Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

जयपुर में प्रवासियों ने कहा, महामारी के दौरान भारत में होना हमारी खुशकिस्मती

एक दशक से अधिक समय से गुलाबी नगरी में रह रही मैरी-ऐनी औदेजंस और बारबरा मिओलिनी को भारत से प्यार है और इस देश में होने को लेकर खुद को खुशकिस्मत मानती है, जब दुनिया में कोविड-19 महामारी के कारण उथल-पथल है।

By: अर्चना शर्मा

यह उन युवा प्रवासियों की कहानी है, जिन्होंने सालों पहले अपना देश छोड़ दिया और जयपुर को अपना नया घर बना लिया।


एक दशक से अधिक समय से गुलाबी नगरी में रह रही मैरी-ऐनी औदेजंस और बारबरा मिओलिनी को भारत से प्यार है और इस देश में होने को लेकर खुद को खुशकिस्मत मानती है, जब दुनिया में कोविड-19 महामारी के कारण उथल-पथल है।

कोविड की वजह से प्रतिबंधों के कारण दोनों एक वर्ष से अधिक समय तक यूरोप में अपने परिवारों से मिलने नहीं गईं हालांकि वे अब मिलने के लिए उत्सुक हैं।

स्विट्जरलैंड में जन्मीं बारबरा ने कहा, “यह काफी लंबा वक्त रहा है।”

उन्होंने कहा, “यूरोप और दुनिया के कई अन्य हिस्सों में लोग वहां लगाए गए सख्त प्रतिबंधों के कारण मानसिक रूप से प्रभावित हुए हैं। हालांकि, हम खुशकिस्मत हैं कि हम यहां हर गुजरते दिन के साथ आगे बढ़ रहे हैं। हम मानसिक रूप से उन लोगों के जैसे प्रभावित नहीं हुए हैं।”
 

पिंक सिटी जयपुर । ( social media )

उन्होंने कहा कि वह 14 साल पहले किसी काम के सिलसिले में जयपुर आई थीं, तब से यहीं रह रही हैं।

बारबरा ने मुस्कुराते हुए कहा, “यह बिल्कुल भी योजनाबद्ध नहीं था।”

अपनी पृष्ठभूमि पर प्रकाश डालते हुए, बारबरा ने कहा, “मैंने अपना होटल मैनेजमेंट स्विट्जरलैंड से किया था, तब एक फैक्ट्री बनाई जो अरमानी और अन्य इतालवी ब्रांडों के लिए प्रोडक्सन करती थी। फिर मैंने यहां एक होटल से शुरुआत की और अब मैं एक नई परियोजना पर काम कर रही हूं।”

स्विस और इतालवी मूल की बारबरा स्विट्जरलैंड में पली बढ़ी और पिछले 15 वर्षों से भारत में है। वर्तमान में, वह शहर के बेहतरीन रेस्तरां बार पल्लीदियो की मालकिन हैं।

इस बीच, बारबरा, ईस्टर के दौरान स्विट्जरलैंड में अपने परिवार से मिलने की योजना बना रही है।

अन्य प्रवासी, मैरी-ऐनी, एक इंटीरियर डिजाइनर है जो 10 साल पहले गुलाबी नगरी आई थीं।

उन्होंने कहा, “मैं दिल्ली में एक परियोजना पर काम करने के लिए भारत आई थी और फिर जयपुर आने का फैसला किया क्योंकि मेरे पास मेरा कुत्ता था और हमने जयपुर में अधिक सहज महसूस किया।”

उन्होंने आगे कहा, “जयपुर में, बारबरा ने मुझे अपना बार डिजाइन करने के लिए कहा और उसके बाद मैं यहां काफी समय से काम कर रही हूं। मैंने कुछ बड़े प्रोजेक्ट्स करते हुए अपनी खुद की कंपनी यहां बनाई है।”

यह भी पढ़ें: बंगाल में सियासी घमासान के बीच उठ रहे हैं कई नए मुद्दे

लॉकडाउन के बारे में उन्होंने कहा, “यूरोप और दुनिया के अन्य हिस्सों में हमारे कई दोस्त फंसे हुए हैं, क्योंकि अधिकांश स्थान अभी भी लॉकडाउन में हैं। जबकि हम जयपुर में बाहर जा सकते हैं, हमारे अधिकांश दोस्तों के लिए स्थिति अभी भी एक दुस्वप्न की तरह है। हम बहुत यात्रा करते थे, हमारे परिवार से साल में छह बार मिलते थे क्योंकि वे अक्सर यहां आते थे, हालांकि, अब कोई भी यहां नहीं आ रहा है और हम वहां नहीं जा सकते क्योंकि हमारे पास बिजनेस वीजा है। हमें चिंता है कि अगर हम जाते हैं, तो हम शायद वापस नहीं आ सकें क्योंकि चीजें तेजी से बदल रही हैं।”

मैरीव ने आगे कहा, “इसके अलावा, मेरे पास एक डच पासपोर्ट है लेकिन पिछले 17 वर्षों से नीदरलैंड्स में नहीं रही हूं। यह एक जटिल मामला है, इसलिए हमने यहां रहने का फैसला किया, अब हम सही समय का इंतजार कर रहे हैं जब हम जाकर अपने परिवार से मिल सकेंगे।”

मैरी-ऐनी फ्रांस में पली बढ़ीं हैं। वह इटली, स्पेन और न्यूयॉर्क में भी रही हैं।

उन्होंने कहा, “भारत मेर लिए काफी हद तक मेरे घर जैसा है। मैंने यहां अच्छे दोस्त बनाए हैं और कुछ शानदार काम किया है .. इसलिए यह मेरा घर बना हुआ है।”
(आईएएनएस)
 

Popular

शिया वक़्फ़ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिज़वी ने आज हिन्दू धर्म अपना लिया। (Twitter)

उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड(Shia Waqf Board) के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी(Wasim Rizvi) ने सोमवार को हिंदू धर्म(Hindu Religion) (जिसे सनातन धर्म भी कहा जाता है) अपना लिया। एक दैनिक समाचार वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने अनुष्ठान के तहत डासना देवी मंदिर में स्थापित शिव लिंग पर दूध चढ़ाया।

समारोह डासना देवी मंदिर के मुख्य पुजारी नरसिंहानंद सरस्वती की उपस्थिति में सुबह 10.30 बजे शुरू हुआ, वैदिक भजनों का जाप किया गया क्योंकि रिजवी ने इस्लाम छोड़ दिया और एक यज्ञ के बाद हिंदू धर्म में प्रवेश किया। वह त्यागी समुदाय से जुड़े रहेंगे। उनका नया नाम जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी होगा।

Keep Reading Show less

इंडियन स्कूल ऑफ हॉस्पिटैलिटी (ISH) [IANS]

दुनिया की अग्रणी हॉस्पिटैलिटी और पाक कला शिक्षा दिग्गजों में से एक, सॉमेट एजुकेशन (Sommet Education) ने हाल ही में देश के प्रीमियम हॉस्पिटैलिटी संस्थान, इंडियन स्कूल ऑफ हॉस्पिटैलिटी (ISH) के साथ हाथ मिलाया है। इसके साथ सॉमेट एजुकेशन की अब आईएसएच (ISH) में 51 प्रतिशत हिस्सेदारी है, जो पूर्व के विशाल वैश्विक नेटवर्क में एक महत्वपूर्ण एडिशन है। रणनीतिक साझेदारी सॉमेट एजुकेशन को भारत में अपने दो प्रतिष्ठित संस्थानों को स्थापित करने की अनुमति देती है। इनमें इकोले डुकासे शामिल है, जो पाक और पेस्ट्री कला में एक विश्वव्यापी शिक्षा संदर्भ के साथ है। दूसरा लेस रोचेस है, जो दुनिया के अग्रणी हॉस्पिटैलिटी बिजनेस स्कूलों में से एक है।

इस अकादमिक गठबंधन के साथ, इकोले डुकासे का अब भारत में अपना पहला परिसर आईएसएच (ISH) में होगा, और लेस रोचेस देश में अपने स्नातक और स्नातकोत्तर आतिथ्य प्रबंधन कार्यक्रम शुरू करेगा।

Keep Reading Show less
Credit- Wikimedia Commons

भारतीय रेलवे (Wikimedia Commons)

पूर्व मध्य रेल ने नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के निर्देशों के बाद इसके अनुपालन में उल्लेखनीय प्रगति हासिल की है। इको स्मार्ट स्टेशन के रूप में विकसित करने के लिए पूर्व मध्य रेल के 52 चिन्हित स्टेशनों पर रेलवे बोर्ड द्वारा सुझाए गए 24 इंडिकेटर (पैरामीटर) लागू किए हैं। सभी 52 स्टेशनों ने पर्यावरण प्रबंधन के लिए एक प्रमाणन आईएसओ-14001:2015 प्राप्त किया है। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल द्वारा निर्धारित पूर्व मध्य रेल के 52 नामांकित स्टेशनों में से 45 का संबंधित राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोडरें के लिए सहमति-से-स्थापित (सीटीई) प्रस्तावों की ऑनलाइन प्रस्तुतियां सुनिश्चित कीं।

पूर्व मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेष कुमार ने बताया कि पूर्व मध्य रेल के सभी 45 स्टेशनों के लिए स्थापना की सहमति के लिए एनओसी प्राप्त कर ली गई है और 32 स्टेशनों को कंसेंट-टू-ऑपरेट (सीटीओ) दी गई है। उन्होंने बताया कि इस प्रमाणीकरण ने पूर्व मध्य रेलवे को राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोडरें द्वारा निर्धारित पानी, वायु प्रदूषण नियंत्रण और ठोस अपशिष्ट प्रबंधन मानदंडों की आवश्यकता को सुव्यवस्थित करने में मदद की है।

Keep reading... Show less