Tuesday, June 15, 2021
Home थोड़ा हट के तमिलनाड़ु में साम्यवाद और लेनिनवाद की उपस्थिति में ममता बनर्जी के साथ...

तमिलनाड़ु में साम्यवाद और लेनिनवाद की उपस्थिति में ममता बनर्जी के साथ समाजवाद की शादी

दूल्हा ए.एम. समाजवाद हैं जो के.ए. मोहन के बेटे हैं और दुल्हन एक कांग्रेसी परिवार से है और के. पलानीस्वामी और पी.नीलमबल की बेटी हैं।

कहा जाता है नाम में क्या रखा है लेकिन जब माता-पिता द्वारा अपने बच्चों का नाम कुछ असामान्य सा रखा जाता है, तो बच्चे खुद ब खुद मशहूर हो जाते हैं। रविवार 13 जून को सेलम के कट्टूर में अमानी कोंडलमपट्टी क्षेत्र में ममता बनर्जी के साथ समाजवाद की शादी होने वाली है।

दूल्हा ए.एम. ‘ समाजवाद’ हैं जो के.ए. मोहन के बेटे हैं। मोहन भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) के एक नेता हैं और एक कट्टर कम्युनिस्ट पार्टी से ताल्लुक रखते हैं। दुल्हन एक कांग्रेसी परिवार से है और के. पलानीस्वामी और पी.नीलमबल की बेटी हैं। ‘साम्यवाद’ और ‘लेनिनवाद’ समाजवाद के भाई हैं और उनके भतीजे ‘मार्क्‍सवाद’ हैं। दूल्हे के परिवार और दुल्हन के परिवार दोनों का आपस में गहरा संबंध है।

भाकपा के विल्लुपुरम जिला सचिव 52 वर्षीय मोहन साल 2016 में विधानसभा चुनाव पीपुल्स वेलफेयर एलायंस के उम्मीदवार के रूप में लड़ चुके हैं। मोहन ने आईएएनएस को फोन पर बताया, “1991 में जब सोवियत संघ टूट गया और खबरें प्रकाशित हुईं कि साम्यवाद खत्म हो चुका है, उस दौरान अपनी शादी से पहले ही मैंने सोच लिया था कि मैं अपने बच्चों का नाम ऐसे रखूंगा, जो इस विचारधारा को दर्शाता हो। इस तरह से मैंने अपने बच्चों का नाम साम्यवाद, समाजवाद और लेनिनवाद रखा और मार्क्‍सवाद मेरा पोता है।”

समाजवादी एवं ममता बनर्जी।(IANS)

समाजवाद ने इसकी खामियों पर बात करते हुए आईएएनएस से कहा, “स्कूल के दिनों में मेरे और मेरे भाइयों के लिए इस नाम का होना इतना भी अच्छा नहीं था। हमें अपने गांव में काफी आलोचनाओं और अपमान का सामना करना पड़ा। लेकिन जब हम कॉलेज में पहुंचे, तब चीजें बदल गईं और सबका ध्यान हम पर आ गया।”

यह भी पढ़ें: किताबें देने की दीवानगी ऐसी कि प्रतिदिन 4 किमी पैदल चलती हैं 64 वर्ष की राधामणी

पेशे से समाजवाद और लेनिनवाद पायल और चांदी के गहनों के व्यापार में शामिल हैं, जबकि साम्यवाद एक वकील हैं। समाजवाद कहते हैं, “मुझे इस बात की खुशी है कि मेरी पत्नी का नाम भी बेहद अनोखा है। उसका नाम पश्चिम बंगाल की वर्तमान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नाम पर है। उसके माता-पिता कांग्रेस समर्थक हैं और इसलिए उन्होंने अपनी बेटी का नाम ममता बनर्जी रखा, जो एक तेजतर्रार नेता थीं और अब भी हैं। तृणमूल कांग्रेस बनाने से पहले वह कांग्रेस पार्टी के ही साथ थीं।”

सीपीआई तमिलनाडु के राज्य सचिव आर. मुथारासन और उप सचिव के. सुब्बारायन इस शादी में शामिल होने वाले हैं।(आईएएनएस-SHM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी