UGC की एक अनोखी पहल, विश्वविद्यालयों में बताएंगे 1947 विभाजन की विभीषिका

देश के विभाजन की विभीषिका से लोगों को अवगत कराने के लिए UGC ने एक बड़ी पहल की है।
UGC की एक अनोखी पहल, विश्वविद्यालयों में बताएंगे 1947 विभाजन की विभीषिका
UGC की एक अनोखी पहल, विश्वविद्यालयों में बताएंगे 1947 विभाजन की विभीषिकाUGC (IANS)

देश के विभाजन की विभीषिका से लोगों को अवगत कराने के लिए UGC ने एक बड़ी पहल की है। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग यानी UGC ने इस संबंध में देशभर के सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को एक पत्र जारी किया है। इस पत्र के माध्यम से विश्वविद्यालयों को कहा गया है कि वे लोगों को विभाजन की विभीषिका से अवगत कराएं। UGC की इस पहल के बाद अब विभिन्न विश्वविद्यालयों के माध्यम से 14 अगस्त 1947 को हुई विभाजन की विभीषिका को याद किया जाएगा। UGC ने विश्वविद्यालयों को विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस पर विभिन्न आयोजन करने के लिए यह आधिकारिक पत्र जारी किया है। UGC के अध्यक्ष प्रो. एम. जगदीश कुमार ने कहा कि प्रधानमंत्री ने पिछले साल 14 अगस्त को 1947 में विभाजन के दौरान लाखों भारतीयों के कष्टों और बलिदानों की देश को याद दिलाने के लिए 'विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस' के रूप में मनाने की घोषणा की थी। इसका उद्देश्य यह है कि हम सामाजिक विभाजन, असामंजस्य के जहर को दूर करें और एकता, सामाजिक सद्भाव और मानव सशक्तिकरण की भावना को और मजबूत करें।

UGC के सचिव प्रोफेसर रजनीश जैन द्वारा जारी किए गए इस पत्र में विभिन्न विश्वविद्यालयों से कहा गया है कि जैसा कि आप जानते हैं कि प्रधान मंत्री ने 15 अगस्त, 2021 को अपने भाषण में 14 अगस्त को 'विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस के रूप में याद करने की घोषणा की थी। आजादी का अमृत महोत्सव के इस वर्ष में, जब देश को स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे हो रहे हैं, पूरे देश में विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस के तौर पर याद किया जा रहा है। विभाजन के पीड़ित लाखों लोगों की पीड़ा, पीड़ा और दर्द को प्रकाश में लाने के लिए विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस की परिकल्पना की गई है।

UGC की एक अनोखी पहल, विश्वविद्यालयों में बताएंगे 1947 विभाजन की विभीषिका
झारखंड में खुलेगी पूर्वी भारत की पहली ट्राइबल यूनीवर्सिटी

UGC के मुताबिक यह देश को पिछली सदी में मानव आबादी के सबसे बड़े विस्थापन की याद दिलाने के लिए है, जिसने बड़ी संख्या में लोगों के जीवन की हानि हुई थी। विभाजन प्रभावित लोगों की पीड़ाओं को प्रदर्शित करने के लिए भारतीय ऐतिहासिक अनुसंधान परिषद (ICHR) और इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र (IGNCA) द्वारा संयुक्त रूप से एक प्रदर्शनी आयोजित की गई है। यह प्रदर्शनी, अंग्रेजी और हिंदी में, वेबसाइट पर डिजिटल प्रारूप में उपलब्ध है।

UGC ने कहा है कि सभी विश्वविद्यालयों और उनके कॉलेजों से अनुरोध है कि प्रदर्शनी को 10 से 14 अगस्त, 2022 के दौरान प्रमुख स्थानों पर प्रदर्शित करें, जहां बड़ी संख्या में लोग इसे देख सकें। मुद्दे की संवेदनशीलता को समझते हुए, यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि प्रदर्शनी को उस संयम और गंभीरता के साथ प्रदर्शित किया जाए जिसके वह हकदार हैं।

(आईएएनएस/AV)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com