Sunday, June 13, 2021
Home दुनिया चीन में भी अल्पसंख्यक नहीं हैं सुरक्षित, पढ़िए यह रिपोर्ट!

चीन में भी अल्पसंख्यक नहीं हैं सुरक्षित, पढ़िए यह रिपोर्ट!

चीन के शिंजियांग क्षेत्र में नजरबंद शिविरों में हिरासत में लिए गए उइगरों का कहना है कि चीनी अधिकारियों ने द्वारा पूछताछ के दौरान उनके साथ यौन उत्पीड़न और बलात्कार किया है, जबकि वह अन्य साथी बंदियों के साथ भी बलात्कार होने के भी गवाह बने हैं  अमेरिका के वर्जीनिया राज्य में रहने वाली 42 साल की उइघुर महिला जो कि नज़रबंद कैम्प को झेल चुकी हैं, टर्सुनेय जियावूदुन ने वीओए को बताया कि 2018 में उत्तरी शिनजियांग के कुनेस काउंटी में एक नज़रबंद कैंप में पूछताछ के दौरान उसे पीटा गया, उसका यौन शोषण किया गया और उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया गया।

अंतर्राष्ट्रीय अधिकार समूहों का अनुमान है कि शिंजियांग में दस लाख से अधिक उइगर और अन्य तुर्क-भाषी अल्पसंख्यक समूह 2017 के शुरुआती दिनों से नजरबंद शिविरों में रह रहे हैं। लीक हुए आंतरिक सरकारी दस्तावेजों में, चीन ने इस तरह की सुविधाओं को “शिक्षा केंद्रों के माध्यम से परिवर्तन” कहा है, जिसका उद्देश्य “ब्रेन वाशिंग, दिलों को साफ करना, धार्मिकता को मजबूत करना और बुराई को दूर करना है” और बाद में उन्हें “व्यावसायिक प्रशिक्षण केंद्र” के रूप में “आतंकवाद और धार्मिक मुकाबला करने के लिए” के रूप में” बताया गया है। 

ज़ियावूदुन की कहानी को सबसे पहले बीबीसी ने पिछले सप्ताह रिपोर्ट किया था। शिनजियांग के दोनों मूल निवासी ज़ियावुदुन और उनके पति,  मूलतः कज़ाख के हैं, पहली बार 2011 में एक चिकित्सा क्लिनिक खोलने के लिए वह पड़ोसी कजाकिस्तान गए थे। नवंबर 2016 में, जब वे चीन लौटे, तो शिंजियांग में स्थानीय अधिकारियों ने उनके पासपोर्ट जब्त कर लिए और अप्रैल 2017 में ज़ियाउदुन को कजाकिस्तान में यात्रा करने और रहने के लिए “पुनः शिक्षा” के लिए एक आंतरिक शिविर में भेजा, शिंजियांग 26 देशों के चीनी क्षेत्रों में से एक है संवेदनशील इलाका है।

Uighar muslim ditention camps
चीन में कैद हैं करीब 10 लाख उइगर मुस्लिम।(VOA)

कई हफ्तों के बाद, ज़ियावूदुन को शिविर से रिहा कर दिया गया, और जून 2017 में, पुलिस ने उसके पति का पासपोर्ट जारी कर दिया, जिससे ज़ियावूदुन को चीन में रहने के लिए गारंटी के रूप में चीन में लौटने के लिए दो महीने के लिए कजाकिस्तान जाने की अनुमति दी गई वह भी बिना किसी ‘चीन विरोधी’ गतिविधियों में सम्मिलित हुए। उनके पति चीन नहीं लौटे, जो चीनी अधिकारियों ने मांग की थी, और मार्च 2018 में उनके फैसले के लिए सजा के रूप में, ज़ियाउदुन को दूसरी बार इंटर्नमेंट शिविर में ले जाया गया था, जहां उसने देखा “सबसे बर्बर और अमानवीय यौन दुर्व्यवहार” खुद के साथ और अन्य साथियों के खिलाफ।” 

जियाउदुन ने कहा, “चार अलग-अलग मौकों पर, मुझे एक पूछताछ कक्ष में ले जाया गया, जहां मुझे पीटा गया, मेरे निजी अंग को बिजली के बैटन से असहनीय रूप से जलाया गया और मेरे साथ सामूहिक बलात्कार किया गया।” जियाउदुन ने वीओए से आगे कहा कि उनके कुछ साथी वापस लौट कर ही नहीं आए, और जो आए उन्हें चुप रहने या भुगतने की डर दिखाया गया। दिसंबर 2018 में, शिविर में नौ महीने बाद, ज़ियावुदुन को रिहा किया गया था। उन्होंने कहा कि कजाकिस्तान में पति के अभियान के कारण चीनी अधिकारियों ने दबाव में आकर मुक्त किया। सितंबर 2019 में, चीनी सरकार ने उन्हें अपने पति के साथ रहने के लिए केवल एक महीने के लिए कजाकिस्तान की यात्रा करने की अनुमति दी। कजाकिस्तान में, शरण के लिए उनके आवेदन को अस्वीकार कर दिया गया था, लेकिन किसी भी वक्त चीन वापस भेजे जाने के जोखिम के बावजूद वह परिवार के साथ रहने में सक्षम रहीं। सितंबर 2020 तक, अमेरिकी सरकार ने उन्हें संयुक्त राज्य अमेरिका में आने की अनुमति दी।

यह भी पढ़ें: “अल्पसंख्यक का रोना रोने वाले अल्पसंख्यक नहीं”

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने पिछले हफ्ते कहा था कि ज़ियाउदुन के बलात्कार के दावे का “कोई तथ्यात्मक आधार नहीं है।” अमेरिकी अधिकारियों का कहना है, “ये अत्याचार विवेक को झटका देता है और गंभीर परिणामों को न्योता भी देता है।” अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने पिछले सप्ताह एक बयान में कहा, “हम शिंजियांग में जातीय उइगरों और अन्य मुस्लिमों के लिए आंतरिक शिविरों में महिलाओं के खिलाफ व्यवस्थित बलात्कार और यौन शोषण के मामलों सहित पहली रिपोर्ट की गहराई से परेशान हैं।”(VOA)

(हिन्दी अनुवाद: Shantanoo Mishra)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी