाध रूप से पहुंचे। मोदी ने कहा, "अगर हम इतिहास में पीछे मुड़कर देखें, तो हम पाएंगे कि मध्य एशिया उदारवादी, प्रगतिशील संस्कृतियों और मूल्यों का केंद्र रहा है।
"भारत इन देशों के साथ अपनी कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है और हम मानते हैं कि भूमि से घिरे मध्य एशियाई देश भारत के विशाल बाजार से जुड़कर अत्यधिक लाभ उठा सकते हैं"

Keep reading... Show less