Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

स्विट्जरलैंड के चमगादड़ों में आसानी से इंसानों में फैलने वाले कई वायरस मिले

स्विट्जरलैंड में चमगादड़ 39 विभिन्न वायरल परिवारों के वायरस को शरण दिए हुए हैं और इनमें से कुछ में तो मनुष्यों में बीमारी पैदा करने की भी क्षमता है|

चमगादड़ 39 (Bat 39) विभिन्न वायरल परिवारों के वायरस को शरण दिए (अपने अंदर समाए) हुए हैं| (Pixabay)

स्विट्जरलैंड (Switzerland) में चमगादड़ 39 (Bat 39) विभिन्न वायरल परिवारों के वायरस को शरण दिए (अपने अंदर समाए) हुए हैं और इनमें से कुछ में तो मनुष्यों सहित अन्य जानवरों में संचारित होने और बीमारी पैदा करने की भी क्षमता है। शोधकर्ताओं ने एक नए शोध में यह दावा किया है। दुनिया भर में चमगादड़ों द्वारा अपने शरीर में आश्रय दिए गए वायरस की निगरानी से उन वायरस की समझ और पहचान में सुधार हो सकता है, जो मनुष्यों के लिए जोखिम पैदा करते हैं और दुनिया अपने आपको इस तरह की एक और महामारी के लिए बेहतर तरीके से तैयार कर सकती है।

पिछले कुछ शोध या स्टडी में कई अलग-अलग देशों में चमगादड़ों पर विभिन्न प्रकार के वायरस (Virus) को लेकर जांच की गई है, लेकिन अभी तक किसी भी स्टडी का ध्यान स्विट्जरलैंड पर केंद्रित नहीं हुआ था।


हालांकि अब ज्यूरिख विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने स्विट्जरलैंड में रहने वाले 7,000 से अधिक चमगादड़ों पर वायरस की जांच की है। ये चमगादड़ स्थिर और प्रवासी चमगादड़ों की 18 प्रजातियों से संबंध रखते हैं। विशेष रूप से, उन्होंने चमगादड़ से एकत्र किए गए अंग, मल या उनके द्वारा मल त्याग करने वाले स्थानों से नमूनों में पाए जाने वाले वायरस के डीएनए और आरएनए अनुक्रमों का विश्लेषण किया है।

जीनोमिक विश्लेषण से वायरस के 39 विभिन्न परिवारों की उपस्थिति का पता चला, जिनमें 16 परिवार पहले अन्य धमनियों (कशेरुकी) को संक्रमित करने में सक्षम पाए गए और इसलिए संभावित रूप से यह अन्य जानवरों या मनुष्यों में संचारित हो सकते हैं।

इस जोखिम वाले वायरस के आगे के विश्लेषण से पता चला है कि अध्ययन किए गए बैट कॉलोनियों में से एक ने मध्य पूर्व श्वसन सिंड्रोम (एमईआरएस) से संबंधित कोरोनावायरस (सीओवी) के रूप में जाने जाने वाले वायरस के लगभग-पूर्ण जीनोम को आश्रय दिया।

चमगादड़ों में पाए जाने वाले कुछ वायरस अन्य जानवरों में आसानी से पहुंच सकते हैं और यहां तक कि यह मनुष्यों में भी फैल सकते हैं। (Pixabay)

जबकि एमईआरएस-सीओवी से संबंधित वायरस मनुष्यों में बीमारी पैदा करने के लिए नहीं जाना जाता है, एमईआरएस-सीओवी 2012 में एक महामारी के लिए जिम्मेदार रहा है। ये निष्कर्ष ओपन-एक्सेस जर्नल प्लोस वन में प्रकाशित हुए हैं।

इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी से इसाबेल हार्डमेयर ने कहा, स्विट्जरलैंड के लिए स्थानिक चमगादड़ के मेटागेनोमिक विश्लेषण से व्यापक वायरस जीनोम विविधता का पता चलता है। 39 विभिन्न वायरस परिवारों के वायरस जीनोम का पता चला है, जिनमें से 16 धमनियों को संक्रमित करने के लिए जाने जाते हैं, जिनमें कोरोनावायरस, एडेनोवायरस, हेपेवायरस, रोटावायरस ए एवं एच और परवोवायरस शामिल हैं।

शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष में पाया कि बैट स्टूल (Bat stool) के नमूनों का जीनोमिक विश्लेषण चमगादड़ों से फैलने वाले वायरस की निरंतर निगरानी के लिए एक उपयोगी उपकरण हो सकता है, जिसमें एमईआरएस-सीओवी- संबंधित वायरस भी शामिल है। इस प्रकार की ट्रैकिंग संभावित रूप से ऐसे वायरल आनुवंशिक उत्परिवर्तन के संचय का पता लगा सकती है, जो अन्य जानवरों में संचरण के जोखिम को बढ़ाने वाली हो सकती है, जिससे मनुष्यों के लिए खतरा पैदा करने वाले वायरस का पहले पता लगाया जा सके।

यह भी पढ़ें :- सेरोपोजिटीविटी दर, एंटी-स्पाइक एंटीबॉडी टाइट्रे कोविशील्ड में कोवैक्सीन से है ज्यादा : अध्ययन

रोग पैदा करने वाले वायरस चमगादड़ से सीधे मनुष्यों में संचारित होने के कुछ ज्ञात उदाहरण भी पहले से ही हमारे सामने हैं। चमगादड़ों में पाए जाने वाले कुछ वायरस अन्य जानवरों में आसानी से पहुंच सकते हैं और यहां तक कि यह मनुष्यों में भी फैल सकते हैं।

चल रही कोविड-19 महामारी के पीछे का वायरस सार्स-सीओवी-2 (SARS-CoV-2) है, जिसे लेकर माना जा रहा है कि यही वह वायरस है, जिससे कोरोना महामारी फैली है और इसके मनुष्यों को संक्रमित करने से पहले एक चमगादड़ से दूसरे जानवर में फैलने की संभावना भी जताई जा रही है। (आईएएनएस-SM)

Popular

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने स्लीपर सेल्स के ज़रिये दिल्ली में लगवाई आईईडी- रिपोर्ट (Wikimedia Commons)

एक सूत्र ने कहा कि आरडीएक्स-आधारित इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (IED), जो 14 जनवरी को पूर्वी दिल्ली के गाजीपुर फूल बाजार में पाया गया था और उसमें "एबीसीडी स्विच" और एक प्रोग्राम करने योग्य टाइमर डिवाइस होने का संदेह था।

कश्मीर और अफगानिस्तान में सक्रिय जिहादी आतंकवादियों द्वारा लगाए गए आईईडी में बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किए जाने वाले इन स्विच का पाकिस्तान(Pakistan) सबसे बड़ा निर्माता है। सूत्र ने कहा कि इन फोर-वे स्विच और टाइमर का उपयोग करके विस्फोट का समय कुछ मिनटों से लेकर छह महीने तक के लिए सेट किया जा सकता है।

Keep Reading Show less

राष्ट्रपति भवन (Wikimedia Commons)

दक्षिणी दिल्ली नगर निगम(South Delhi Municipal Corporation) में भाजपा के मुनिरका वार्ड से पार्षद भगत सिंह टोकस ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द(Ramnath Kovind) को एक पत्र लिखकर राष्ट्रपति भवन(Rashtrapati Bhavan) में स्थित मुगल गार्डन का नाम बदल कर पूर्व राष्ट्रपति मिसाइल मैन डाक्टर अब्दुल कलाम वाटिका(Abdul Kalam Vatika) के नाम पर रखने की मांग की है। निगम पार्षद भगत सिंह टोकस ने राष्ट्रपति को भेजे अपने पत्र में लिखा है, मुगल काल में मुगलों द्वारा पूरे भारत में जिस प्रकार से आक्रमण किए गए और देश को लूटा था। वहीं देशभर में मुगल आक्रांताओं के नाम से लोगों में रोष हैं। जिन्होंने भारत की संस्कृति को खत्म करने का प्रयास किया उनको प्रचारित न किया जाए।

rastrapati bhavan, mughal garden राष्ट्रपति भवन स्थित मुगल गार्डन (Wikimedia Commons)

Keep Reading Show less

शोधकर्ताओं ने कोविड के खिलाफ लड़ने में कारगर हिमालयी पौधे की खोज। ( Pixabay )

कोविड के खिलाफ नियमित टीकाकरण के अलावा दुनिया भर में अन्य प्रकार की दवाईयों पर अनेक संस्थायें रिसर्च कर रही हैं जो मानव शरीर पर इस विषाणु के आक्रमण को रोक सकती है। इसी क्रम में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) मंडी के शोधकर्ताओं को एक बड़ी सफलता मिली है। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) मंडी के शोधकर्ताओं ने एक हिमालयी पौधे की पंखुड़ियों में फाइटोकेमिकल्स की खोज की है जो कोविड संक्रमण के इलाज में करगर साबित हो सकती है।

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) मंडी में स्कूल ऑफ बेसिक साइंस के बायोएक्स सेंटर के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. श्याम कुमार मसाकापल्ली के तर्ज पर एक वक्तव्य में कहा की, अलग अलग तरह के चिकित्सीय एजेंटों में पौधों से प्राप्त रसायनों फाइटोकेमिकल्स को उनकी क्रियात्मक गतिविधि और कम विषाक्तता के कारण विशेष रूप से आशाजनक माना जाता है। टीम ने हिमालयी बुरांश पौधे की पंखुड़ियों में इन रसायनों का पता लगया है। पौधे का वैज्ञानिक नाम रोडोडेंड्रोन अर्बोरियम है जिसे वहाँ के स्थानीय लोग अलग अलग तरह की बीमारियों में इसका इस्तेमाल करते हैं।

Keep reading... Show less