Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

नार्को-नक्सल सिंडिकेट्स का पदार्फाश, अधिकारियों ने तस्करी वाले रेल मार्गों का पता लगाया

एजेंसियों ने रेलवे की बोगियों में, जहां ड्रग्स पैक किए जा रहे थे, उसका पता लगाया गया है। इसके अलावा नक्सलियों की भूमिका का भी पता चला है।

By: दीपक शर्मा


शीर्ष दवा सिंडिकेट्स के खिलाफ चल रहे सबसे बड़े गुप्त अभियानों में से एक में, सुरक्षा एजेंसियों ने देश के दो मार्गों में से एक का खुलासा किया है, जहां से उत्तर भारत में नई दिल्ली(New Delhi) और दक्षिण भारत में हैदराबाद(Hydrabad) के लिए नशीले पदार्थों(Drugs) की तस्करी की जा रही थी।

ओडिशा-आंध्र प्रदेश(Odisha-Andhra Pradesh) नक्सली(Naxalite) गलियारे में नक्सल समूहों और म्यांमार(Myanmar) से संचालित होने वाले ड्रग सिंडिकेट(Drugs Syndicate) द्वारा दोनों मार्गों का उपयोग किया जा रहा था।

नारकोड (नारकोटिक्स से संबंधित समन्वय एजेंसी) के साथ, रेलवे सुरक्षा बल (RPF) ने ईस्ट कोस्ट रेलवे(East Coast Railways) और नॉर्थईस्ट फ्रंटियर रेलवे(North Frontier Railways) पर काम कर रहे कई तस्करी गिरोह का भंडाफोड़ किया है।

RPF के महानिदेशक अरुण कुमार(Arun Kumar) ने आईएएनएस को बताया, हमारी विशेष खुफिया शाखा ने केंद्रीय एजेंसियों के प्रमुख इनपुट विकसित किए और पता चला कि गिरोह नई दिल्ली(New Delhi) और हैदराबाद(Hydrabad) के लिए गुवाहाटी, भुवनेश्वर(Bhuvneshwar) और विशाखापत्तनम(Visakhapatnam) स्टेशनों से ड्रग्स(Drugs) अपलोड कर रहे थे। रेलवे की बोगियों में, जहां ड्रग्स पैक किए जा रहे थे, उसका पता लगाया गया है। इसके अलावा नक्सलियों(Naxalite) की भूमिका का भी पता चला है।

RPF द्वारा पहचाने गए ड्रग तस्करी(Drugs) के हॉटस्पॉट में से एक मलकानगिरी है, जो कि ओडिशा में नक्सलवाद(Naxalism) से सबसे ज्यादा प्रभावित जिलों में से एक है।

रेलवे द्वारा की जा रही है ड्रग्स तस्करी।(फाइल फोटो)

ड्रग्स(Drugs) को पहले आंध्र प्रदेश(Andhra Pradesh) में तस्करी किया जा रहा था और बाद में विशाखापत्तनम(Visakhapatnam) रेलवे स्टेशन से अपलोड किया गया था। भुवनेश्वर(Bhuvneshwar) से विशाखापत्तनम(Visakhapatnam) मार्ग पर पिछले साल RPF ने 24 मामले दर्ज किए, 35 ड्रग पेडलर्स(Drugs Peddler) को गिरफ्तार किया और 91.27 लाख रुपये से अधिक की कीमत के नशीले पदार्थों(Drugs) को जब्त किया गया। यह कार्रवाई ऐसे समय पर हुई है, जब कोविड(COVID-19) प्रतिबंधों के दौरान न्यूनतम रेल यातायात ही चालू था। इस दिशा में काम करते हुए दक्षिण मध्य रेलवे ने भी 32 मामले दर्ज किए और पिछले साल 17 ड्रग पेडलर्स को गिरफ्तार किया।

रिपोटरें में कहा गया है कि ओडिशा(Odisha), छत्तीसगढ़(Chhattisgarh) और आंध्र प्रदेश(Andhra Pradesh) में नक्सल(Naxalite) समूह अपने कैडर को और आगे बढ़ाने और हथियार एवं गोला-बारूद(Explosive) खरीदने के लिए ड्रग मनी का इस्तेमाल करते हैं।

1985 बैच के आईपीएस अधिकारी कुमार ने कहा, काफी हद तक, हमने प्रमुख रेल मार्गों की पहचान की है और देश के विभिन्न हिस्सों में ड्रग्स(Drugs) के परिवहन के स्रोत का पता लगाया है। 11 अप्रैल 2019 को RPF को नारकोटिक्स ड्रग्स और साइकोट्रॉपिक सब्सटेंस (NDPS) अधिनियम के तहत ड्रग्स(Drugs) जब्त करने और तस्करी में शामिल लोगों को गिरफ्तार करने के लिए अधिकार दिए गए हैं। नतीजे फलदायी रहे हैं।

यह भी पढ़ें: रेलवे की ‘बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट’ से बढ़ी आय, व्यापारियों को मिला लाभ

2019 के बाद से आरपीएफ ने एनडीपीएस अधिनियम के तहत 1085 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है और 27 करोड़ रुपये से अधिक की ड्रग्स जब्त की हैं।

देश के पूर्वोत्तर भाग में, म्यांमार से संचालित अंडरवल्र्ड समूहों से जुड़े ड्रग सिंडिकेट्स पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे के माध्यम से हिरोइन और अन्य नशीले पदार्थों की खेप को आगे बढ़ा रहे थे।

गुवाहाटी में एनएफआर मुख्यालय धीरे-धीरे इस गोरखधंधे का हब बन गया था, जहां से ड्रग्स को नई दिल्ली ले जाया जाता था और बाद में उत्तर भारत के अन्य हिस्सों में वितरित किया जाता था। खुफिया एजेंसियों से इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस और इनपुट के माध्यम से आरपीएफ की विशेष टीमों ने विशिष्ट जानकारी विकसित की और कई खेप जब्त की। पिछले दो वर्षों में, पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे के तहत क्षेत्र में एनडीपीएस के तहत 92 मामले दर्ज किए गए हैं।(आईएएनएस-SHM)

Popular

मोहम्मद खालिद (IANS)

मिलिए झारखंड(Jharkhand) के हजारीबाग निवासी मृतकों के अज्ञात मित्र मोहम्मद खालिद(Mohammad Khalid) से। करीब 20 साल पहले उनकी जिंदगी हमेशा के लिए बदल गई, जब उन्होंने सड़क किनारे एक मृत महिला को देखा। लोग गुजरते रहे लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया।

हजारीबाग में पैथोलॉजी सेंटर चलाने वाले खालिद लाश को क्षत-विक्षत देखकर बेचैन हो गए। उन्होंने एक गाड़ी का प्रबंधन किया, एक कफन खरीदा, मृत शरीर को उठाया और एक श्मशान में ले गए, बिल्कुल अकेले, और उसे एक सम्मानजनक अंतिम संस्कार(Last Rites) दिया। इस घटना ने उन्हें लावारिस शवों का एक अच्छा सामरी बना दिया, और तब से उन्होंने लावारिस शवों को निपटाने के लिए इसे अपने जीवन का एक मिशन बना लिया है।

Keep Reading Show less

भारत आज स्टार्टअप की दुनिया में सबसे अग्रणी- मोदी। (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने आज अपने "मन की बात"("Mann Ki Baat") कार्यक्रम में देशवासियों से बात करते हुए स्टार्टअप के महत्व पर ज़ोर दिया। प्रधानमंत्री ने कहा की जो युवा कभी नौकरी की तलाश में रहते थे वे आज नौकरी देने वाले बन गए हैं क्योंकि स्टार्टअप(Startup) भारत के विकास की कहानी में महत्वपूर्ण मोड़ बन गया है। उन्होंने आगे कहा की स्टार्ट के क्षेत्र में भारत अग्रणी है क्योंकि तक़रीबन 70 कंपनियों ने भारत में "यूनिकॉर्न" का दर्जा हासिल किया है। इससे वैश्विक स्तर पर भारत का कद और मज़बूत होगा।

उन्होंने आगे कहा की वर्ष 2015 में देश में मुश्किल से 9 या 10 यूनिकॉर्न हुआ करते थे लेकिन आज भारत यूनिकॉर्न(Unicorn) की दुनिया में भारत सबसे ऊँची उड़ान भर रहा है।

Keep Reading Show less