Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
चर्चा

उस समय भी मैं लिखता था और आज भी मैं लिखता हूँ!

'मेरे गीत तुम्हारे नाम' इस गीत को अन्नू रिज़वी ने अपनी कलम से उकेरा है। जिसमें यादें हैं, कुछ इश्क हैं, इसमें गांव की झलक है। उन्ही से जानते हैं किताब के पीछे का एक अनजान किस्सा।

‘मेरे गीत तुम्हारे नाम’ जिनके लेखक हैं अन्नू रिज़वी।

अन्नू रिज़वी ने एक लेखक और गीतकार के रूप में टीवी इंडस्ट्री में अपने जीवन के 25 साल समर्पित किए हैं और इस समय वह ओपी जिंदल यूनिवर्सिटी में स्पोर्ट्स मैनेजर हैं। अन्नू रिज़वी ने कई गीतों की रचना की है, कुछ प्रेम पर, कुछ अतीत पर और कुछ अपने अनुभवों पर आधारित। हाल ही में उन्होंने अपने कुछ गीतों को किताब की शक्ल दी है, जिसका नाम है “मेरे गीत तुम्हारे नाम” जो amazon.in पर भी उपलब्ध है। आइए, अन्नू रिज़वी जी से ही जानते हैं, उनके किताब के पीछे का एक अनजान किस्सा।

“मेरे गीत तुम्हारे नाम” के रचनाकार अन्नू रिज़वी।


शान्तनू: “मेरे गीत तुम्हारे नाम” इस किताब में पाठकों को क्या नया पढ़ने को मिलेगा?

अन्नू रिज़वी: मुझे गीत लिखने का पहले से ही शौक था, मुझमें कभी यह इच्छा नहीं जगी कि मैं किसी कवि सम्मेलन या मुशायरे में जाकर अपने गीत सुनाऊँ। यह एक शौक था और इसी सिलसिले में मैं बॉम्बे(मुंबई) भी गया। फिर मुझे लगा जो गीत मैंने लिखे हैं वह कहीं गुमनामी में खो जाएं और इसी को ध्यान में रखते हुए मैंने इस किताब को प्रकाशित किया। इस किताब में आपको 62 गीत पढ़ने को मिलेंगे, लेकिन कम से कम 50-60 गीत और हैं जिन्हें मैंने किताब में जगह नहीं दी है क्योंकि उनमें मुझे लगा कि कुछ खामियां हैं जिन्हे ठीक करना है। फिर कभी मौका मिला तो उन्हें भी प्रकाशन के लिए भेजने का प्रयास करेंगे। बरहाल, ये गीत मेरी यादें हैं, कुछ इश्क हैं, इसमें हमारा गांव है जो मैं चाहता हूँ कि यह गीत अधिक लोगों तक पहुंचे। यह गीत मैंने समर्पित की है मेरी पत्नी को जो अब हमारे बीच नहीं हैं, क्योंकि वही मेरी प्रेरणा थीं, उन्होंने हमेशा मुझे लिखने के लिए और हर समय कुछ नया लिखने के लिए प्रेरित किया।

यह किताब सबके लिए है, यह किसी विशेष वर्ग या पाठकों को ध्यान में रखकर नहीं प्रकाशित की गई है। इस किताब में कठिन हिंदी के शब्दों का प्रयोग नहीं किया गया है, इसमें कुछ गीत पूर्वी जुबान में भी हैं क्योंकि मैं वहां का रहने वाला हूँ। इसी जुबान में लिखा और उसी को नया रूप देकर सबके सामने रखा है और इस किताब में उर्दू और कठिन हिंदी न हो इसका ध्यान रखा गया ताकि यह किताब सभी वर्ग के लिए पढ़ने योग्य हो। और मैंने कई गीतकारों और कवियों को पढ़ा और सुना, फिर मैं इन गीतों को लिख पाया हूँ।

शान्तनू: “मेरे गीत तुम्हारे नाम” इस अनोखे शीर्षक के पीछे की क्या कहानी है?

अन्नू रिज़वी: “मेरे गीत तुम्हारे नाम” मेरे एक गीत का मुखड़ा है जो कि कुछ इस प्रकार से है कि “कोई तो तुमसा उजियारा, नैनों सा कोई कजरारा। तुमसे प्रीत लगाकर देखो तुम राधा तो ये हैं श्याम, मेरे गीत तुम्हारे नाम।।” यहाँ से मैंने यह मुखड़ा उठाया और इसे मैंने सम्बोधित किया अपनी पत्नी को, और क्योंकि उन्हें ही यह किताब समर्पित की गई है।

दिल्ली के ही इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में इस किताब का मैं बड़े स्तर पर प्रमोशन कराना चाह रहा था, किन्तु कोरोना महामारी की वजह से वह हो नहीं पाया।

शान्तनू: पत्रकार, फिर गीतकार और अब यह किताब तो आपका यह पूरा सफर कैसा रहा?

अन्नू रिज़वी: जब पत्रकार था तब भी गीतकार था, उस समय भी गीतों को कहता था और लिखता था। और जब टीवी इंडस्ट्री में आया तब तो मेरा काम ही था लिखना और अभी भी लिख रहा हूँ। तो इस पूरे सफर को देखा जाए तो अच्छा सफर तय किया है। हाँ! कुछ काम ऐसे थे जिन्हे अधूरा छोड़ना पड़ा, लेकिन कुल मिलाकर यह सफर अच्छा रहा।

एक और बात कि मैं अब फिल्मों में नहीं जाना चाहता, हालांकि एक ओटीटी पर आई फिल्म के लिए गीत लिखा है जिसे बॉलीवुड गायक शान ने स्वर दिया है और उस गीत को बहुत लोगों ने सराहा भी है। इस तरह से फिल्मों से जुड़ा हुआ हूँ लेकिन अब वापस बॉम्बे(मुंबई) जाकर उस काम को करना वह मुझसे नहीं हो पाएगा।

यह भी पढ़ें: मैं आज भी पैसों के लिए नहीं लिखता : अन्नू रिज़वी

शान्तनू: आपके पास किताबों का और गीतों का एक अच्छा अनुभव है, सवाल यह है कि, आज के नए रचनाकारों को क्या आप सही दिशा में चलता हुआ देख रहे हैं?

अन्नू रिज़वी: आज नए रचनाकार भी हर तरह की शैली में लिख रहे हैं और अच्छा लिख रहे हैं। आज-कल के हालात जो चल रहे हैं उन पर भी बड़े अच्छे-अच्छे गीत लिखे गए हैं। शायरी और गीतों में समय-समय पर बदलाव आता रहा है। कुछ नव-युवक वास्तव में अच्छा लिख रहे हैं, कुछ शौखिया और बिना पढ़े लिख रहे हैं तो उनको बड़े कवियों और रचनाओं को पढ़ने की जरूरत है।

लेकिन कविताओं में बेहूदगी जो यूट्यूब या अन्य सोशल मीडिया पर नए तथाकथित कवियों द्वारा देखने को मिलती है वह सोशल मीडिया की ही देन है। केवल अपने-आप को मशहूर करने के लिए वह इस बेहूदगी का सहारा लेते हैं। लेकिन इस झूठी वाह-वाही पर कितने दिन टिक पाएंगे यह उनको नहीं पता है। एक बात और है कि अच्छी शायरी और कविताओं पर उतने लाइक भी नहीं मिल रहे हैं क्योंकि सोशल मीडिया पर कविताएं सुनने वाले भी ऐसे ही हो गए हैं।

अंत में:

यह किताब कई किस्सों, कई यादों को गीतों के रूप सजोए हुए है, जिसे हर कोई अपने अतीत से जोड़ सकता है। गीत कभी पुराने या नए नहीं होते, बस पढ़ने वालों का नजरिया बदलता रहता है।

Popular

देश भर से जमा की गई 2 लाख से अधिक ईंटें। (IANS)

राम भक्तों द्वारा दी गई और विश्व हिंदू परिषद (विहिप) (Vishwa Hindu Parishad) द्वारा तीन दशक लंबे मंदिर आंदोलन के दौरान देश भर से जमा की गई 2 लाख से अधिक ईंटों का इस्तेमाल अब राम जन्मभूमि स्थल पर भव्य मंदिर का निर्माण के लिए किया जाएगा।

मंदिर ट्रस्ट के सदस्य अनिल मिश्रा ने कहा, "1989 के 'शिलान्यास' के दौरान कारसेवकों द्वारा राम जन्मभूमि पर एक लाख पत्थर रखे गए थे। कम से कम, 2 लाख पुरानी कार्यशाला में रह गए हैं, जिन्हें अब निर्माण स्थल पर स्थानांतरित कर दिया जाएगा। ईंटों पर भगवान राम का नाम लिखा है और यह करोड़ों भारतीयों की आस्था का प्रमाण है।

Keep Reading Show less

कर्नाटक राज्य में मंदिर विध्वंस अभियान पर विराम लगा दिया है। (wikimedia commons)

हिंदू संगठनों की ओर से आलोचना झेल रही कर्नाटक की भाजपा सरकार नें कर्नाटक में मंदिर विध्वंस के मुद्दे पर फिलहाल राज्य विधानसभा में एक कानून पारित कर पुरे कर्नाटक राज्य में मंदिर विध्वंस अभियान पर विराम लगा दिया है। सत्ताधारी पार्टी भाजपा और विपक्षी दल कांग्रेस इन दोनों के बीच मंगलवार को तीखी बहस के बीच प्रस्तावित कर्नाटक धार्मिक संरचना (संरक्षण) विधेयक 2021 को पारित कर दिया गया।

यह प्रस्तावित अधिनियम जिसका नाम 'कर्नाटक धार्मिक संरचना (संरक्षण) विधेयक-2021' है, इसका मुख्य उद्देश्य सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार राज्य में धार्मिक संरचनाओं के विध्वंस को रोकना है।

यह अधिनियम में कहा गया है कि 'कर्नाटक धार्मिक संरचना संरक्षण अधिनियम -2021' के लागू होने की तारीख से, कानूनों के कानूनी प्रावधान और अदालतों, न्यायशास्त्र और अधिकारियों के आदेशों या दिशानिदेशरें के बावजूद, सरकार धार्मिक केंद्रों की रक्षा करेगी।

सार्वजनिक संपत्तियों पर बने धार्मिक केंद्रों को खाली करने, स्थानांतरित करने और ध्वस्त करने की प्रक्रिया को रोक दिया जाएगा। इस अधिनियम के लागू होने और विधान परिषद में पारित होने के बाद से ही ।

इसी बीच विपक्ष के नेता सिद्धारमैया ने कर्नाटक सरकार पर आरोप लगाया कि हिंदू जागरण वेदिक और हिंदू महासभा की आलोचना का सामना करने के बाद भाजपा यह कानून लाई है। मैसूर में मंदिर तोड़े जाने के बाद बीजेपी पुनर्निर्माण के लिए नया कानून ला रही है, यह भी आरोप लगायें हैं उन्होंने भाजपा पार्टी के खिलाफ । इसके बाद कांग्रेस के एक और विधायक और पूर्व मंत्री औरयू.टी. खादर ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि छात्र पाठ्यपुस्तकों में पढ़ने जा रहे हैं कि भाजपा ने भारत में आक्रमणकारियों की तरह मंदिरों को ध्वस्त कर दिया।

\u0915\u0930\u094d\u0928\u093e\u091f\u0915 \u0930\u093e\u091c\u094d\u092f कर्नाटक राज्य का नक्शा सांकेतिक इमेज (wikimedia commons)

Keep Reading Show less

डब्ल्यूएचओ यानीं विश्व स्वास्थ्य संगठन का मुख्यालय (wikimedia commons)

पूरी दुनिया एक बार फिर कोरोना वायरस अपना पांव पसार रहा है । डब्ल्यूएचओ यानीं विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि कोरोना वायरस का जो डेल्टा कोविड वैरिएंट संक्रामक वायरस का वर्तमान में प्रमुख प्रकार है, अब यह दुनिया भर में इसका फैलाव हो चूका है । इसकी मौजूदगी 185 देशों में दर्ज की गई है। मंगलवार को अपने साप्ताहिक महामारी विज्ञान अपडेट में वैश्विक स्वास्थ्य एजेंसी ने कहा, डेल्टा वैरिएंट में अब सेम्पल इकट्ठा करने की डेट जो कि 15 जून -15 सितंबर, 2021 के बीच रहेंगीं । जीआईएसएआईडी, जो एवियन इन्फ्लुएंजा डेटा साझा करने पर वैश्विक पहल के लिए है, एक ओपन-एक्सेस डेटाबेस है।

मारिया वान केरखोव जो विश्व स्वास्थ्य संगठन में कोविड-19 पर तकनीकी के नेतृत्व प्रभारी हैं , उन्होंने डब्ल्यूएचओ सोशल मीडिया लाइव से बातचीत करते हुए कहा कि , वर्तमान में कोरोना के अलग अलग टाइप अल्फा, बीटा और गामा का प्रतिशत एक से भी कम चल रहा है। इसका मतलब यह है कि वास्तव में अब दुनिया भर में कोरोना का डेल्टा वैरिएंट ही चल रहा है।

\u0915\u094b\u0930\u094b\u0928\u093e \u0935\u093e\u092f\u0930\u0938 कोरोना का डेल्टा वैरिएंट हाल के दिनों में दुनियाभर में कहर बरपाया है (pixabay)

Keep reading... Show less