Wednesday, May 12, 2021
Home ज़रूर पढ़ें दैनिक जीवन में कम तनाव हमारे मस्तिष्क के लिए फायदेमंद भी हो...

दैनिक जीवन में कम तनाव हमारे मस्तिष्क के लिए फायदेमंद भी हो सकता है : स्टडी

अगर लोग अपने दैनिक जीवन में किसी भी हल्के तनाव की स्थिति से नहीं गुजरते हैं, तो यह हमेशा बेहतर स्थिति नहीं मानी जा सकती है।

अगर लोग अपने दैनिक जीवन में किसी भी हल्के तनाव (Stress) की स्थिति से नहीं गुजरते हैं, तो यह हमेशा बेहतर स्थिति नहीं मानी जा सकती है। शोधकर्ताओं का कहना है कि वह लोग जो कोई भी तनाव महसूस नहीं करते हैं, उनकी स्थिति हमेशा सुपर-चार्ज (Super charge) महसूस करने की भावना के प्रति नकारात्मक हो सकती है। एक हालिया अध्ययन से पता चला है कि जिन लोगों ने किसी प्रकार के तनाव (Stress) का अनुभव नहीं किया है, उनका दैनिक जीवन बेहतर गुजरता है और उन्हें पुरानी स्वास्थ्य (Health issues) संबंधी स्थितियों से भी कम जूझना पड़ता है, मगर इसके साथ ही उन्हें चीजों का ज्ञान भी कम प्राप्त हो पाता है।

पेन स्टेट के शोधकर्ता डेविड एम. अल्मेदिया (David M. Alamedia) के अनुसार, अध्ययन से पता चलता है कि दैनिक तौर पर छोटे-छोटे तनाव असुविधा तो जरूर पैदा कर सकते हैं, मगर साथ ही साथ यह मस्तिष्क को लाभ भी पहुंचा सकते हैं।

डेविड ने कहा, “यह संभव है कि तनाव का सामना करना आपके लिए एक समस्या को हल करने के अवसर पैदा करता है। उदाहरण के लिए, शायद आपके कंप्यूटर (Computer) को ठीक करना, जो एक महत्वपूर्ण जूम मीटिंग (Zoom meating) से पहले अचानक टूट गया था।”

उन्होंने कहा, “इसलिए इन तनावों का अनुभव करना सुखद नहीं हो सकता है, लेकिन साथ ही वह आपको एक समस्या को हल करने के लिए मजबूर कर सकता है और यह वास्तव में संज्ञानात्मक कामकाज के लिए अच्छा हो सकता है।”

शोधकर्ताओं के अनुसार, पिछले अध्ययनों में बड़ी संख्या में तनाव को कई नकारात्मक परिणामों को लेकर अधिक जोखिम के साथ जोड़ा गया है, जैसे पुरानी बीमारी (Disesses) या फिर भावनात्मक रूप से कमजोर हो जाना।

तनाव को कई नकारात्मक परिणामों को लेकर अधिक जोखिम के साथ जोड़ा गया है| (Unsplash)

जर्नल इमोशन (Gernal emotions) में प्रकाशित अध्ययन के लिए, शोधकर्ताओं ने 2,711 प्रतिभागियों के डेटा का उपयोग किया है।

अध्ययन की शुरूआत से पहले प्रतिभागी एक छोटे से ज्ञान संबंधी परीक्षण से भी गुजरे।

अध्ययन के लिए प्रतिभागियों को लगातार आठ रातों तक प्रत्येक रात एक विशेष साक्षात्कार से गुजरना पड़ा, जिसमें उनकी मनोदशा, पुरानी स्थितियों, उनके शारीरिक लक्षणों – जैसे कि सिरदर्द, खांसी या गले में खराश के बारे में पूछा गया। इस बात पर भी गौर किया गया कि इस दौरान उन्होंने दिनभर क्या किया।

डेटा (Deta) का विश्लेषण करने के बाद, शोधकर्ताओं ने पाया कि उन लोगों को लिए लाभ हुआ है, जिन्हें अध्ययन के दौरान कोई तनाव नहीं था और इन प्रतिभागियों में से इनकी संख्या लगभग 10 प्रतिशत रही।

इन प्रतिभागियों में पुरानी स्वास्थ्य संबंधी समस्या भी कम देखी गई और पूरे दिन उनका मूड भी बेहतर रहने के संकेत मिले।

यह भी पढ़े :- UN की रिपोर्ट में कहा गया की खाने की बर्बादी का सही डाटा ग़ायब है ?

हालांकि, जिन लोगों में कोई तनाव नहीं देखा गया, वह अपने ज्ञान तथा विवेक का इस्तेमाल करते हुए बेहतर प्रदर्शन करने में भी तुलनात्मक रूप से कम सक्षम पाए गए।

यही वजह है कि इस शोध के बाद शोधकर्ताओं का कहना है कि दैनिक जीवन में कम तनाव हमारे मस्तिष्क (Mind) के लिए कुछ फायदेमंद भी हो सकता है। (आईएएनएस-SM)
 

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,638FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी