World Water Day: जलवायु परिवर्तन से जल संबंधी आपदाएँ आने की आशंकाएं तेज़

World Water Day पर हमे कुछ ऐसी बातें जननी चाहिए जिनपर हमारा भविष्य निर्भर है। अन्यथा बहुत देर हो जाएगी।
 | 
विश्व मौसम संगठन ने चेतावनी दी है कि जलवायु परिवर्तन, पानी से संबंधित आपदाओं को तेज कर रहा है।(VOA)

By: Lisa Schlein

विश्व मौसम संगठन(World Meteorological Organization) ने चेतावनी दी है कि जलवायु परिवर्तन(Climate Change), पानी से संबंधित आपदाओं को तेज कर रहा है, जिससे दुनिया भर में अरबों लोगों के जीवन और आजीविका को खतरा है। जलवायु से संबंधित खतरों में बाढ़ और लंबे समय तक रहने वाले सूखा शामिल हैं। जलवायु परिवर्तन बारिश के पैटर्न को भी बदल रहा है, पानी की उपलब्धता को प्रभावित कर रहा है और जिसके कारन दुनिया भर में बाढ़ और सूखे का खतरा बढ़ रहा है। डब्लूएमओ का कहना है कि पानी के बिंदुओं और स्वच्छता सुविधाओं को नष्ट करने और जल स्रोतों को दूषित करने से बाढ़ का खतरा बढ़ जाता है। परिणामस्वरूप, WMO के प्रवक्ता क्लेर नूलिस(Clare Nullis) का कहना है कि अरबों लोगों के पास स्वच्छ पानी और स्वच्छता आभाव है।

“इसलिए, वैश्विक आबादी के 39 प्रतिशत लोगों को स्वच्छ पीने के पानी तक उपलब्ध नहीं है। यह समस्या के मुख्य रूप से सामाजिक-आर्थिक परिवर्तनों, जनसंख्या वृद्धि के कारण, पानी के स्रोतों में परिवर्तन जैसे ग्लेशियरों का उम्मीद से ज़्यादा पिघलना, जैसे कारणों से पैदा हुई है। डब्लूएमओ ग्लेशियरों को दुनिया के पानी के टावर कहता है। यह बर्फ के आवरण के पिघलने की चेतावनी देता है और यही ग्लेशियर अधिक खतरों की ओर ले जा रहे हैं और सैकड़ों करोड़ लोगों की लम्बे-समय की जल सुरक्षा को खतरे में डाल रहे हैं।

world water day
ग्लेशियर का तेज़ी पिघलना पानी की समस्या को न्यौता दे रहा है।(Pixabay)

नलिस ने कहा कि यह सबसे नाटकीय उदाहरणों में से एक है कि, "ताजिकिस्तान में देखा जा सकता है, एक ऐसा देश जहां 20 वीं शताब्दी में 14,500 से अधिक ग्लेशियर थे।आज, इनमें से एक हजार से अधिक पूरी तरह से पिघल गए हैं और इसकी कुल मात्रा में एक तिहाई की कमी आई है। यह बेहद कम समय में हिमस्खलन, कीचड़ के प्रवाह, बाढ़ जैसे अन्य अधिक खतरों की ओर जाता है - जिसे हम 'ग्लेशियर आउटबर्स्ट' कहते हैं।" 

यह भी पढ़ें: UN की रिपोर्ट में कहा गया की खाने की बर्बादी का सही डाटा ग़ायब है ? 

ग्लेशियर पानी का एक प्रमुख स्रोत हैं। लंबे समय के खतरों को ध्यान में रखते हुए, नुलिस ने चेतावनी दी कि ग्लेशियर पिघलने से कई लाखों लोगों के लिए पानी का तनाव बढ़ जाएगा। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया में एक ही घटना दोहराई जा रही है। WMO का कहना है कि दुनिया भर के आधे से अधिक देशों में पानी के लिए कोई गुणवत्ता प्रबंधन प्रणाली नहीं है। एजेंसी दुनिया के घटते जल स्रोतों की सुरक्षा और जलवायु परिवर्तन को कम करने पर अधिक ठोस कार्रवाई के लिए कह रही है।(VOA)

(हिंदी अनुवाद: शान्तनू मिश्रा)