Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

मसूद अजहर, हाफिज सईद और लखवी भारत के शीर्ष 31 वांछित आतंकियों में शामिल

31 आतंकवादियों पर भारत सरकार द्वारा विभिन्न भारत विरोधी साजिशों में शामिल होने के लिए सर्वाधिक वांछित व्यक्तियों की सूची में शामिल किया है।

(फाइल फोटो)

पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) का संस्थापक मौलाना मसूद अजहर, लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) का सह-संस्थापक और जमात-उद-दावा (जेयूडी) प्रमुख हाफिज मुहम्मद सईद और मुंबई हमलों के प्रमुख अपराधी जकी-उर-रहमान लखवी भारत की 31 वांछित (मोस्ट वांटेड) आतंकवादियों की सूची में शामिल हैं। इन 31 आतंकवादियों पर गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए) के तहत मामला दर्ज किया गया है और यह भारत सरकार द्वारा विभिन्न भारत विरोधी गतिविधियों जैसे बम विस्फोटों, हत्याओं, देश की आंतरिक सुरक्षा से खिलवाड़ करने और अन्य साजिशों में शामिल होने के लिए सर्वाधिक वांछित व्यक्तियों की सूची में शामिल हैं। इन आतंकवादियों के नामों का उल्लेख गृह मंत्रालय (एमएचए) की नवीनतम अपडेट की गई सूची में किया गया है, जो भारत के खिलाफ साजिश करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के अलावा देश की आंतरिक सुरक्षा की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार हैं।

अजहर, सईद और लखवी 31 आतंकवादियों की सूची में शीर्ष पांच में शामिल हैं, जिनमें खूंखार भारतीय गैंगस्टर से ड्रग्स के सरगना के तौर पर पहचाने जाने वाले दाऊद इब्राहिम कास्कर और प्रतिबंधित आतंकी संगठन बब्बर खालसा इंटरनेशनल (बीकेआई) का प्रमुख नेता वधावा सिंह बब्बर शामिल है। दाऊद (65) के साथ उसके पाकिस्तान स्थित सहयोगी जावेद चिकना उर्फ जावेद दाऊद टेलर, इब्राहिम मेमन उर्फ टाइगर मेमन और शेख शकील उर्फ छोटा शकील का नाम सूची में है। सभी 1993 के बॉम्बे विस्फोटों में आरोपी हैं, जब 12 विस्फोटों की एक श्रृंखला ने 250 से अधिक लोगों की जान ले ली थी।


इस सूची में पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन का प्रमुख लखबीर सिंह भी शामिल है। इसके अलावा इस सूची में खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स का रणजीत सिंह उर्फ नीता, पाकिस्तान स्थित खालिस्तान कमांडो फोर्स का परमजीत सिंह, खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स का भूपिंदर सिंह भिंडा, जर्मनी में रहने वाला खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स का एक प्रमुख सदस्य गुरमीत सिंह बग्गा, अमेरिका में रहने वाला सिख फॉर जस्टिस का एक प्रमुख सदस्य गुरपतवंत सिंह पन्नू, खालिस्तान टाइगर फोर्स का कनाडा आधारित प्रमुख हरदीप सिंह निज्जर और ब्रिटेन में रहने वाला बीकेआई का प्रमुख परमजीत सिंह का नाम भी शामिल है।

आतंकवादी समूहों की गतिविधियों की जांच करने के लिए भारत में खुफिया और सुरक्षा प्रतिष्ठान सतर्क हो गए हैं। (Pixabay)

इन सभी को गृह मंत्रालय ने पिछले साल एक जुलाई को नामित आतंकवादी घोषित किया था। सूची में शामिल अन्य लोगों में साजिद मीर, यूसुफ मुजम्मिल, अब्दुर रहमान मक्की, शाहिद महमूद, फरहतुल्ला गोरी, अब्दुल रऊफ असगर, इब्राहिम अतहर, यूसुफ अजहर, शाहिद लतीफ, गुलाम नबी खान, जफर हुसैन भट, रियाज इस्माइल शाहबंदर, मोहम्मद इकबाल और मोहम्मद अनीस शेख शामिल हैं। आतंकवाद के वित्तपोषण और मनी लॉन्ड्रिंग के लिए वैश्विक निगरानी संस्था की अगली बैठक से पहले, पेरिस स्थित फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ), जो इस महीने के अंत में होने वाली है, पाकिस्तान ने मसूद अजहर, रऊफ असगर और साजिद मीर के खिलाफ दो मामले दर्ज करके कार्रवाई करने का दिखावा किया है, जो कि जेईएम के शीर्ष नेता है।

पाकिस्तान ने कथित तौर पर अजहर का पता लगाने के लिए छापेमारी भी की थी, लेकिन ऑपरेशन असफल रहा, क्योंकि छापेमारी दल को केवल उसकी पत्नी और उसके बहावलपुर आवास से कुछ सहयोगी ही मिल पाए। पाकिस्तान की एक अदालत ने इस साल जनवरी में लखवी को आतंकी वित्तपोषण के आरोप में पांच साल जेल की सजा सुनाई थी। उस पर भारत और अमेरिका द्वारा 2008 के मुंबई आतंकी हमलों की साजिश रचने का आरोप लगाया गया है, जिसमें कम से कम 160 लोग मारे गए थे। पिछले साल 70 वर्षीय कट्टरपंथी मौलवी हाफिज सईद को पाकिस्तान में साढ़े 15 साल जेल की सजा सुनाई गई थी। उसने 2008 के मुंबई आतंकी हमलों को अंजाम देने में अहम भूमिका निभाई थी।

यह भी पढ़ें: ‘पाकिस्तान’ इस्लाम की छवि पर ध्ब्बा है: सिंधी लेखक

मूल रूप से मुंबई के डोंगरी का रहने वाला दाऊद इब्राहिम कथित तौर पर अपने विस्तारित परिवार के साथ पाकिस्तान के कराची के एक समृद्ध समुद्र तटीय इलाके क्लिफ्टन में डी-13, ब्लॉक 4 में रहता है। हालांकि पाकिस्तान सरकार इससे इनकार करती है। दाऊद संगठित अपराध सिंडिकेट डी-कंपनी का प्रमुख है, जिसकी स्थापना उसने 1970 के दशक में मुंबई में की थी। 90 के दशक की शुरुआत से, भारत आतंकवाद के खिलाफ युद्ध लड़ रहा है, जिसने सुरक्षा बलों के कई कर्मियों सहित हजारों लोगों की जान ली है। पिछले तीन दशकों में देश ने आतंकवाद को कम करने के लिए कई कदम और उपाय किए हैं। हालांकि यह भी एक महत्वपूर्ण तथ्य है कि युवाओं को कट्टरपंथ से बचाने के लिए और अधिक प्रयास किए जाने की आवश्यकता है।(आईएएनएस-SHM)

Popular

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए योगी ने तारीफ की (wikimedia commons )

हमारा देश भारत अनेकता में एकता वाला देश है । हमारे यंहा कई धर्म जाती के लोग एक साथ रहते है , जो इसे दुनिया में सबसे अलग श्रेणी में ला कर खड़ा करता है । योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं । उन्होंने एक बयान में कहा कि नई थ्योरी में पता चला है कि पूरे देश का डीएनए एक है। यहां आर्य-द्रविण का विवाद झूठा और बेबुनियाद रहा है। भारत का डीएनए एक है इसलिए भारत एक है। साथ ही उन्होंने कहा की दुनिया की तमाम जातियां अपने मूल में ही धीरे धीरे समाप्त होती जा रही हैं , जबकि हमारे भारत देश में फलफूल रही हैं। भारत ने ही पूरी दुनिया को वसुधैव कुटुंबकम का भाव दिया है इसलिए हमारा देश श्रेष्ठ है। आप को बता दे कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को युगपुरुष ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ की व राष्ट्रसंत ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की पुण्यतिथि पर आयोजित एक श्रद्धांजलि समारोह का शुरुआत करने गये थे। आयोजन के पहले दिन मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी ऐसा भारतीय नहीं होगा जिसे अपने पवित्र ग्रन्थों वेद, पुराण, उपनिषद, रामायण, महाभारत आदि की जानकारी न हो। हर भारतीय परम्परागत रूप से इन कथाओं ,कहनियोंको सुनते हुए, समझते हए और उनसे प्रेरित होते हुए आगे बढ़ता है।

साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे यंहा के कोई भी वेद पुराण हो या ग्रंथ हो इनमे कही भी नहीं कहा गया की हम बहार से आये थे । हमारे ऐतिहासिक ग्रन्थों में जो आर्य शब्द है वह श्रेष्ठ के लिए और अनार्य शब्द का प्रयोग दुराचारी के लिए कहा गया है। मुख्यमंत्री योगी ने रामायण का उदाहरण भी दिया योगी ने कहा कि रामायण में माता सीता ने प्रभु श्रीराम की आर्यपुत्र कहकर संबोधित किया है। लेकिन , कुटिल अंग्रेजों ने और कई वामपंथी इतिहासकारों के माध्यम से हमारे इतिहास की किताबो में यह लिखवाया गया कि आर्य बाहर से आए थे । ऐसे ज्ञान से नागरिकों को सच केसे मालूम चलेगा और ईसका परिणाम देश लंबे समय से भुगतता रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए योगी ने कहा कि , आज इसी वजह से मोदी जी को एक भारत-श्रेष्ठ भारत का आह्वान करना पड़ा। आज मोदी जी के विरोध के पीछे एक ही बात है। साथ ही वो विपक्ष पर जम के बरसे। उन्होंने मोदी जी के बारे में आगे कहा कि उनके नेतृत्व में अयोध्या में पांच सौ वर्ष पुराने विवाद का समाधान हुआ है। यह विवाद खत्म होने से जिनके खाने-कमाने का जरिया बंद हो गया है तो उन्हें अच्छा कैसे लगेगा।

Keep Reading Show less

अल्जाइमर रोग एक मानसिक विकार है। (unsplash)

ऑस्ट्रेलिया के शोधकर्ताओं ने एक अभूतपूर्व अध्ययन में 'ब्लड-टू-ब्रेन पाथवे' की पहचान की है जो अल्जाइमर रोग का कारण बन सकता है। कर्टिन विश्वविद्यालय जो कि ऑस्ट्रेलिया के पर्थ शहर में है, वहाँ माउस मॉडल पर परीक्षण किया गया था, इससे पता चला कि अल्जाइमर रोग का एक संभावित कारण विषाक्त प्रोटीन को ले जाने वाले वसा वाले कणों के रक्त से मस्तिष्क में रिसाव था।

कर्टिन हेल्थ इनोवेशन रिसर्च इंस्टीट्यूट के निदेशक प्रमुख जांचकर्ता प्रोफेसर जॉन मामो ने कहा "जबकि हम पहले जानते थे कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों की पहचान विशेषता बीटा-एमिलॉयड नामक मस्तिष्क के भीतर जहरीले प्रोटीन जमा का प्रगतिशील संचय था, शोधकर्ताओं को यह नहीं पता था कि एमिलॉयड कहां से उत्पन्न हुआ, या यह मस्तिष्क में क्यों जमा हुआ," शोध से पता चलता है कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों के दिमाग में जहरीले प्रोटीन बनते हैं, जो रक्त में वसा ले जाने वाले कणों से मस्तिष्क में रिसाव की संभावना रखते हैं। इसे लिपोप्रोटीन कहा जाता है।

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Wikimedia Commons)

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) सम्मेलन को संम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चरमपंथ और कट्टरपंथ की चुनौतियों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए एससीओ द्वारा एक खाका विकसित करने का आह्वान किया। 21वीं बैठक को संम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मध्य एशिया में अमन के लिए सबसे बड़ी चुनौती है विश्वास की कमी।

इसके अलावा, पीएम मोदी ने विश्व के नेताओं से यह सुनिश्चित करने का आह्वान किया कि मानवीय सहायता अफगानिस्तान तक निर्बाध रूप से पहुंचे। मोदी ने कहा, "अगर हम इतिहास में पीछे मुड़कर देखें, तो हम पाएंगे कि मध्य एशिया उदारवादी, प्रगतिशील संस्कृतियों और मूल्यों का केंद्र रहा है।
"भारत इन देशों के साथ अपनी कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है और हम मानते हैं कि भूमि से घिरे मध्य एशियाई देश भारत के विशाल बाजार से जुड़कर अत्यधिक लाभ उठा सकते हैं"

Keep reading... Show less