मस्क ने बताया कि कैसे भारतीय मूल के अशोक एलुस्वामी बने Tesla के ऑटोपायलट हेड

0
15
मस्क ने भारतीय मूल के अशोक एलुस्वामी को बनाया टेस्ला का नया ऑटोपायलट हेड।

हाल ही में टेस्ला (Tesla) के संस्थापक एलन मस्क (Elon Musk) ने ट्विटर पर खुलासा किया है कि कैसे उन्होंने अपनी टेस्ला ऑटोपायलट टीम के लिए भारत के अशोक एलुस्वामी (Ashok Elluswamy) को निदेशक के रूप में चुना है।

एलुस्वाम पहले कर्मचारी थे जिन्हें 2015 में टेस्ला की ऑटोपायलट टीम के लिए काम पर रखा गया था, जब मस्क ने ट्विटर पर उम्मीदवारों से इस पोजिशन के लिए आवेदन करने के लिए कहा था।

मस्क (Elon Musk) ने नौकरी के लिए आवेदन करने के लिए एक लिंक के साथ ट्वीट किया, हमेशा की तरह, टेस्ला कट्टर AI इंजीनियरों की तलाश में है, जो उन समस्याओं को हल करने में मदद करते हैं जो सीधे लोगों के जीवन को बड़े पैमाने पर प्रभावित करती हैं।

इस पोजीशन के लिए आवेदन करना बहुत आसान था। इच्छुक उम्मीदवार नाम, ईमेल, सॉफ्टवेयर, हार्डवेयर या एआई में किए गए असाधारण काम जैसे क्षेत्रों को भरकर, PDF फॉर्म में अपना रिज्यूमे छोड़कर अप्लाई कर सकते हैं।

अशोक एलुस्वामी कौन हैं ?

अशोक एलुस्वामी भारतीय मूल के इंजीनियर हैं, जो वर्तमान में टेस्ला ऑटोपायलट इंजीनियरिंग के प्रमुख हैं।

आपको बता दें कि अशोक एलुस्वामी टेस्ला में शामिल होने से पहले, वैबको वाहन नियंत्रण प्रणाली और वोक्सवैगन इलेक्ट्रॉनिक रिसर्च लैब के साथ काम कर चुके हैं।

उन्होंने कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग गिंडी, चेन्नई से इलेक्ट्रॉनिक्स और संचार इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री और कानेर्गी मेलॉन विश्वविद्यालय से रोबोटिक्स सिस्टम डेवलपमेंट में मास्टर डिग्री प्राप्त की है।

मस्क (Elon Musk) ने ट्विटर के जरिए टेस्ला की ऑटोपायलट टीम के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि मेरी उस ट्वीट के जरिए ऑटो पायलट टीम में चुने जाने वाले अशोक पहले व्यक्ति हैं, जिसमें बताया गया था कि टेस्ला एक ऑटो पायलट टीम लॉन्च करने वाली है।

मस्क अक्सर ट्विटर (Twitter) के जरिए अपनी कंपनी के लिए लोगों की भर्ती करते हैं।

हाल ही में मस्क ने ट्वीट किया था कि वह आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) इंजीनियरों को काम पर रख रहे हैं, जो AI के जरिए दिन-प्रतिदिन की समस्याओं को हल करेंगे।

यह भी पढ़ें : Whatsapp ने नवंबर 2021 में 1.75 मिलियन से अधिक भारतीय खातों को बंद किया

मस्क ने जर्मन ऑटोमोटिव प्रकाशन ऑटो बिल्ड के साथ एक साक्षात्कार के दौरान अपनी भर्ती प्राथमिकताओं के बारे में बताया था कि उनकी कंपनी में भर्ती होने के लिए कॉलेज की डिग्री या हाई स्कूल की डिग्री की कोई आवश्यकता नहीं है। वह एक संभावित कर्मचारी की काबिलियत देखकर उसे काम पर रखते हैं। (आईएएनएस)

Input: IANS ; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here