आत्मनिर्भर भारत में योगदान के लिए मुंबई का सामर्थ्य कई गुना बढ़ा है- Narendra Modi

0
23
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Wikimedia Commons)

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने वर्चुअल तरीके से ठाणे-दिवा के बीच नवनिर्मित पांचवीं और छठी रेलवे लाइन का उद्घाटन किया। इस दौरान पीएम ने कहा कि, ठाणे-दिवा रेल लाइन के शुभारंभ पर हर मुंबईवासी को बहुत-बहुत बधाई. यह नई रेलवे लाइन मुंबईकरों के जीवन में बड़ा बदलाव लाएगी, उनके दैनिक जीवन को बेहतर बनाएगी। यह नई रेलवे लाइन मुंबई की कभी न खत्म होने वाली जिंदगी को और गति देगी।

सेंट्रल रेलवे लाइन पर 36 नए लोकल

narendra modi, mumbai

स्वतंत्र भारत की प्रगति में मुंबई महानगर का अहम योगदान रहा है- नरेंद्र मोदी (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने वर्चुअल संबोधन में कहा कि आज से सेंट्रल रेलवे लाइन पर 36 नए लोकल चलने वाले हैं, इनमें से ज्यादातर एसी ट्रेनें भी हैं। यह स्थानीय की सुविधाओं का विस्तार करने, स्थानीय को आधुनिक बनाने की केंद्र सरकार की प्रतिबद्धता का हिस्सा है।

स्वतंत्र भारत की प्रगति में मुंबई(Mumbai) महानगर का अहम योगदान रहा है। अब आत्मनिर्भर भारत(Atmanirbhar Bharat) के निर्माण में मुंबई की क्षमता को कई गुना बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है। इसलिए मुंबई में 21वीं सदी के बुनियादी ढांचे के निर्माण पर हमारा विशेष ध्यान है।


Islam और Mohammad पर Wasim Rizvi उर्फ Jitrendra Narayan Tyagi के विवादित बयान जानिए | Newsgram

youtu.be


पहले समन्वय की कमी थी, अब देश आगे बढ़ रहा है- पीएम

यह भी पढ़ें- हवा में फैले हमारी सांसो से निकलने वाले Corona के कण 200 फ़ीट की दुरी से भी कर सकते हैं लोगों को संक्रमित- स्टडी

पीएम मोदी ने कहा कि मुंबई के लिए अहमदाबाद-मुंबई हाई स्पीड रेल आज देश की जरूरत है. इससे मुंबई की क्षमता, सपनों के शहर के रूप में मुंबई की पहचान मजबूत होगी। इस परियोजना को तेजी से पूरा करना हम सभी की प्राथमिकता है। यूपीए सरकार पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने कहा कि पहले इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स सालों साल चलते रहते थे क्योंकि प्लानिंग से लेकर क्रियान्वयन तक में तालमेल का अभाव था, इस अप्रोच से 21वीं सदी के भारत के इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण संभव नहीं है, इसलिए हमने पीएम गतिशक्ति को नेशनल मास्टरप्लान बनाया है। कई सालों तक हम पर एक सोच हावी रही कि गरीब, मध्यम वर्ग के लोग जिन संसाधनों का इस्तेमाल करते हैं, उन पर निवेश नहीं करते। इस वजह से भारत के सार्वजनिक परिवहन की चमक हमेशा मंद रही है। लेकिन अब भारत उस पुरानी सोच को पीछे छोड़ते हुए आगे बढ़ रहा है।

Input-IANS; Edited By-Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here