Wednesday, June 16, 2021
Home व्यवसाय कई भारतीय वर्क फ्रॉम होम के लिए वेतन में स्थायी कटौती को...

कई भारतीय वर्क फ्रॉम होम के लिए वेतन में स्थायी कटौती को तैयार : रिपोर्ट

द मेवरिक्स इंडिया द्वारा किए गए सर्वेक्षण में यह भी पता चला है कि 56 प्रतिशत भारतीयों का मानना है कि अप्रैल 2020 में राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के कारण घर से काम करना शुरू करने के बाद से उनके उत्पादकता स्तर में काफी वृद्धि हुई है।

कोविड-19 महामारी के बीच करीब 54 प्रतिशत कामकाजी भारतीयों ने कहा कि वे घर से काम करना पसंद करते हैं (वर्क फ्रॉम होम), जिनमें से 34 प्रतिशत अनिश्चित समय तक वर्क फ्रॉम होम के लिए 10 प्रतिशत वेतन कटौती करने को तैयार हैं। गुरुवार को जारी हुई एक नई रिपोर्ट से यह पता चला। द मेवरिक्स इंडिया द्वारा देशभर के 720 उत्तरदाताओं के साथ किए गए सर्वेक्षण में यह भी पता चला है कि 56 प्रतिशत भारतीयों का मानना है कि अप्रैल 2020 में राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के कारण घर से काम करना शुरू करने के बाद से उनके उत्पादकता स्तर में काफी वृद्धि हुई है।

सबसे उल्लेखनीय उत्पादकता वृद्धि के गवाह वरिष्ठ अधिकारी और सीएक्सओ प्रतीत होते हैं, जिनमें से 31 प्रतिशत ने पूर्व-कोविड काल से 25 प्रतिशत या उससे अधिक की उत्पादकता वृद्धि का दावा किया है।

इसके अलावा सीएक्सओ कॉहोर्ट के 39 प्रतिशत सदस्य 18 प्रतिशत जूनियर अधिकारियों की तुलना में स्वेच्छा से घर से काम करने के लिए 10 प्रतिशत वेतन कटौती करने के लिए तैयार हैं।

यह भी पढ़ें – घर से काम करने के नियमों में सरकार ने किए सुधार

सर्वेक्षण में यह भी पता चला कि अप्रैल में 66 प्रतिशत की तुलना में अक्टूबर में सिर्फ 39 प्रतिशत उत्तरदाताओं में महामारी का डर रहा है।

शहर के लिहाज से देखें तो सबसे अधिक गिरावट चेन्नई में देखी गई, जिसमें अप्रैल 2020 में 74 फीसदी की महामारी को लेकर अत्यधिक चिंता थी और अक्टूबर 2020 में वह सिर्फ 28 फीसदी रही। आश्चर्यजनक रूप से सिर्फ कोलकाता में अप्रैल 2020 में डर या चिंता में 54 प्रतिशत से अक्टूबर 2020 तक 62 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की है।

आंकड़ों से यह भी पता चला कि 95 प्रतिशत उत्तरदाताओं का मानना है कि मीडिया का देश के लोकतंत्र पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है।

सर्वेक्षण में पाया गया कि 75 प्रतिशत उत्तरदाताओं का मानना है कि अर्थव्यवस्था को वापस सामान्य होने में एक साल आराम से लगने वाला है। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी