Wednesday, November 25, 2020
Home देश रक्तदान से जुड़े मुस्लिम भ्रम को दूर करने में जुटे मुस्लिम...

रक्तदान से जुड़े मुस्लिम भ्रम को दूर करने में जुटे मुस्लिम युवा

रक्तदान की जरूरत को समझते हुए उत्तर प्रदेश के बरेली में मुस्लिम समुदाय से जुड़े, युवा बरेली सेवा क्लब संगठन ने इसे अपना अभियान बना लिया है।

By – विवेक त्रिपाठी

रक्तदान से जुड़ी मुस्लिम समाज की भ्रान्तियों को तोड़ने के लिए 15 युवाओं का एक मुस्लिम दल सक्रिय हो गया है। यह न सिर्फ रक्तदान करता है बल्कि समाज के उन लोगों को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित करता है जो भ्रान्ति के शिकार या रूढ़िवादी विचारधारा के हैं। यह बात अलग है कि इनके द्वारा कहीं भी रक्तदान के लिए कोई शिविर नहीं लगाया जाता। लेकिन अन्य जगहों में होंने वाले रक्तदान में यह हमेशा आगे रहते हैं।

युवा बरेली सेवा क्लब संगठन के अध्यक्ष गुलफाम अंसारी ने बताया की मुस्लिम समाज में रक्तदान को लेकर काफी भ्रान्तियां हैं जिसे दूर करने के लिए हमारा समूह आगे आया है। हमारे संगठन ने अभी तक 200 से ज्यादा लोगों को रक्तदान किया है। हम जरूरतमंदों को रक्तदान करते है। कभी-कभी ऐसी भी स्थिति आ जाती है जब जरूरतमंदों को इन ब्लड बैंकों से वांछित ग्रुप का ब्लड नहीं मिल पाता है। ऐसे में हमारा समूह रक्तदान के लिए आगे आ जाता है। हम धर्म और जाति को लेकर यह कार्य नहीं कर रहे है। रक्त की रजरूरत किसी को भी पड़ सकती है। लेकिन मुस्लिम समुदाय में बहुत सारे लोगों में शिक्षा का अभाव है ऐसे में उन्हें समझाना पड़ता है। इसलिए कैम्प के बदले हम जरूरतमंदों को रक्त देने में विश्वास करते हैं।

क्लब के अध्यक्ष गुलफाम अंसारी न केवल खुद बल्कि अपने साथ संगठन के 15 से 20 मुस्लिम युवको को रक्तदान के लिए हमेशा तैयार रखते हैं। रमजान के दिनों में भी यह संगठन रक्त की जरूरत पड़ने पर दान के लिए आगे रहता है। युवा बरेली सेवा क्लब मुस्लिम युवाओं का सामाजिक संगठन है जिसमें ज्यादातर मुस्लिम युवा हैं। इस क्लब के युवा हमेशा लोगो की मदद के लिए तैयार रहते हैं। इस समूह के सदस्य जरूरतमंदों के पास पहुंच जाते हैं एवं उन्हें रक्त मुहैया कराते हैं।

यह भी पढ़ें – भारतीय चैरिटी संस्था इंग्लैंड में करा रही मुफ्त भोजन !

Bareilly Seva Club of Muslim Community
इस क्लब ने अभी तक 200 से ज्यादा लोगों को रक्तदान किया है। (Pixabay)

अंसारी ने बताया कि कोरोना संकट के दौरान जब अस्पतालों में रक्त घट रहा था, ऐसे में कोरोना से ठीक हुए लोगों को प्रेरित कर रहे थे। इस कारण करीब 100 लोगों ने प्लाज्मा और रक्त देकर लोगों को जान बचाई।

कुछ दिन पहले कोरोना के चलते लॉकडाउन में एक गर्भवती महिला को अचानक खून की जरूरत आन पड़ी। उसका पति बहुत गरीब था। खाने के लिए भी पैसे नही थे। प्रसव पीड़ा के दौरान उसकी रक्त की जरूरत के लिए अध्यक्ष गुलफाम अंसारी को फोन आया और वे खून देने पहुंच गए।

गुलफाम बताते हैं कि लॉकडाउन के दौरान काफी कोशिश की गई कि किसी को खून की कमी से दिक्कत न हो। इसके लिए ब्लड बैंक के संपर्क में रहा गया। अंसारी बताते हैं कि संगठन के चंगेज खान, जुबैर खान, तफ्सीर अहमद, मंजर अली, राजा खान, मोमिन अल्वी, डॉ. अहमद खान, डॉ शाजेब अंसारी, आदिल यार खान, डॉ परवेज खान, बबलू जाफरी, उमैर खान, शादाब अख्तर, अंसार अहमद, अकील खान, सफदर अली लगातार जरूरतमंदो को रक्त उपलब्ध कराने के लिए तैयार रहते हैं।

यह भी पढ़ें – दिव्यांगों में मुफ्त बांटा जाएगा आर्टिफिशियल लिम्ब

क्लब की ओर से केवल रक्तदान ही नहीं बल्कि और भी कई कार्य किये जा रहे हैं। इसमें गरीबों को इलाज उपलब्ध करवाना, जरूरतमंदो को राशन, शिक्षा उपलब्ध करवाना और सरकार की ओर से मिल रही मदद के लिए लोगों को जागरूक करना भी शामिल है।

उन्होंने बताया कि मजबूर सड़क पर होते हैं। हम उन लोगो को खाना और कपड़े की व्यस्था करते हैं। अंसारी कहते हैं कि भगवान ने हमको इंसान की मदद करने के लिए इस दुनिया मे भेजा है। लोगो की मदद करना इंसान अपना धर्म समझ ले तो कोई इंसान परेशान नही होगा और भगवान भी खुश होंगे। तब यह हमारी सच्ची इबादत होगी। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
173FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

हाल की टिप्पणी