Tuesday, December 1, 2020
Home राजनीति कांग्रेस में चल रहे आंतरिक संकट के बीच हुई बैठक, सुधार पर...

कांग्रेस में चल रहे आंतरिक संकट के बीच हुई बैठक, सुधार पर दिया ज़ोर

मंगलवार को सोनिया गांधी द्वारा गठित समूह ने जिसमें अहमद पटेल, अंबिका सोनी, रणदीप सुरजेवाला, के.सी. वेणुगोपाल और मुकुल वासनिक हैं, ने वर्चुअल रूप से बिहार के नतीजों के साथ-साथ उपचुनावों के नतीजों पर भी चर्चा की।

कांग्रेस के 23 असंतुष्ट नेताओं के समूह ने बिहार के नतीजों के बाद पार्टी में चल रहे आंतरिक संकट के बीच बैठक की। एक नेता ने कहा, “यह लड़ाई पार्टी के पुनरुद्धार के लिए है न कि विद्रोह के लिए।” जो लोग शारीरिक रूप से उपस्थित नहीं हो सकते थे, उनसे दूर से मस्टर सपोर्ट के लिए संपर्क किया गया था और पार्टी में बहुत आवश्यक सुधारों पर जोर दिया गया।

सूत्रों ने कहा कि गुलाम नबी आजाद सोनिया गांधी को संदेश देंगे। एक सूत्र ने हालांकि कहा कि इस तरह की कोई संगठित बैठक नहीं हुई है, क्योंकि समूह जुलाई और उसके बाद से कई बार बैठकें कर चुका है। पार्टी नेता ने दावा किया कि ‘पुनरुद्धार’ के लिए समर्थन 50 से अधिक हो गया है, क्योंकि तत्काल सुधारों के लिए सामूहिक रूप से उन सभी की कल्पना पर जोर दिया है जो कांग्रेस के लिए सबसे अच्छा चाहते हैं। मंगलवार को सोनिया गांधी द्वारा गठित समूह ने जिसमें अहमद पटेल, अंबिका सोनी, रणदीप सुरजेवाला, के.सी. वेणुगोपाल और मुकुल वासनिक हैं, ने वर्चुअल रूप से बिहार के नतीजों के साथ-साथ उपचुनावों के नतीजों पर भी चर्चा की।

सूत्रों का कहना है कि बिहार प्रभारी शक्तिसिंह गोहिल और गुजरात प्रभारी राजीव सातव ने पद छोड़ने की पेशकश की, हालांकि, उन्हें सोनिया गांधी के स्थिति का जायजा लेने तक पद पर बने रहने के लिए कहा गया। कपिल सिब्बल द्वारा चुनावी पराजयों पर चिंता जताने और नेतृत्व की आलोचना के बाद कई नेता नेतृत्व के बचाव में आ गए, जिनमें राजस्थान और छत्तीसगढ़ के दो मुख्यमंत्री शामिल थे, जिन्होंने सार्वजनिक रूप से जगजाहिर करने के लिए सिब्बल की आलोचना की।

यह भी पढ़ें – बराक ओबामा ने ‘ए प्रॉमिस्ड लैंड’ में किया राहुल, सोनिया और मनमोहन सिंह का ज़िक्र

जिस तरह से बिहार चुनाव और राज्यों के उपचुनावों को पार्टी ने संभाला और हाल ही में उपचुनावों में मिली हार को लेकर पार्टी के अंदरखाने में कलह जोरों पर है। असंतुष्ट नेता चाहते हैं कि नए सिरे से संगठनात्मक चुनावों को ब्लॉक से सीडब्ल्यूसी स्तर तक कायाकल्प किया जाए। समूह सीडब्ल्यूसी के चुनावों पर जोर दे रहा है और पार्टी में संसदीय बोर्ड के रिवाइवल पर भी जोर दे रहा है।

कपिल सिब्बल जो अगस्त में विवादित पत्र लिखने वाले नेताओं में से एक हैं, ने कहा है कि चिंता जाहिर के लिए कोई मंच नहीं है इसलिए वह सार्वजनिक रूप से अपनी बात रख रहे हैं। सिब्बल ने कहा कि पार्टी को स्वीकार करना होगा कि यह ‘पतन पर है’ और संगठनात्मक पुनर्गठन और मीडिया प्रबंधन से लेकर खुद को मजबूत करने के लिए कई तरीकों की जरूरत है। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि उनकी पार्टी को विचारशील नेतृत्व की जरूरत है जो अधिक मुखर हो और चीजों को आगे बढ़ा सके।

उन्होंने कहा, “पार्टी के पास चर्चा के लिए अधिक अनुभवी लोग हैं, (वे) जो राजनीतिक स्थिति को समझ सकते हैं और लोगों तक पहुंच बनानी होगी।” (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
174FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

हाल की टिप्पणी