जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ देश के 50वें मुख्य न्यायाधीश

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने राष्ट्रपति भवन में न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ को भारत के मुख्य न्यायाधीश के पद की शपथ दिलाई।
जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़
जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़Wikimedia

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के जज डीवाई चंद्रचूड़ (DY Chandrachud) ने बुधवार को देश के 50वें मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ ली। उनका कार्यकाल 10 नवंबर 2024 तक होगा। 

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू (President Draupadi Murmu) ने राष्ट्रपति भवन में न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ को भारत (India) के मुख्य न्यायाधीश (Chief Justice) के पद की शपथ दिलाई। जस्टिस चंद्रचूड़ अब जस्टिस यूयू ललित (Justice UU Lalit) की जगह लेंगे।

न्यायमूर्ति ललित ने परंपरा के अनुसार 11 अक्टूबर को केंद्र के उत्तराधिकारी के रूप में न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ के नाम की सिफ़ारिश की थी जिसके बाद राष्ट्रपति मुर्मू ने उन्हें 17 अक्टूबर को अगला प्रधान न्यायाधीश नियुक्त किया था।

केंद्रीय कानून मंत्रालय ने हाल ही में अगले सीजेआई की नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू की थी, जिसमें निवर्तमान सीजेआई (CJI) को अपने उत्तराधिकारी की सिफ़ारिश करने के लिए कहा गया था।

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़
जानिए भारतीय कानून (Law of India) से जुड़े कुछ रोचक और लाभदायक तथ्य

उच्च न्यायपालिका में न्यायाधीशों की नियुक्ति की प्रक्रिया को नियंत्रित करने वाले मेमोरेंडम ऑफ प्रोसीजर (एमओपी) के अनुसार निवर्तमान सीजेआई कानून मंत्रालय से एक पत्र मिलने के बाद उत्तराधिकारी के नाम की प्रक्रिया शुरू करते हैं.

एमओपी (MOP) में कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठतम न्यायाधीश को सीजेआई के पद पर बने रहने के लिए उपयुक्त माना जाता है और न्यायपालिका के निवर्तमान प्रमुख की राय उचित समय पर मांगी जानी चाहिए।

हालांकि, एमओपी में उत्तराधिकारी सीजेआई के नाम की सिफारिश करने की प्रक्रिया शुरू करने की समय सीमा निर्दिष्ट नहीं की गई है।


RS

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com