Monday, May 17, 2021
Home देश मेहनत के बाद पूरी तरह से भारतीय ऐप 'मिस्ट' डिजाइन हुआ।

मेहनत के बाद पूरी तरह से भारतीय ऐप ‘मिस्ट’ डिजाइन हुआ।

सोशल मीडिया (Social media) पर सिर्फ साकारात्मक चीजें ही नहीं चलती हैं बल्कि नाकारात्मक चीजें भी चलती हैं और कभी-कभी उसका असर बहुत बुरा होता है। कोरोना (Corona) काल में सोशल मीडिया ने बेहतर काम किया है और इससे लोगों को बहुत मदद भी मिली है लेकिन वहीं दूसरी ओर इसका नाकारात्मक पक्ष भी देखने को मिला है। एक गलत खबर के वायरल होने की वजह से चीजें किस कदर बिगड़ जाती है, यह किसी को बताने की जरूरत नहीं। इतना ही नहीं कई बार सोशल मीडिया (Social media) मेन स्ट्रीम मीडिया की खबरों को खंडन भी करता है, इसलिए जरूरी है कि ‘मिस्ट’ ऐप (Mist App) की मदद से अपने प्लेटफॉर्म से नाकारात्मक चीजों को स्प्रेड न होने दें।

यह बात आम आदमी पार्टी (Asm adami party) के सांसद संजय सिंह ने यहां आयोजित एक सामारोह में पूरी तरह से भारतीय मोबाइल ऐप ‘मिस्ट’ (Mist app) की लॉन्चिंग के मौके पर कही। कार्यक्रम में इस ऐप को बनाने वाले वेस्टन ग्रुप (Western group) के निदेशक और मेस्ट4 भारत के फाउंडर क्षितिज सिंह (Kshitij singh), सीएमडी राजबीर सिंह (Rajbeer singh), सीईओ अनिल झा (Anil jha), डायरेक्टर ऑपरेशन सुनील झा (Sunil jha) आदि मौजूद थे।

इस मौके पर क्षितिज सिंह ने कहा कि कोरोना काल में जब डाटा की सुरक्षा को लेकर 24 जून को सरकार ने टिकटॉक को बंद कर दिया और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra modi) ने युवाओं से भारतीय एप डब्लप करने की अपील की तो उसके बाद उन्होंने मिस्ट एप के बनाने के बारे में सोचा और फिर 1 महीने की मेहनत के बाद पूरी तरह से भारतीय ऐप ‘मिस्ट’ (Mist) डिजाइन हुआ।

सोशल मीडिया (Social media) पर सिर्फ साकारात्मक चीजें ही नहीं चलती हैं बल्कि नाकारात्मक चीजें भी चलती हैं | (Unsplash)

क्षितिज ने दावा किया कि यह एप भारतीय कानून के अनुसार बना हुआ है और इसका डेटा पूरी सरह से सुरक्षित है। क्षितिज ने कहा कि भारतीय कम में ज्यादा चाहते हैं जो मिस्ट (Mist) पूरा करता है। उन्होंने कहा कि अभी तक हमारा देश खरीदार था पर अब मिस्ट के बाद वह दूसरे देशों को बेचने की स्थिति में होगा।

राजबीर सिंह (Rajbeer singh) ने कहा कि यह प्रधानमंत्री मोदी के सपने को साकार करने वाला है, क्योंकि उन्होंने ही युवाओं से देशी ऐप बनाने की अपील की थी। सिंह ने बताया कि अन्य ऐप जहां 35 एमबी जगह घेरते हैं तो मिस्ट एप सिर्फ 5 एमबी जगह ही घेरता है। इसकी वजह से मोबाइल हैंग नहीं होता है।

यह भी पढ़े :- महामारी के बाद के हालात में घर से काम करने के पक्ष में नहीं : भारतीय कंपनियां

राजबीर ने कहा कि सुरक्षा के मामले में भी यह पूरी तरह से सुरक्षित है। अन्य सोशल साइटों या एप पर किसी वीडियो को डिलीट कर दिया जाता है फिर भी वह सर्वर में रहता है, लेकिन इस एप में ऐसा नहीं है। मिस्ट को सबसे स्लो इंटनेट (Internet) पर चलने के लिए बनाया है। इससे यह फायदा होगा कि ग्रामीण इलाकों में जहां इंटरनेट बहुत स्लो चलता है। एसी स्थिति में भी मिस्ट काम करेगा। (आईएएनएस-SM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी