नासा ने दिखाया ब्रह्मांड का नया स्वरूप

जो बाइडन ने प्रेस वार्ता में बताया कि यह शक्तिशाली स्पेस टेलिस्कोप को करीब साढ़े छह महीने पहले रॉकेट के जरिए 10 लाख मील की यात्रा पर भेजा गया था।
नासा ने दिखाया ब्रह्मांड का नया स्वरूप (सांकेतिक)
नासा ने दिखाया ब्रह्मांड का नया स्वरूप (सांकेतिक)Wikimedia Commons

सोमवार को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने अपने ट्वीट के जरिए एक रंगीन कॉस्मिक तस्वीर जारी की। तस्वीर सांझा करते हुए बाइडन ने लिखा कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी के लिए यह पहली ऐतिहासिक तस्वीर है। नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (NASA) ने ये बड़ी उपलब्धि सांझा करते हुए कहा की यह ब्रह्मांड की एक नई तस्वीर है जिसे नासा के नए टेलिस्कोप जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप (James Webb Space Telescope) से लिया गया है।

अमेरिकी राष्ट्रपति इन तस्वीरों को लेकर खास उत्साहित नजर आए। उन्होंने कहा कि यह केवल खगोल विज्ञान और अंतरिक्ष के लिए ही नहीं बल्कि पूरे मानवता के लिए एक अद्भुत दिन है। यह दृश्य ब्रह्मांड की गहराई का है। ये बातें बाइडन व्हाइट हाउस में नासा द्वारा आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा, जहां उप राष्ट्रपति कमला हैरिस भी मौजूद थे।

बाइडन ने प्रेस वार्ता में बताया कि यह शक्तिशाली स्पेस टेलिस्कोप को करीब साढ़े छह महीने पहले रॉकेट के जरिए 10 लाख मील की यात्रा पर भेजा गया था। टेलिस्कोप में एक 21 फुट व्यास का टेनिस कोर्ट शेप में शीशा लगा हुआ है। नासा के प्रबंधक बिल नेल्सन ने कहा कि यह तस्वीर हमारे ब्रह्मांड की अब तक की सबसे गहरी तस्वीर है जो ब्रह्मांड के कई गहरे रहस्यों को प्रतिपादित करेगा। नियर-इन्फ्रारेड कैमरे से ली गई तस्वीरों पर उन्होंने आगे कहा कि यह दुनिया के दृष्टिकोण को बदल देगा। यह टेलिस्कोप अंतरिक्ष में भेजी गई अब तक की सबसे शक्तिशाली दूरबीनों में से एक है, जिसकी लाइफ 10 साल है।

नासा ने दिखाया ब्रह्मांड का नया स्वरूप (सांकेतिक)
Karman Line बताती है कहाँ से होती है अंतरिक्ष की शुरुआत

नासा अधिकारियों ने पूछे जाने पर बताया कि वैज्ञानिकों को डीप स्पेस की पहली कलर इमेज और स्पौक्ट्रोस्कोपित डेटा इस टेलीस्कोप के जरिए संभव हो पाया है। नासा को उम्मीद है कि यह दूरबीन 20 साल तक काम करेगी। जोनाथन गार्डनर, जोकि नासा में वेब के डिप्टी सीनियर प्रोजेक्ट साइंटिस्ट हैं, बताते हैं कि यह वेब आकाशगंगाओं की तलाश में बढ़ेगा, और हो सकता है कि बिग बैंग के बाद समय में पीछे की ओर भी जाए। उन आकाशगंगाओं से प्रकाश को खुद तक पहुंचने में कई अरब साल लगे हैं।

दरअसल पिछले महीने ही प्रशासक बिल नेल्सन ने दावा किया था कि वो मानव जाति को ब्रह्मांड को देखने का एक नया दृष्टिकोण देने जा रहे हैं। यह एक ऐसा दृश्य होगा जो पहले कभी नहीं देखा सुना गया होगा। इसी के तहत इस टेलिस्कोप निर्माण में लगभग 900 करोड़ डॉलर का व्यय हुआ है। अभी फिलहाल यह धरती के 15 लाख किलोमीटर दूर सूर्य की परिक्रमा कर रहा है। सबसे दिलचस्प बात यह है कि इसमें लगे हुए उपकरण टेलिस्कोप को धूल और गैस के पार भी देखने में मदद करते हैं। यहाँ बता दें की इसे दक्षिण अमेरिका के उत्तरपूर्वी तट पर फ्रेंच गुयाना से प्रक्षेपित किया गया था। पिछले साल दिसंबर में नासा ने जेम्स वेब टेलीस्कोप को लॉन्च किया। इस निर्माण प्रक्रिया में यूरोपियन स्पेस एजेंसी और केनेडियन स्पेस एजेंसी भी अपना भरपूर सहयोग दे रही हैं।

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com