Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

वेतन के लिए MCD कर रही है त्राहिमाम, केजरीवाल हैं उड़ा रहे विज्ञापनों के जाम!

दिल्ली हाई कोर्ट ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए दिल्ली सरकार को विज्ञापनों पर करोड़ों खर्च करने पर और विपदा के समय में MCD के कर्मचारियों को वेतन न देने पर फटकार लगाई है।

सोमवार को दिल्ली हाई कोर्ट ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए दिल्ली सरकार को विज्ञापनों पर करोड़ों खर्च करने पर और विपदा के समय में MCD के कर्मचारियों को वेतन न देने पर फटकार लगाई है। हाई कोर्ट ने यह साफ और कड़े लहजे में कहा कि “हम देख सकते हैं कि किस तरह से सरकार राजनेताओं की तस्वीरों के साथ अखबारों में पूरे पन्ने का विज्ञापन देने पर खर्च कर रही है। लेकिन कर्मचारियों की सैलरी तक नहीं दी जाती है।” 


इसी के साथ कोर्ट ने यह भी सवाल किया कि, विपदा की घड़ी में कर्मचारियों का वेतन रोकना क्या अपराध नहीं है? और ‘आप’ विज्ञापनों पर इतना पैसा खर्च कर रहे हैं। हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार पर तंज कसते हुए यह कहा की आप नगर निगम के पैसा देने पर आभाव या वित्तीय संकट की बात करते हैं, किन्तु आपको उस समय कोई समस्या नहीं होती है जब विज्ञापनों पर करोड़ों खर्च किए जाते हैं। साथ ही, हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार को बिना कोई मोहलत देते हुए यह आदेश दिया है की वह सभी निगमों को बकाया धन किसी भी हाल में दें। 

ऑप इंडिया के न्यूज़ रिपोर्ट के अनुसार, तेजपाल सिंह द्वारा दायर आरटीआई से यह ज्ञात हुआ है कि दिल्ली सरकार ने पिछले 4 सालों में यानि 2015-19 में एक भी फ्लाईओवर या हस्पताल का निर्माण नहीं करवाया है। इसका मतलब यह है कि जिस विश्वस्तरीय दिल्ली का वादा किया गया था उस दिल्ली में तो काम का चक्का ही जाम है। न तो किसी अस्पताल को इस बीच अनुदान दिया गया और न ही निर्माण कार्यों में पैसा खर्च हुआ, तब सवाल यह कि पैसा गया कहाँ? इसका जवाब दिया है नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया (एनएसयूआई) के दिल्ली इकाई के अध्यक्ष अक्षय लाकड़ा ने, उन्होंने आरटीआई में पूछे गए सवालों के जवाब को ट्विटर पर पोस्ट करके यह लिखा कि “RTI से खुलासा हुआ कि 1 अप्रैल 2015 से लेकर 31 मार्च 2019 के बीच दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार ने ना ही किसी हॉस्पिटल को अनुदान दिया और न ही किसी नए फ्लाईओवर का निर्माण करवाया। बस झूठे विज्ञापन दे-दे कर जनता को मूर्ख बना लिया और जनता भी इसकी बातों में आ गई।”

पिछले वर्ष भी दिल्ली सरकार पर डॉक्टरों के वेतन न देने के आरोप लगे थे, वह भी तब जब कोरोना महामारी दिल्ली को अपने चपेट में ले चुकी थी और ‘कोरोना वारियर्स’ इस आपदा से निपटने के लिए जी-जान से मेहनत कर रहे थे। कांग्रेस नेता हारून युसूफ ने तो दिल्ली सरकार पर यह आरोप लगाया है कि उसने विज्ञापनों पर 611 करोड़ रुपए खर्च किए हैं। 

यह भी पढ़ें: भाजपा ने केजरीवाल सरकार को बताया सपनों का सौदागर

केजरीवाल सरकार पर पहले भी विज्ञापनों पर अंधाधुंध पैसे खर्च करने के आरोप लग चुके हैं और इस समय यह दिल्ली हाई कोर्ट की सुनवाई और यह RTI दिल्ली सरकार के लिए नई मुसीबत बनकर आई है।(SHM)

Popular

नवजात के लिए माँ के दूध से कोविड संक्रमण का नही है कोई खतरा ( Pixabay )

Keep Reading Show less

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीख़ की घोषणा के बाद कार्यकर्तओं के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पहला सवांद कार्यक्रम (Wikimedia Commons)


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपने संसदीय क्षेत्र वारणशी के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा कार्यकर्ताओं से बात करते हुए कहा कि "उन्हें किसानों को रसायन मुक्त उर्वरकों के उपयोग के बारे में जागरूक करना चाहिए।"

नमो ऐप के जरिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान बताया कि नमो ऐप में 'कमल पुष्प" नाम से एक बहुत ही उपयोगी एवं दिलचस्प सेक्शन है जो आपको प्रेरक पार्टी कार्यकर्ताओं के बारे में जानने और अपने विचारों को साझा करने का अवसर देता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नमो ऐप के सेक्शन 'कमल पुष्प' में लोगों को योगदान देने के लिए आग्रह किया। उन्होंने बताया की इसकी कुछ विशेषतायें पार्टी सदस्यों को प्रेरित करती है।

Keep Reading Show less

हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह आईएस में शामिल हुई थी। घर वापसी की उसकी अपील पर यूएस कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया (Wikimedia Commons )

2014 में अमेरिका के अपने घर से भाग कर सीरिया के अतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट (आईएस) में शामिल होने वाली 27 वर्षीय हुदा मुथाना वापस अपने घर लौटने की जद्दोजहद में लगी है। हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट के साथ शामिल हुई साथ ही आईएस के साथ मिल कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर आतंकवादी हमलों की सराहना की और अन्य अमेरिकियों को आईएस में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया था। हुदा मुथाना को अपने किये पर गहरा अफसोस है।

वर्ष 2019 में हुदा मुथाना के पिता ने संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट में अमेरिका वापस लौटने के मामले पर तत्कालीन ट्रंप प्रशासन के खिलाफ मुक़द्दमा दायर किया था। संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को बिना किसी टिप्पणी के हुदा मुथाना के इस मामले पर सुनवाई से इनकार कर दिया।

Keep reading... Show less