Sunday, May 16, 2021
Home देश स्वास्थ्य म्यूटेशन एक वर्ष में कोविड वैक्सीन को बेअसर कर सकते हैं :...

म्यूटेशन एक वर्ष में कोविड वैक्सीन को बेअसर कर सकते हैं : विशेषज्ञ

प्रकाशित सर्वेक्षण के परिणाम दुनिया को जोखिम की चेतावनी देते हैं जो यह सुनिश्चित करने में विफल है कि सभी देशों को कोविड-19 से लोगों को बचाने के लिए पर्याप्त टीके हैं।

म्यूटेशन पीपुल्स वैक्सीन एलायंस द्वारा 28 देशों के 77 महामारी विज्ञानियों, वायरोलॉजिस्ट और संक्रामक रोग विशेषज्ञों में से दो-तिहाई का कहना है कि COVID-19 के टीके एक वर्ष या उससे कम समय में बेअसर हो सकते हैं। मंगलवार को प्रकाशित सर्वेक्षण के परिणाम दुनिया को जोखिम की चेतावनी देते हैं जो यह सुनिश्चित करने में विफल है कि सभी देशों को COVID-19 से लोगों को बचाने के लिए पर्याप्त टीके हैं।

सर्वेक्षण में शामिल लोगों में से लगभग एक तिहाई ने नौ महीने या उससे कम की समय सीमा दी। आठ में से एक ने कहा कि वे मानते हैं कि म्यूटेशन वर्तमान टीकों को अप्रभावी नहीं करेगा। भारी बहुमत यानी 88 प्रतिशत ने कहा कि कई देशों में लगातार कम वैक्सीन कवरेज से वैक्सीन प्रतिरोधी उत्परिवर्तन दिखाई देने की अधिक संभावना होगी। अफ्रीकी गठबंधन, ऑक्सफैम और यूएनएड्स सहित 50 से अधिक संगठनों के गठबंधन पीपुल्स वैक्सीन एलायंस ने चेतावनी दी है कि वर्तमान दर पर यह संभावना थी कि गरीब देशों के बहुमत में केवल 10 प्रतिशत लोगों को अगले वर्ष में टीका लगाया जाएगा।

COVID 19 new variant
COVID 19 का नया म्यूटेशन कर सकता है कोरोना टीके को बेअसर।(Unsplash)

सर्वेक्षण में शामिल लोगों में से लगभग तीन-चौथाई जिनमें जॉन हॉपकिन्स, येल, इंपीरियल कॉलेज, लंदन स्कूल ऑफ हाइजीन एंड ट्रॉपिकल मेडिसिन, कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी, एडिनबर्ग विश्वविद्यालय और केप टाउन विश्वविद्यालय – सहित महामारीविद्, विषाणुविज्ञानी और संक्रामक रोग विशेषज्ञ शामिल थे, ने कहा कि प्रौद्योगिकी और बौद्धिक संपदा का खुला साझाकरण वैश्विक वैक्सीन कवरेज बढ़ा सकता है।

ब्रिटेन(Britain) में एडिनबर्ग विश्वविद्यालय में ग्लोबल पब्लिक हेल्थ के प्रोफेसर देवी श्रीधर(Devi Shridhar) ने एक बयान में ने कहा, “जितना अधिक वायरस फैलता है, उतनी अधिक संभावना है कि उत्परिवर्तन और परिवर्तन उत्पन्न होंगे, जो हमारे वर्तमान टीकों को अप्रभावी बना सकते हैं। इसी समय, गरीब देशों को बिना वैक्सीन और ऑक्सीजन जैसे बुनियादी चिकित्सा आपूर्ति के बिना पीछे छोड़ दिया जा रहा है।”

यह भी पढ़ें: कोविड के UK  वैरिएंट का ब्रिटेन में उच्च मृत्युदर से है संबंध : शोध

उन्होंने कहा, “जैसा कि हमने सीखा है, वायरस सीमाओं के बारे में परवाह नहीं करते हैं, हमें दुनिया में हर जगह जितनी जल्दी हो सके उतने लोगों को टीकाकरण करना है। इसके आगे बढ़ने के बजाय इंतजार और घड़ी क्यों करें?” जबकि उन्होंने येल विश्वविद्यालय में महामारी विज्ञान के एसोसिएट प्रोफेसर, ग्रेग गोंसाल्विस, एक समय-सीमा को निर्दिष्ट नहीं किया था, विश्व स्तर पर टीकाकरण करने की तात्कालिकता को प्रतिध्वनित किया।(आईएएनएस-SHM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी