वैज्ञानिकों का दावा, पृथ्वी के अलावा और भी हैं इंसान के जिंदा रहने योग्य ग्रह: Super Earth Exoplanet

वैज्ञानिकों ने की दो Exoplanet की खोज
वैज्ञानिकों का दावा पृथ्वी के अलावा और भी हैं इंसान के जिंदा रहने योग्य ग्रह: Super Earth Exoplanet
वैज्ञानिकों का दावा पृथ्वी के अलावा और भी हैं इंसान के जिंदा रहने योग्य ग्रह: Super Earth ExoplanetWikimedia Commons

एक लंबे अरसे से वैज्ञानिक एक ऐसी खोज कर रही थी जिनसे पृथ्वी के अलावा भी इंसान को रहने योग्य ग्रह मिले। इस रिसर्च के पूरा होने पर वैज्ञानिकों द्वारा यह दावा किया है कि उन्होंने दो ऐसे exoplanet की खोज की है जिन पर इंसान जीवित रह सकता है। इन ग्रहों के नाम जानने से पहले आपके लिए यह जानना आवश्यक है कि exoplanet क्या होते हैं? विज्ञान की दृष्टि से देखा जाए तो ऐसे प्लेनेट जिनका सूरज कोई और होता है। या ऐसे ग्रह है जो सौरमंडल के बाहर होते हैं जो exoplanet कहलाते हैं।

वैज्ञानिकों का दावा पृथ्वी के अलावा और भी हैं इंसान के जिंदा रहने योग्य ग्रह: Super Earth Exoplanet
BHU के छात्र करेंगे अमेरिका, रूस, कनाडा के साथ Venus पर शोध

आखिर कौनसे है दो exoplanet?

एक्सोप्लेनेट की इस खोज का नेतृत्व एस्ट्रोफिजिसिस्ट लेटिटिया डेलरेज ने किया है इनके साथ इस खोज में पूरे विश्व के वैज्ञानिकों की एक बड़ी टीम शामिल हैं।इस रिसर्च में खोजे गए दोनों प्लैनेट्स पृथ्वी से यानि की हमसे 100 प्रकाश वर्ष दूरी पर स्थित है।

LP 890-9b पहला ग्रह!

इस प्लेनेट की खोज ट्रांजिटिंग एक्सोप्लैनेट सर्वे सैटेलाइट (TESS - Transiting Exoplanet Survey Satellite) की मदद से की गई हैं।यह पृथ्वी से तीन गुना बड़ा है।

पहले ग्रह की मदद से खोजा गया दूसरा ग्रह:LP 890-9c

यह ग्रह पृथ्वी से करीब चालीस गुना बड़ा हैं।इस ग्रह को LP 890-9b की मदद से खोजा गया है।

इस खोज में SPECULOOS दूरबीन का इस्तेमाल किया गया हैं।

आखिर क्यों किया वैज्ञानिकों ने इन ग्रहों पर जीवन का दावा?

इंसान को जीवित रहने के लिए पृथ्वी जैसे वातावरण की ही जरूरत है। वैज्ञानिकों के अनुसार यह ग्रह जिस तारे के चारों ओर और घूम रहे हैं उसका तापमान सूरज की तुलना में आधा है, यही कारण है कि वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि LP 890-9c पर जीवन संभव है यद्यपि पृथ्वी जैसा वातावरण बनाने के लिए वहां डेवलपमेंट करना आसान होगा। नासा की मिशन आर्टमिस 1 भी इसी दिशा में अग्रसर है हालांकि फ्यूल लीक की वजह से आर्टमिस 1 को कुछ समय के लिए रोक दिया गया हैं।इस मिशन की लॉन्च डेट 23 सितंबर तय की गई हैं।चीन का मिशन Chang'e मिशन जिसे हाल ही में मंजूरी मिली है आर्टमिस 1 मिशन जैसा ही हैं। इसमें कोई दो राय नहीं है कि आने वाले समय में हमें ऐसे बहुत से मिशन देखने को मिलेंगे।

(PT)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com