Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
ज़रूर पढ़ें

मिस्त्र की राजधानी काहिरा में मिला 4500 हज़ार साल पुराना सूर्य मंदिर

पुरातत्विदों के मुताबिक यह मंदिर मिस्त्र के पांचवे साम्राज्य के फ़राओ नसीरी इनी ने बनवाया था।

पूर्ततत्विदों द्वारा खोजा गया सूर्य मंदिर। (Twitter)

भारत का सनातन धर्म(Eternal Religion) पुरे विश्व भर में कितना प्रचलित ही यह बात किसी से छिपी नहीं है। दुनिया के विभिन्न हिस्सों में भारत(India) के सनातन धर्म की तर्ज पर प्रकृति पूजा की प्रथा कायम है। हमारे देश में लोग जैसे हिन्दू देवी-देवताओं के साथ सूर्य, चन्द्रमा, जल और पृथ्वी की पूजा करते हैं वैसे ही विश्व के विभिन्न हिस्सों और प्राचीन स्थानों पर लोग प्रकृति के विभिन्न आयामों की पूजा करते हैं। ऐसा ही एक जीता-जागता उदहारण मिस्त्र में देखने को मिला।

मिस्त्र में लोगों ने 4500 हज़ार साल पुराना प्राचीन सूर्य मंदिर(Sun Temple) खोज निकाला है। मान्यता है की यह मंदिर मिस्त्र के राजाओं द्वारा बनवाये गए थे और उनके द्वारा इन मंदिरों में पूजा भी की जाती थी। फिलहाल खोजकर्ताओं ने ऐसे ही 6 मंदिरों की खोज की है लकिन अवशेष और साबुत एक से प्राप्त हुए हैं। इस बात से यह चीज़ तो स्पष्ट है की मिस्त्र के लोग सूर्य की आराधना करते थे।


खबर के मुताबिक यह मंदिर मिस्त्र(Egypt) की राजधानी काहिरा(Cairo) के दक्षिण में स्थित अबु गोराब में मिला है। कुछ पुरातत्वविदों ने मिस्र की राजधानी काहिरा के दक्षिण में स्थित अबु गोराब में सूर्य मंदिर के प्राचीन अवशेषों का पता लगाया है। इतिहास और पुरातत्व के क्षेत्र में इसे एक अभूतपूर्व और असाधारण खोज माना जा रहा है।

egypt, pharaoh nusiri ini एक अंदाज़े के मुताबिक यह मंदिर 4500 हज़ार पुराना है। (Twitter)

इस मंदिर की खोज के बाद दुनिया भर में इसके चर्चे सुनाई देने लगे हैं। पुरातत्विदों के मुताबिक यह मंदिर फ़राओ न्यूसिरी इनी(Pharaoh Nusiri Ini) ने बनवाया था जोकि मिस्त्र के पांचवे साम्राज्य के फ़राओ थे। उन्होंने ईसा पूर्व 25वीं शताब्दी में 30 साल तक राज किया था। पुरातत्विदों को और बारीकी से अध्ययन करने पर पता चला की मिस्त्र में और ज़्यादा सूर्य मंदिर हैं और इन्हे खोजने का काम शुरू हो चूका है। एक मंदिर तो ज़मीन में उभरा हुआ मिला हुआ था।

यह भी पढ़ें- नासा अन्तरिक्ष में नए लेज़र सेवाओं की शुरुवात करेगा

इन मंदिरों को मनवाने के पीछे राजाओं की यह मानसिकता थी की वे चाहते थे की लोग उन्हें भगवान् की तरह देखे। जिस फ़राओ के काल में यह मंदिर बनाया गया तब उन्होंने कई पिरामिड भी बनवाए। वे चाहते थे की उनकी मृत्यु के बाद उन्हें यहां दफनाया जाए जिसके बाद वे मिस्त्र के देवी-देवताओं के सामान हो जाएंगे और मृत्यु के बाद उसी रौब के साथ दुनिया पर राज करेंगे।

Input-Various Source ; Edited By- Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें

Popular

ओप्पो कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है। [Wikimedia Commons]

ओप्पो (Oppo) कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है। अब एक नई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि हैंडसेट को फाइन्ड एन 5जी कहा जा सकता है। टिपस्टर डिजिटल चैट स्टेशन के अनुसार, आगामी फोल्डेबल स्मार्टफोन का नाम फाइन्ड एन 5जी होगा। इसमें एक रोटेटिंग कैमरा मॉड्यूल भी हो सकता है जो उपयोगकर्ताओं को मुख्य सेंसर का उपयोग करके उच्च-गुणवत्ता वाली सेल्फी क्लिक करने की अनुमति देगा।

ऐसा कहा जा रहा है कि यह फोन 7.8 से 8.0 इंच की ओएलईडी स्क्रीन 2के रिजॉल्यूशन और 120हट्र्ज की रेफ्रेश रेट के साथ है। डिवाइस में साइड-माउंटेड फिंगरप्रिंट रीडर होने की संभावना है। हुड के तहत, यह स्नैपड्रैगन 888 मोबाइल प्लेटफॉर्म द्वारा संचालित होगा।

Keep Reading Show less

विपक्ष के 12 सांसदों को राज्यसभा से निलंबित।(Wikimedia Commons)

संसद के शीतकालीन सत्र के पहले ही दिन विपक्ष के 12 सांसदों को राज्यसभा(Rajya Sabha) से निलंबित(Suspended) किया गया है। अब ये 12 सांसद संपूर्ण सत्र के दौरान सदन नहीं आ पाएंगे। निलंबित सांसद कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, भाकपा, माकपा और शिवसेना से हैं। अब आप लोग सोच रहे होंगे संसद का आज पहला दिन और इन सांसदो को पहले दिन ही क्यों निष्कासित कर दिया गया?

इस मामले की शुरुआत शीतकालीन सत्र से नहीं बल्कि मानसून सत्र से होती है। दरअसल, राज्यसभा(Rajya Sabha) ने 11 अगस्त को संसद के मानसून सत्र के दौरान सदन में हंगामा करने वाले 12 सांसदों को सोमवार को संसद के पूरे शीतकालीन सत्र के लिए निलंबित कर दिया। ये वही सांसद हैं, जिन्होंने पिछले सत्र में किसान आंदोलन(Farmer Protest) अन्य कई मुद्दों को लेकर संसद के उच्च सदन(Rajya Sabha) में खूब हंगामा किया था। इन सांसदों पर कार्रवाई की मांग की गई थी जिस पर राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू को फैसला लेना था।

Keep Reading Show less

मस्क ने कर्मचारियों से टेस्ला वाहनों की डिलीवरी की लागत में कटौती करने को कहा। [Wikimedia Commons]

टेस्ला के सीईओ एलन मस्क (Elon Musk) ने कर्मचारियों से आग्रह किया है कि वे चल रहे त्योहारी तिमाही में वाहनों की डिलीवरी में जल्दबाजी न करें, लेकिन लागत को कम करने पर ध्यान दें, क्योंकि वह नहीं चाहते हैं कि कंपनी 'शीघ्र शुल्क, ओवरटाइम और अस्थायी ठेकेदारों पर भारी खर्च करे ताकि कार चौथी तिमाही में पहुंचें।' टेस्ला आम तौर पर प्रत्येक तिमाही के अंत में ग्राहकों को कारों की डिलीवरी में तेजी लाई है।

सीएनबीसी द्वारा देखे गए कर्मचारियों के लिए एक ज्ञापन में, टेस्ला के सीईओ (Elon Musk) ने कहा कि ऐतिहासिक रूप से जो हुआ है वह यह है कि 'हम डिलीवरी को अधिकतम करने के लिए तिमाही के अंत में पागलों की तरह दौड़ते हैं, लेकिन फिर डिलीवरी अगली तिमाही के पहले कुछ हफ्तों में बड़े पैमाने पर गिर जाती है।'

Keep reading... Show less