Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

मोदी के मंत्री मण्डल में दिखी 2022 यूपी विधानसभा चुनाव की झलक, साथ ही एमपी और पूर्वोत्तर पर भी रखा गया ध्यान

प्रधानमंत्री मोदी के कैबिनेट विस्तार में उत्तर-प्रदेश विधान-सभा की गूंज साफ-साफ सुनाई दी है। और मध्य प्रदेश और पूर्वोत्तर पर भी खास ध्यान दिया गया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कई मोर्चों को ध्यान में रखते हुए, कैबिनेट मंत्रिमंडल का विस्तार किया है।(आईएएनएस)

उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव की झलक मोदी के आज हुए मंत्री मण्डल(Modi cabinet) के विस्तार में देखने को मिली है। इस कैबिनेट विस्तार में राजनीतिक समीकरण के लिहाज से जातीय और क्षेत्रीय संतुलन साधने की पूरी कोशिश की गई है। आगामी विधानसभा चुनाव से पहले ओबीसी प्रतिनिधित्व बढ़ाया गया है। मोदी के मंत्री मण्डल(Modi cabinet) में मिशन 2022 की झलक साफ देखने को मिल रही है। यूपी से केंद्रीय मंत्रिमंडल में जिन सात सांसदों को शामिल किया गया है, उनमें मीरजापुर से सांसद अनुप्रिया पटेल (कुर्मी), लखनऊ की मोहनलालगंज संसदीय क्षेत्र से सांसद कौशल किशोर (पासी), महराजगंज संसदीय सीट से पंकज चौधरी (कुर्मी), जालौन सीट से सांसद भानु प्रताप वर्मा (कुर्मी) और बीएल वर्मा (कुर्मी) जो कि राज्यसभा में उत्तर प्रदेश से सदस्य हैं। एसपी सिंह बघेल आगरा से सांसद हैं जो कि दतिल वर्ग से आते हैं। अजय मिश्र (ब्राह्मण) लखीमपुर खीरी से सांसद हैं।

इन 7 में से सिर्फ एक सामान्य वर्ग से हैं। तीन-तीन मंत्री पिछड़ा वर्ग और दो दलित समुदाय से हैं। जाहिर है यूपी से बनाये गये मंत्रियों को 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव के नजरिये से चुना गया है। भाजपा जानती है कि पिछड़ों और दलितों को आगे करके ही चुनाव में फतह हासिल की जा सकती है। इसका उदाहरण 2017 और 2019 के चुनाव में देखने को मिला है।


2019 में जब मोदी सरकार सत्ता में आयी थी। तो उस दौरान साध्वी निरंजन ज्योति और संतोष गंगवार को मंत्री मण्डल में शामिल किया गया था। दोनों पिछड़े समाज से आते हैं। अब गंगवार को हटा कर 4 पिछड़े समाज के लोगों को जगह मिली है। मंत्री मण्डल में पिछड़े का दबदबा दिखाकर साफतौर से इस वर्ग को साधने की कोशिश की गयी है। यूपी से अब कुल 4 मंत्री मोदी कैबिनेट में हो जायेंगे जो पिछड़ी जाति से हैं।

जतीय गणित के हिसाब से यूपी में करीब 40 प्रतिशत पिछड़ा वोट बैंक है। इसके अलावा तकरीबन 25 प्रतिशत दलित हैं। इन दोनों वगरें का हिस्सा सपा और बसपा के पास रहता है। इसी पर सेंधमारी के लिए भाजपा ने यह बिसात विछाई है। भाजपा रणनीतिकारों का मानना है कि ब्राम्हण वोट उनके पाले में ही रहने वाला है। पिछड़ों और दलितों का कुछ हिस्सा और मिल जाए तो भाजपा को सत्ता पाने में और आसानी रहेगी।

बाहर से आए नेताओं को भी मिली मोदी कैबिनेट में जगह..

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, ज्योतिरादित्य सिंधिया को शपथ दिलाते हुए।(PIB)

मंत्रिमंडल विस्तार(Modi cabinet) में राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया और सांसद वीरेंद्र कुमार खटीक को शामिल कर मध्य प्रदेश और राजस्थान की हिस्सेदारी और बढ़ा दी गई है। इस तरह मोदी मंत्रिमंडल में राज्य से मंत्रियों की संख्या तीन से बढ़कर पांच हो गई है। सिंधिया और वीरेंद्र कुमार से पहले नरेंद्र सिंह तोमर, फग्गन सिंह कुलस्ते और प्रहलाद पटेल मंत्रिमंडल का हिस्सा थे। साथ ही बिहार से राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की सहयोगी अपना दल की अनुप्रिया पटेल, जो पूर्व में भी केंद्रीय मंत्री रह चुकी हैं, को भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नए मंत्रिमंडल में शामिल किया गया।

यह भी पढ़ें: सभी देशों के लिए उपलब्ध होगा कोविड टीकाकरण प्रौद्योगिकी मंच कोविन : प्रधानमंत्री

महाराष्ट्र के कोंकण क्षेत्र के मराठा नेता नारायण राणे को भी केबिनेट में जगह दी गई है। राणे ने अतीत में महाराष्ट्र सरकार में कई विभागों का कार्यभार संभाला है, लेकिन वह इससे पहले केंद्रीय मंत्रिमंडल में कभी शामिल नहीं हुए थे। सबसे अधिक संभावना है कि भाजपा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का मुकाबला करने के लिए उनका इस्तेमाल करेगी, जिनके साथ पार्टी के संबंध कभी गर्म तो कभी ठंडे होते रहे हैं।

पूर्वोत्तर पर दिया गया खास ध्यान…

असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल एवं प्रधानमंत्री मोदी।(PIB)

केंद्रीय मंत्रिमंडल में बुधवार को सर्बानंद सोनोवाल, राजकुमार रंजन सिंह और प्रतिमा भौमिक के शामिल होने के साथ ही पूर्वोत्तर राज्यों के केंद्रीय मंत्रियों की संख्या बढ़कर पांच हो गई है। किरेन रिजिजू, जिन्हें कैबिनेट रैंक में पदोन्नत किया गया है और रामेश्वर तेली नरेंद्र मोदी मंत्रालय में इस क्षेत्र के मौजूदा मंत्री हैं। असम के पूर्व मुख्यमंत्री सोनोवाल के लिए केंद्रीय मंत्री के रूप में यह उनकी दूसरी पारी है। शिक्षक से नेता बने राजकुमार रंजन सिंह, जो कि इनर मणिपुर से भाजपा के लोकसभा सदस्य हैं और प्रतिमा भौमिक, जो त्रिपुरा पश्चिम से लोकसभा के लिए चुनी गईं हैं, उन्हें पहली बार मंत्री पद मिला है।(आईएएनएस-SHM)

Popular

उदयपुर के लुंडा गांव की रहने वाली 17 साल की अन्नपूर्णा कृष्णावत को यूनेस्को की वर्ल्ड टीन पार्लियामेंट में इन्फ्लुएंसर सांसद चुना गया है। (IANS)

उदयपुर के लुंडा गांव की रहने वाली 17 साल की अन्नपूर्णा कृष्णावत(Annapurna Krishnavat) को यूनेस्को की वर्ल्ड टीन पार्लियामेंट(World Teen Parliament) में इन्फ्लुएंसर सांसद चुना गया है।

इस संसद के लिए आवेदन पिछले साल जुलाई में मंगाए गए थे। थीम थी- दुनिया को कैसे बेहतर बनाया जा सकता है।

Keep Reading Show less

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और गोरक्षनाथ पीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ (VOA)

बसपा प्रमुख मायावती(Mayawati) की रविवार को टिप्पणी, गोरखनाथ मंदिर की तुलना एक "बड़े बंगले" से करने पर, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ(Yogi Adityanath) ने तत्काल प्रतिक्रिया दी, जिन्होंने उन्हें मंदिर जाने और शांति पाने के लिए आमंत्रित किया।

मुख्यमंत्री, जो मंदिर के महंत भी हैं, ने ट्विटर पर निशाना साधते हुए कहा - "बहन जी, बाबा गोरखनाथ ने गोरखपुर के गोरक्षपीठ में तपस्या की, जो ऋषियों, संतों और स्वतंत्रता सेनानियों की यादों से अंकित है। यह हिंदू देवी-देवताओं का मंदिर है। सामाजिक न्याय का यह केंद्र सबके कल्याण के लिए कार्य करता रहा है। कभी आओ, तुम्हें शांति मिलेगी, ”उन्होंने कहा।

Keep Reading Show less

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया (Wikimedia Commons)

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री(Union Health Minister) मनसुख मंडाविया(Mansukh Mandaviya) ने सोमवार को 40 लाख से अधिक लाभार्थियों के लिए स्वास्थ्य सेवाओं और टेली-परामर्श सुविधा तक आसान पहुंच प्रदान करने के उद्देश्य से एक नया सीजीएचएस वेबसाइट और मोबाइल ऐप लॉन्च किया।

टेली-परामर्श की नई प्रदान की गई सुविधा के साथ, केंद्र सरकार स्वास्थ्य योजना (Central Government Health Scheme) के लाभार्थी सीधे विशेषज्ञ की सलाह ले सकते हैं, उन्होंने कहा।

Keep reading... Show less