Tuesday, October 20, 2020
Home मनोरंजन हॉरर फिल्म 'तुम्बाड' में 'हस्तर' किरदार का रहस्य

हॉरर फिल्म ‘तुम्बाड’ में ‘हस्तर’ किरदार का रहस्य

भारत की पहली अवधि हॉरर फिल्म 'तुम्बाड' ने पूरी दुनिया में सिनेमा प्रेमियों के लिए एक नया आयाम खोल दिया है। फिल्म में तुम्बाड के ग्रामीण गांव को दर्शाया गया है।

भारत की पहली अवधि हॉरर फिल्म ‘तुम्बाड’ ने पूरी दुनिया में सिनेमा प्रेमियों के लिए एक नया आयाम खोल दिया है। फिल्म में तुम्बाड के ग्रामीण गांव को दर्शाया गया है। एक खस्ताहाल महल जो किसी प्राचीन, मासिक धर्म और भयावहता द्वारा संरक्षित होता है और यह एक समृद्धि की देवी का भूला हुआ पुत्र- हस्तर के बारे में है। फिल्म ने दुनिया भर में अपनी अनूठी कहानी, निर्देशन और रहस्य के साथ आलोचकों और दर्शकों को काफी प्रभावित किया था और 75वें वेनिस अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में आलोचकों के सप्ताह खंड में प्रीमियर करने वाली पहली भारतीय फिल्म बन गई है।

फिल्म की रिलीज के 2 साल बाद इसके क्रिएटिव डायरेक्टर आनंद गांधी ने फिल्म के निर्माण से जुड़े एक रहस्य से पर्दा उठाया है।

यह भी पढ़ें: मैं भी बाकियों से अलग नहीं हूँ : मनोज बाजपेयी

गांधी ने कहा, “जबकि रंग प्रणालियां किसी भी कथा के लिए आवश्यक हैं, यह अक्सर गलत समझा जाने वाला विज्ञान है। हमारा मन रंग, पैटर्न, बनावट और विरोधाभासों के साथ विशिष्ट संबंध बनाने के लिए विकसित हुए हैं – उदाहरण के तौर पर, इस क्षमता ने अतीत में हमें घास में छिपे तेंदुओं को पहचानने में मदद की है। लेकिन इस भावना से हमेशा पीले घास में काले धब्बों को ढूंढने की आवश्यकता नहीं होती है। यह गलाफहमी एक बच्चे के मुस्कुराते हुए चेहरे पर झूठी लाली को देख कर भी हो सकती है। यहां आपके पास गुलाबी, नीले और चमकीले संतृप्त रंगों द्वारा निर्मित डरावनी फिल्म है। हॉरर का निर्माण दिमाग के कुछ हिस्सों द्वारा किया गया है और इसलिए यह कंटेंट द्वारा प्रेरित है।”

फिल्म निर्माता आनंद ने तुम्बाड और इसके केंद्रीय चरित्र के पीछे के सिद्धांत को साझा किया है, जिस पर पहले कभी चर्चा नहीं हुई है।

उन्होंने कहा, “सदियों से पुरुषों को अपने जन्म के गुण से सामाजिक अधिकार, संपत्ति पर नियंत्रण, और नैतिक अधिकार प्रदान किया गया है। पितृसत्तात्मक व्यवस्था ने अपने लिंग या उनकी जाति के कारण सिस्टम से बाहर किए गए लोगों के सबसे मौलिक अधिकारों का भी लगातार उल्लंघन करने के लिए कुछ शक्ति प्रदान की।”

निस्संदेह, तुम्बाड जैसी कल्ट फिल्म बनाने में एक पूरी तरह से अलग अंतर्²ष्टि प्रदान की गई है।(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
167FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया..” के सदाबहार गायक जसपाल सिंह की कहानी

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया” इस गाने को किसने नहीं सुना होगा। अगर आप 80’ के दशक से हैं...

हाल की टिप्पणी