असम की 85 वर्षीया महिला एक बार फिर लड़ेगी नागरिकता की जंग

असम में एक 85 वर्षीय महिला,को एक बार फिर अपनी नागरिकता साबित करने के लिए नोटिस भेजा गया है।
असम की 85 वर्षीया महिला एक बार फिर लड़ेगी नागरिकता की जंग
असम की 85 वर्षीया महिला एक बार फिर लड़ेगी नागरिकता की जंगAssam 85 Year Old Women (IANS)

असम में एक 85 वर्षीय महिला, (जिन्हें पहले विदेशी न्यायाधिकरण अदालत ने भारतीय घोषित किया था) को एक बार फिर अपनी नागरिकता साबित करने के लिए नोटिस भेजा गया है। महिला भानुमति बरोई कामरूप (ग्रामीण) जिले के बोको इलाके में रहती है और सीमा पुलिस द्वारा उस पर विदेशी होने का आरोप लगाया गया है। वृद्धावस्था की बीमारी और एक पैर में फ्रैक्च र के कारण, बरोई अपने आप सामान्य रूप से नहीं चल सकती।

1998 में पुलिस ने भानुमति के खिलाफ भी ऐसा ही आरोप लगाया था। उस समय, वह राज्य में एक विदेशी न्यायाधिकरण अदालत के समक्ष पेश हुई और 1965 और 1971 की मतदाता सूची जमा की, जिसमें उनके पिता का नाम था। इसके साथ ही, उन्होंने एक भारतीय नागरिक के रूप में अपने दावे के समर्थन में पंचायत प्रमाण पत्र और अन्य प्रासंगिक दस्तावेज जमा किए।

2001 में नलबाड़ी में फॉरेनर्स ट्रिब्यूनल कोर्ट ने भानुमती को भारतीय घोषित किया।

लेकिन, 21 साल बाद पुलिस ने फिर उस पर विदेशी होने का आरोप लगाया और बोको के चोमोरिया थाने से उसके घर नोटिस भेजा गया।

भानुमती बारपेटा जिले के जशेदारपम गांव की रहने वाली हैं। बोको क्षेत्र के त्रिलोचन गांव के गोपाल बरोई से शादी के बाद वह बोको चली गई। उसके दो बेटे हैं।

अखिल असम बंगाली परिषद के कामरूप जिला अध्यक्ष संजय सरकार ने कहा कि परिवार बहुत खराब स्थिति में रहता है और हाल ही में विदेशी का नोटिस मिलने के बाद उनकी पीड़ा बढ़ गई है।

उन्होंने यह भी दावा किया है कि भानुमती का नाम राष्ट्रीय नागरिक पंजी (NRC) में आया और उन्होंने कई चुनावों में अपना वोट डाला।

असम की 85 वर्षीया महिला एक बार फिर लड़ेगी नागरिकता की जंग
Rajnath Singh ने आयुध गोला-बारूद के क्षेत्र में नवाचारों का किया आह्नान

इस बीच, असम कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष और विधायक कमलाख्या डे पुरकायस्थ ने भानुमती के घर का दौरा किया और भाजपा पर तंज कसा। उन्होंने आरोप लगाया कि हालांकि भाजपा ने हिंदू बंगालियों को नागरिकता देने का वादा किया था, लेकिन जमीनी हकीकत इसके ठीक विपरीत है और असम में सत्तारूढ़ सरकार के तहत एनआरसी के नाम पर हिंदू बंगालियों को निशाना बनाया जाता है।

(आईएएनएस/AV)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com